पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Madhya Pradesh Coronavirus Latest Update: Corona Infected Woman Dies In Bhopal Jayaprakash Government Hospital

भोपाल में कोरोना का दर्द:मां का शव लेकर बेटी भटकती रही; आरोप- स्टाफ ने यूं ही छोड़ दिया, अस्पताल प्रबंधन ने जवाब नहीं दिया

भोपालएक महीने पहले
भोपाल में कोरोना से मौत के बाद मां के साथ इस तरह भटकती रही युवती।
  • प्रतिबंधित क्षेत्र में भी बेटी बिना किसी सुरक्षा कवच के मां की लाश के साथ नजर आई
  • परिजन खुद ही बेड से उठाकर स्ट्रेचर पर रखते नजर आए, किसी तरह मोर्चरी में रखा

भोपाल के जयप्रकाश अस्पताल (जेपी 1250) में कोरोना संक्रमित एक महिला की मौत के बाद उनकी बेटी ने अस्पताल प्रबंधन पर लापरवाही के गंभीर आरोप लगाए हैं। उसका कहना है कि अपने चाचा के साथ वह मां का शव लेकर भटकती रही। पहले तो इलाज में देरी की गई। ऑक्सीजन सप्लाई सही से नहीं हुई। वह अस्पताल-अस्पताल कलेक्टर और मंत्री के दरवाजे तक खटखटा आई, लेकिन मदद नहीं मिली। मौत के बाद भी उसकी मां को सुकून नहीं मिला और उन्हें यूं ही छोड़ दिया गया। परिजनों ने ही रात में शव को मोर्चरी में रखा। अस्पताल प्रबंधन ने कोई जवाब नहीं दिया।

प्रियंका ने मां की मौत के बाद अस्पताल प्रबंधन पर गंभीर आरोप लगाए।
प्रियंका ने मां की मौत के बाद अस्पताल प्रबंधन पर गंभीर आरोप लगाए।

कोलार निवासी प्रियंका ने बताया कि 43 साल की मां संतोष भोपाल कोऑपरेटिव सेंट्रल बैंक कोटरा सुल्तानाबाद ब्रांच में कार्यरत थीं। पिता की 8 साल पहले मौत के बाद मां को अनुकंपा नियुक्ति मिली थी। वह 14 सितंबर को कोरोना पॉजिटिव हुई थीं। दो प्राइवेट अस्पतालों में उनसे 50-50 हजार महज 18 घंटे के अंदर ले लिए गए, लेकिन इलाज अच्छे से नहीं किया गया। मजबूर होकर मैं अपनी मां को एंबुलेंस में बिठाकर करीब 13 घंटे तक शहर में इधर से उधर घूमती रही, लेकिन कहीं भी उनकी मां को भर्ती नहीं किया गया।

उन्होंने कलेक्टर से गुहार लगाई, तब जाकर जेपी अस्पताल में मां को भर्ती किया गया, लेकिन भर्ती करने के अलावा उनका किसी तरह का इलाज नहीं किया गया। मैं दिन भर अस्पताल के बाहर रहती थी। जरूरत पड़ने पर आईसीयू में जाकर मां की मदद करती थी। खाना-पीना भी उनकी तरफ से ही दिया जाता था। प्रियंका ने आरोप लगाया कि गुरुवार रात मां की मौत हो गई उसके बाद डॉक्टरों ने कहा कि अब तुम शव को ले जाओ। उन्होंने ना तो मां को पीपीई किट पहनाई और ना ही वार्डबॉय तक दिया। रात को वह अपने चाचा के साथ मां को आईसीयू बेड पर लेकर स्ट्रेचर तक लाए।

खुद ही परिजन बेड के साथ ही संतोष के शव को मोर्चरी में रखा।
खुद ही परिजन बेड के साथ ही संतोष के शव को मोर्चरी में रखा।

स्वास्थ्य शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग से भी मिली

प्रियंका ने बताया कि इलाज में लापरवाही को देखते हुए वह मंत्री विश्वास सारंग से भी मिलने गई थी। उन्होंने आश्वासन दिया था कि वह दिखाते हैं, लेकिन उसके बाद भी कुछ नहीं हुआ। मां को काफी तकलीफ होती रही थी। शाम 4:00 बजे मां से मिली थीं। उस दौरान वे ठीक लग रही थीं। उन्होंने बताया कि बीच-बीच में ऑक्सीजन नहीं मिलती है। प्रियंका ने आरोप लगाया कि अस्पताल प्रबंधन उनसे ही ऑक्सीजन के सिलेंडर भी यहां से वहां रखवाया गया।

मदद नहीं मिलने के कारण परिजनों को बेड को ही बाहर ले जाना पड़ा।
मदद नहीं मिलने के कारण परिजनों को बेड को ही बाहर ले जाना पड़ा।

अस्पताल प्रबंधन का जवाब नहीं आया

इस संबंध में जेपी के सिविल सर्जन आरके तिवारी से संपर्क किया, लेकिन उन्होंने न तो फोन रिसीव किया और नह एमएमएस का जवाब दिया।

भोपाल में आज 297 कोरोना केस

शुक्रवार को राजधानी में 297 कोरोना के नए मरीज मिले। इसके बाद भोपाल में कोरोना केस की संख्या 17486 केस हो गए हैं। अब तक 389 संक्रमितों की मौत हो चुकी है। चार इमली से 2, इब्राहिमगंज से एक, जहांगीराबाद में 1, बैरागढ़ थाने से 1, ईएमई सेंटर से 8, 25वीं बटालियन से 7 मरीज संक्रमित मिले।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- पिछले कुछ समय से आप अपनी आंतरिक ऊर्जा को पहचानने के लिए जो प्रयास कर रहे हैं, उसकी वजह से आपके व्यक्तित्व व स्वभाव में सकारात्मक परिवर्तन आएंगे। दूसरों के दुख-दर्द व तकलीफ में उनकी सहायता के ...

और पढ़ें