पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Matters Rising In Bhopal And Indore, Medical Education Minister Vishwas Sarang Said That The Government Is Considering The Night Curfew

MP में बढ़ता कोरोना संक्रमण:भोपाल और इंदौर में बढ़ रहे मामले, चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग बोले-नाइट कर्फ्यू का सरकार कर रही विचार

भोपाल6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मध्यप्रदेश में कोरोना का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। इसमें सबसे ज्यादा मामले इंदौर और भोपाल में सामने आ रहे हैं। - Dainik Bhaskar
मध्यप्रदेश में कोरोना का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। इसमें सबसे ज्यादा मामले इंदौर और भोपाल में सामने आ रहे हैं।
  • सीएम के साथ आज शाम को होने वाली बैठक में लिया जा सकता है निर्णय

मध्यप्रदेश में कोरोना का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। इसमें सबसे ज्यादा मामले इंदौर और भोपाल में सामने आ रहे हैं। इस पर रविवार को चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग ने कहा कि सरकार नाइट कर्फ्यू के बारे में विचार कर रही है। इस पर निर्णय सीएम के साथ आज शाम को होने वाली बैठक में लिया जाएगा। हमला लक्ष्य है कि हम संक्रमण को अब आगे नहीं बढ़ने देंगे। जनता से अपील है कि सोशल डिस्टेंसिंग और मास्क लगाएं। बता दें स्वास्थ्य विभाग की तरफ से शनिवार को जारी रिपोर्ट में मध्यप्रदेश में 467 नए मामले सामने आए। इसमें इंदौर में 173 और भोपाल में 104 संक्रमित मिले। शनिवार को भोपाल कलेक्टर अविनाश लावनिया ने कोरोना संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए भोपाल में हुक्का बार पर प्रतिबंध लगा दिया गया है।

मंत्री की कांग्रेस नेताओं की चुनौती

विश्वास सारंग ने कांग्रेस नेताओं को चुनौती देते हुए कहा कि यदि सही मायने में आप महिला सशक्तीकरण की बात करते हैं और उनका सम्मान करते हैं तो विधानसभा में लव जिहाद के खिलाफ बने कानून का समर्थन करें। लव जिहाद के विरोध में हमारा साथ दें और विधेयक के पक्ष में हमारा समर्थन करें। कल इस विधेयक पर चर्चा होनी है। कल महिला दिवस है। कमलनाथ जी सदन में बोले कि वह इस कानून का समर्थन करते हैं और लव जिहाद का विरोध करते हैं। कांग्रेस पार्टी का स्टैंड इस पर स्पष्ट होना चाहिए।

दिग्विजय सिंह पर साधा निशाना

चिकित्सा शिक्षा मंत्री ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के किसान सम्मेलन पर कहा कि उनको किसानों का समर्थन तो नहीं मिल रहा है बल्कि उनका बहिष्कार हो रहा है। वह अपनी राजनीतिक जगह को तलाशने के लिए इधर-उधर घूम रहे है। उन्हें केंद्रीय नेतृत्व ने तय कर दिया है कि उनका दखल मध्यप्रदेश में नहीं होगा।

खबरें और भी हैं...