भाजपा मुख्यालय में चयनित शिक्षकों का धरना:वीडी शर्मा से मिलने पहुंचे चयनित शिक्षक आधा घंटा धरने पर बैठे; पुलिस ने बाहर निकाला; शर्मा ने मुलाकात कर मदद का दिया आश्वासन

3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भाजपा मुख्यालय में धरने पर बैठे अपात्र घोषित किए गए चयनित शिक्षक - Dainik Bhaskar
भाजपा मुख्यालय में धरने पर बैठे अपात्र घोषित किए गए चयनित शिक्षक

भाजपा मुख्यालय में बुधवार को प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा से मिलने पहुंचे उच्च माध्यमिक शिक्षक भर्ती-2018 के चयनित शिक्षक धरने पर बैठ गए। आधा घंटे तक धरने पर बैठने के बाद चयनित शिक्षकों को पुलिस ने मुख्यालय से बाहर निकाला। हालांकि वीडी शर्मा ने चयनित शिक्षकों के प्रतिनिधियों से मुलाकात कर उनको विभाग से बात कर हर संभव मदद का आश्वासन दिया। बता दें सरकार ने एक सत्र में दो डिग्री करने वाले चयनित शिक्षकों को अपात्र घोषित किया है। इससे 1500 से ज्यादा मेरिट सूची में आने वाले शिक्षक बाहर हो गए है।

माध्यमिक शिक्षक भर्ती-2018 के चयनित शिक्षक बृजलाल कहार ने बताया कि वह इससे पहले लोक शिक्षण संचालनालय में अधिकारियों के सामने अपनी बात रखने गए थे, लेकिन वहां पर उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही। स्कूल शिक्षा मंत्री के आश्वासन देने के बावजूद कोई कार्रवाई नहीं की गई। अपनी मांगों को लेकर भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा से बातचीत हुई थी। उन्होंने हमें मिलने का समय दिया था। हम उनसे मुलाकात करने के लिए भाजपा मुख्यालय आए थे, लेकिन पुलिस ने हमें बाहर निकाल दिया। कहार ने बताया कि हमारे प्रतिनिधियों से वीडी शर्मा जी ने मुलाकात की उन्होंने मदद का आश्वासन दिया है।

चयनित शिक्षक बोले-

स्कूल शिक्षा विभाग की तरफ से 2018 में उच्च माध्यमिक शिक्षक भर्ती का विज्ञापन निकला था। इसमें 17 हजार पद थे। इसमें अर्हता में मास्टर डिग्री और बीएड मांगा गया था। इसमें कहीं भी प्राइवेट और रेग्गुलर एक साथ दो डिग्री करने का भी कोई जिक्र नहीं था। विभाग ने जुलाई 2020 में एक आदेश निकाला कि एक सत्र में दो डिग्री लेने वाले उम्मीदवार अपात्र होंगे।

कब क्या हुआ-

उच्च माध्यमिक शिक्षक भर्ती-2018 की दिसंबर 2018 में परीक्षा आयोजित हुई। इसका अगस्त 2019 में रिजल्ट आया। इसमें 17 हजार लोगों की मेरिट सूची जारी की गई। इसके बाद च्वाइंस फिलिंग की प्रक्रिया भी पूरी करा ली गई। इसके बाद दस्तावेजों को ऑनलाइन जनवरी 2020 में अपलोड करा लिया गया। इसके बाद कोरोना के कारण दस्तावेजों का दस्तावेजों का सत्यापन रूक गया। अप्रैल 2021 में फिर से वेरिफिकेशन शुरू किया। मई-जून 2021 में अंतिम चयन सूची में 1500 अभ्यार्थियों को अपात्र घोषित कर दिया गया।

खबरें और भी हैं...