पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना इफेक्ट:मेगा प्रोजेक्ट्स; मंद रफ्तार, 513 करोड़ लागत के चार बड़े प्रोजेक्ट्स की स्पीड को झटका

‌भोपाल3 महीने पहलेलेखक: मनोज जोशी
  • कॉपी लिंक
एक ही तस्वीर में... शहर के तीन बड़े प्रोजेक्ट - Dainik Bhaskar
एक ही तस्वीर में... शहर के तीन बड़े प्रोजेक्ट
  • लॉकडाउन के कारण लेबर-मटेरियल की कमी रही, एम्स मेट्रो रूट का सिर्फ 25% काम हुआ, सुभाष नगर आरओबी की एप्रोच रोड अटकी

50 दिन के कोरोना कर्फ्यू में निर्माण कार्यों पर रोक नहीं थी, लेकिन कहीं मटेरियल तो कहीं लेबर की दिक्कतों के कारण शहर में चल रहे बड़े प्रोजेक्ट्स पर ब्रेक सा लग गया है। दफ्तरों में केवल 10 फीसदी स्टाफ की अनुमति होने से फील्ड में चल रहे कार्यों से जुड़ी टेक्निकल ड्राइंग तैयार करने जैसे काम नहीं होने से प्रोजेक्ट पर असर पड़ा।अब एक बार फिर इन कामों को गति देने के प्रयास शुरू हो गए हैं।

एक बार डेडलाइन बदली जा चुकी है

एम्स से सुभाष नगर क्रॉसिंग तक 6.2 किमी रूट के सिविल वर्क का बजट 247 करोड़ है। इस प्रोजेक्ट में कोरोना कर्फ्यू के कारण ब्रेक सा लग गया। कर्फ्यू की घोषणा से पहले अलकापुरी से हबीबगंज क्राॅसिंग तक गर्डर लॉन्चिंग की तैयारी थी। अप्रैल के दूसरे सप्ताह में काम शुरू होता उसके पहले ही कर्फ्यू लग गया। लेबर से जुड़ी समस्याओं के कारण गर्डर लॉन्चिंग का काम रोकना पड़ा। ग्रीन पेट्रोल पंप को पीछे शिफ्ट करने के लिए टैंक आदि निर्माण करने का काम भी रुक गया। इस रूट पर मेट्रो संचालन के हिसाब से देखें तो 25% काम पूरा हाे सका है।

अब यह तैयारी

  • अलकापुरी गेट नंबर 2 के पास गर्डर लॉन्चिंग शुरू हो गई है
  • गायत्री मंदिर के पास से गर्डर लॉन्चिंग 1-2 दिन में शुरू होगी।
  • अब सबसे बड़ी अड़चन - हबीबगंज रेलवे क्राॅसिंग पर रेलवे ने मांगी नई ड्राइंग
  • हबीबगंज रेलवे क्राॅसिंग पर मेट्रो के पिलर के लिए रेलवे ने अनुमति देने से इनकार कर दिया है। अब यहां मेट्रो के गुजरने के लिए एक आरओबी बनेगा। इसके लिए नए सिरे से टेक्निकल ड्राइंग बनाई जा रही है।

ब्रिज 95% तैयार, मेट्रो के कारण ट्रैफिक बंद

सुभाष नगर आरओबी लगभग एक साल से तैयार है। लेकिन इसकी एप्रोच रोड को मेन रोड से कनेक्ट करने के लिए मेट्रो के पिलर को रोटरी की तरह उपयोग किया जाना है। जब तक मेट्रो की गर्डर लॉन्चिंग पूरी नहीं हो जाती, सुभाष नगर आरओबी पर ट्रैफिक चालू करने की अनुमति नहीं दी जा सकती। इसी वजह से पीडब्ल्यूडी ने फिनिशिंग के काम रोक रखे हैं। पीडब्ल्यूडी के अफसरों के अनुसार अधिकतम दो माह के भीतर यहां ट्रैफिक शुरू हो सकता है।

हबीबगंज स्टेशन : दावा था-मार्च तक पूरा होगा

अंतिम डेडलाइन थी- 31 मार्च 2021 : हबीबगंज रेलवे स्टेशन के रीडेवलपमेंट का काम लगभग 95 फीसदी पूरा हो चुका है। हालांकि चार महीने पहले कहा गया था कि मार्च अंत तक यह तैयार हो जाएगा और प्रधानमंत्री उद्घाटन करेंगे। इस समय फिनिशिंग के काम चल रहे हैं। प्रोजेक्ट से जुड़े अधिकारियों के अनुसार प्रोजेक्ट में लगी लेबर के निवास की व्यवस्था कंपनी ने ही की है, इसलिए लेबर की कमी नहीं आई और मटेरियल भी पहले से साइट पर रखा हुआ है, इसलिए कोरोना के कारण काम पर असर नहीं पड़ा।

गणेश मंदिर एलिवेटेड कॉरिडोर : काम शुरू होते ही लगा ब्रेक

अंतिम डेडलाइन - पूर्ववत : गणेश मंदिर से गायत्री मंदिर तक करीब 2.7 किमी लंबे एलिवेटेड कॉरिडोर के लिए फरवरी में भूमिपूजन हुआ। मार्च में जमीन पर काम शुरू हुआ, काम गति पकड़ता इसके पहले अप्रैल में कोरोना कर्फ्यू लग गया। सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने के लिए फील्ड में लेबर की संख्या कम रखी गई। पीडब्ल्यूडी के चीफ इंजीनियर (ब्रिज) संजय खांडे के अनुसार हमने काम की गति को बरकरार रखने की कोशिश की है। दो साल की तय समय सीमा में कॉरिडोर तैयार हो जाएगा।