• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Mobile Companies Are Not Providing API To Trace The Caller's Location, Ambulance Arriving Late

मोबाइल कंपनियाें ने रोकी हाईटेक एंबुलेंस की रफ्तार:कॉलर की लोकेशन ट्रेस करने मोबाइल कंपनियां नहीं दे रहीं API, देर से पहुंच रही एंबुलेंस

भोपालएक महीने पहले

हादसों में घायल, गंभीर बीमारी मरीजों और गर्भवती महिलाओं को समय पर अस्पताल पहुंचाने के लिए मप्र में जय अंबे इमरजेंसी सर्विस द्वारा हाईटेक एंबुलेंस सेवा शुरू की गई है। 27 अप्रैल को यह सुविधा लॉन्च की गई थी। स्वास्थ्य विभाग के अफसरों ने रीलॉन्च की गई एंबुलेंस सेवा में कई हाईटेक फैसिलिटी उपलब्ध कराने का दावा किया था। लेकिन दो हफ्ते से ज्यादा का समय बीतने के बाद भी एंबुलेंस सेवा पटरी पर नहीं आ पाई है। एंबुलेंस के कॉल सेंटर पर फोन करने या मोबाइल एप से बुक करने पर कॉलर की लोकेशन ट्रेस करने के लिए मोबाइल नेटवर्क कंपनियां एपीआई नहीं दे रहीं हैं। इस वजह से एंबुलेंस के लिए फोन करने वाले कॉलर की लोकेशन ट्रेस न होने से एंबुलेंस देर से पहुंच रहीं हैं। अब तक जय अंबे कंपनी को सिर्फ एयरटेल का ही एपीआई (एप्लीकेशन प्रोग्राम इंटरफेस) मिल पाया है। कंपनी ने अब एनएचएम के अफसरों से मदद मांगी है।

इमरजेंसी सेवा में ऐसे काम करता है एपीआई

तकनीकी एक्सपर्ट्स की मानें तो पुलिस और एंबुलेंस जैसी इमरजेंसी सेवाओं के लिए फोन करने वाले कॉलर की लोकेशन ट्रेस करने के लिए मोबाइल नेटवर्क कंपनी LBS (लोकेशन बेस्ड सिस्टम) के तहत इमरजेंसी सर्विस प्रोवाइडर एजेंसी को एपीआई (एप्लीकेशन प्रोग्राम इंटरफेस) उपलब्ध करातीं हैं। एपीआई के जरिए कॉल सेंटर पर फोन करने वाले कॉलर की सटीक लोकेशन कुछ ही सेकंड में मिल जाती है। इससे एंबुलेंस या पुलिस वाहन को घटनास्थल पर पहुंचने के लिए परेशान नहीं हाेना पड़ता है।

फोन करने में तीन से पांच मिनट का समय होता है बर्बाद

अफसरों की मानें तो एंबुलेंस के लिए 108 कॉल सेंटर पर फोन करने पर कॉल कनेक्ट होने और फिर घटना और घटनास्थल की जानकारी को दर्ज करने में ही करीब तीन से पांच मिनट का समय लग जाता है। इसके बाद कॉलर द्वारा बताई गई लोकेशन पर पहुंचने में काफी समय लगता है। कई बार कॉलर द्वारा बताए गए लैंडमार्क पर पहुंचने के बाद भी एंबुलेंस को घटनास्थल को खोजने में समय लग जाता है ऐसे में एपीआई के जरिए फोन करने वाले कॉलर की लोकेशन को आसानी से ट्रेक किया जा सकता है।

सिर्फ एयरटेल कंपनी का डाटा मिला

जय अंबे कंपनी के अफसराें ने एनएचएम की एमडी प्रियंका दास को पत्र लिखा है। लेटर के अनुसार जय अंबे कंपनी को अब तक सिर्फ एयरटेल कंपनी का डाटा मिल पाया है। वहीं जियो कंपनी की तरफ से जो API मिला है वह ठीक से काम नहीं कर रहा है। इससे कॉलर की लोकेशन का पता लगाने में समय लग रहा है। वोडाफोन आईडिया कंपनी ने अब तक एपीआई (Application programing interfacing) नहीं दी है।

जय अंबे कंपनी ने लिखा डाटा बिना कैसे भेजें एंबुलेंस

एंबुलेंस सेवा का संचालन करने वाली जयअंबे कंपनी ने एनएचएम को लिखे पत्र में मोबाइल नेटवर्क कंपनियों से लोकेशन बेस्ड सिस्टम को चालू करने के लिए मदद मांगी है। कंपनी के अफसरों का कहना है कि डाटा और दूरसंचार विभाग की मदद के बिना एंबुलेंस कैसे भेजना शुरू करें। इधर एनएचएम के अधिकारियों का कहना है कि हमारे टेंडर आरएफपी में यह स्पष्ट तौर पर लिखा हुआ है कि ये सभी व्यवस्थाएं कंपनी को करनी हैं।