जेईई मेन फिजिक्स में स्कोर के पीछे न भागें:एक ही तरह के चार सवालों को हल करने की जगह एक सवाल को अलग-अलग तरह से करने की आदत डालें

भोपाल6 महीने पहले

जेईई मेन में हर विषय महत्वपूर्ण होता है। इंजीनियर की फिजिक्स मेडिकल की फिजिक्स से अलग होती है। इंजीनियरिंग की फिजिक्स को सीखना होता है, जिसके लिए उसे जीना जरूरी है। सिद्धांत कहता है कि एक ही तरह के चार सवालों को हल करने से अच्छा है कि एक ही सवाल को चार अलग-अलग तरह से हल करने की आदत डालें। स्कोर के पीछे न जाएं। यानी रटने की आदत को बदल दें। जानकारी और ज्ञान बढ़ाएं। जिस दिन फिजिक्स समझ गए, उस दिन मार्क्स अपने-आप आ जाएंगे। आइए जानते हैं एक्सपर्ट रणधीर सिंह (आकाश इंस्टीट्यूट, भोपाल के असिस्टेंट डायरेक्टर) से...

चुनौतियों को अपनाएं

फिजिक्स को समझने के लिए चुनौतियों को अपनाएं। उनसे सीखें। जब तक चुनौतियों को पूरा नहीं करोगे, आप कोई भी समस्या को सुलझा नहीं सकते हैं। खुद के साथ प्रतिस्पर्धा करना शुरू करें। इंजीनियर को स्मार्ट होना जरूरी होता है। इसलिए कड़ी मेहनत से ज्यादा जरूरी है कि स्मार्ट बनें। चीजों को समझे और प्रश्न को अपने तरीके से हल करने का प्रयास करें।

पढ़ाई का तरीका बदलना होगा

उदाहरण के लिए एक जार लें। इसमें भरने के लिए बड़े और छोटे पत्थर के साथ रेत लें। अगर जार में पहले रेत भरते हैं, तो फिर छोटे और बड़े पत्थरों के लिए जगह नहीं बचेगी। छोटे पत्थर पहले डालने कुछ रेत तो आए जाएगी, लेकिन बड़े पत्थर नहीं आएंगे। इसी तरह बड़े पत्थर डालने के बाद उसमें छोटे पत्थर और रेत आ सकती है। बड़े पत्थर से मतलब थ्योरी और कान्सेप्ट को समझें। छोटे पत्थर फॉमूलों के रूप में लें और अंत में न्यूमेरिकल रेत के सामान है। इस तरह पढ़ाई करने से सभी कुछ क्लियर रहेगा।

मुख्य चार समस्याएं होती हैं

  • प्रश्न ही समझ नहीं आना?
  • प्रश्न में कौन सा कान्सेप्ट उपयोग हो रहा?
  • कहां से प्रश्न को हल करना शुरू करें?
  • मैथमेटिक्स के प्रश्न और उत्तर में फंस जाते हैं?

इस तरह परेशानी को हल करें

  • प्रश्न को आराम से पढ़े। उसे विजुअलाइज्ड करें। प्रश्न क्या कह रहा है उसे समझें।
  • इसे रिकॉल करें कि इस तरह के प्रश्न पर क्या सीखा है।
  • प्रश्न को बार-बार पढ़ने की जगह उसमें क्या दिया है, उसे नोट करें। क्या पूछा है, उसे नोट करें। इससे पता चलेगा कि प्रश्न को क्या चाहिए।
  • सभी मुख्य बातें लिखने के बाद यह तय करें कि उसमें फॉमूर्ला क्या लगेगा।
  • इस तरह से सवाल का सही जवाब मिलता है।
  • ऑउट ऑफ द वे जाकर सोचना होगा, तभी हल आएंगे।

भास्कर एक्सपर्ट सीरीज में अगला वीडियो जेईई परीक्षा के केमिस्ट्री पर होगा। अगर आपका कोई सवाल हो, तो इस नंबर-9826857220 पर रविवार दोपहर 12 बजे तक वाट्सऐप कर सकते हैं।

IIT की तैयारी खुले दिमाग से करें:रटने से काम नहीं चलेगा; मैथ्स, केमिस्ट्री, फिजिक्स को जीना होगा, कॉन्सेप्ट क्लियर होने पर सफलता

JEE मेन में शॉर्टकट नहीं चलता:मैथ्स की चार स्टेप में प्लानिंग करें; कठिन सवाल में न उलझें, NTA abbhyas QUSEYION से तैयारी करें

एक्सपर्ट से जानिए कैसे पाएं NEET में सक्सेस:बायो में फुल मार्क्स लाने का फॉर्मूला; एनसीईआरटी में बोल्ड और हाई लाइट वर्ड से ही बनते हैं अधिकांश प्रश्न

कॉम्पिटिटिव एग्जाम के लिए 4 बातें जरूरी:एग्जाम और सब्जेक्ट क्या है, किस तरह के सवाल आते हैं; पहले से टारगेट तय करना जरूरी

एग्जाम के पहले 3 बातों का ध्यान रखें:तनाव के साथ ही 10 से 12 मिनट खराब होने से बचते हैं; रिजल्ट भी 15% से 20% बेहतर होगा

NEET में फिजिक्स में अच्छे स्कोर का मंत्र:पेपर में 67% सरल सवालों पर फोकस कर 100 मार्क्स हासिल कर सकते हैं; इतना ही करना काफी

खबरें और भी हैं...