• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • More Opportunities For Good College jobs For Those Who Qualify Indian Olympiad; Exposure To Competitive Exams

भास्कर एजुकेशन एक्सपर्ट्स:इंडियन ओलंपियाड क्वालीफाइ करने वालों को अच्छे कॉलेज-जॉब के अवसर ज्यादा; कॉम्पिटिटिव एग्जाम का एक्सपोजर भी

मध्यप्रदेश5 महीने पहले

इंडीयन ओलंपियाड क्वालीफायर (IOQ) एग्जाम क्वालीफाइ करने वालों को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक पहचान मिलती है। ऐसे में उन्हें अच्छे कॉलेज और बेहतर जॉब के अवसर ज्यादा मिलते हैं। इसका फायदा उन्हें जॉब इनटरव्यू में भी ज्यादा मिलता है। यह जनवरी के पहले सप्ताह में देश भर में आयोजित होते हैं। मध्यप्रदेश से दो हिस्सों में 16 और 19 छात्रों को लिया जाता है। आइए जानते हैं एक्सपर्ट आकाश इंट्‌टीयूट भोपाल के असिस्टेंट डायरेक्टर रणधीर सिंह से...

यह छात्र परीक्षा में हिस्सा ले सकते

यह परीक्षा कक्षा 8वीं, 9वीं, 10वीं, 11वीं और 12वीं की पढ़ाई करने वाले छात्रों के लिए होती है। एक शर्त यह होती है कि इसमें 12वीं पास छात्र नहीं बैठ सकते हैं। इसके लिए olympiads.hbcse.tifr.res.in पर पूरी जानकारी है। यह परीक्षा का स्टेज वन इंडियन एसोसिएशन ऑफ फिजिक्स टीचर्स (IAPT) और स्टेज टू होमी भाभा सेंटर फॉर साइंस एजुकेशन (HBCSE) आयोजित करता है। राष्ट्रीय केंद्र के तौर पर मैथ्स, केमिस्ट्री, फिजिक्स, बायोलॉजी और एस्ट्रोलॉजी में जूनियर साइंस ओलंपियाड प्रोग्राम को लागू करने के लिए भारत सरकार की नोडल एजेंसी है। बच्चे www.iapt.org.in में रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं।

4 स्टेज होती है

पहले यह नेशनल स्टैंडर्ड एग्जाम (एनएसई) के नाम से जाना जाता है। अब इसे इंडीयन ओलंपियाड क्वालीफायर (IOQ) के नाम से जाना जाता है। यह चार स्टेज में होती है। पहली स्टेज में IOQ तीन घंटे का पेपर होता है। यह एक और दो घंटे में दो पेपर होते हैं। सबसे खास बात यह है कि पहले पेपर में क्वालीफाइ होने वालों की ही दूसरी कॉपी जाती है। सेकंट स्टेज में सिलेक्शन कैंप, थर्ड स्टेज में इंटरनेशन एग्जाम में जाने से पहले की तैयारी होगी। इसके बाद ही IOQ में हिस्सा लेने का मौका मिलेगा। यह हर साल होता है।

यह फायदे

मेरिट सर्टिफिकेट, स्पेशल मेरिट सर्टिफिकेट, गोल्ड ऑवर्ड, बोर्ड में अच्छा करने में मदद, प्रतियोगी परीक्षाओं को फेस करने के लिए आत्मविश्वास और अच्छे कॉलेज से लेकर जॉब तक इसका फायदा होता है।

भास्कर एक्सपर्ट सीरीज में अगला वीडियो भारतीय ओल्पियाड क्वालीफायर (IOQ) कैसे परीक्षा दें इस पर होगा। अगर आपका कोई सवाल हो, तो इस नंबर-9826857220 पर रविवार दोपहर 12 बजे तक वाट्सएप कर सकते हैं।

मैथ्स-साइंस लेकर बने वैज्ञानिक, पैसा भी मिलेगा:11वीं, 12वीं और B.SC फर्स्ट ईयर के स्टूडेंट्स को भी मौका; फॉर्म भरने के लिए 10वीं में 75% होना जरूरी

IIT की तैयारी खुले दिमाग से करें:रटने से काम नहीं चलेगा; मैथ्स, केमिस्ट्री, फिजिक्स को जीना होगा, कॉन्सेप्ट क्लियर होने पर सफलता

JEE मेन में शॉर्टकट नहीं चलता:मैथ्स की चार स्टेप में प्लानिंग करें; कठिन सवाल में न उलझें, NTA abbhyas QUSEYION से तैयारी करें

एक्सपर्ट से जानिए कैसे पाएं NEET में सक्सेस:बायो में फुल मार्क्स लाने का फॉर्मूला; एनसीईआरटी में बोल्ड और हाई लाइट वर्ड से ही बनते हैं अधिकांश प्रश्न

कॉम्पिटिटिव एग्जाम के लिए 4 बातें जरूरी:एग्जाम और सब्जेक्ट क्या है, किस तरह के सवाल आते हैं; पहले से टारगेट तय करना जरूरी

एग्जाम के पहले 3 बातों का ध्यान रखें:तनाव के साथ ही 10 से 12 मिनट खराब होने से बचते हैं; रिजल्ट भी 15% से 20% बेहतर होगा

NEET में फिजिक्स में अच्छे स्कोर का मंत्र:पेपर में 67% सरल सवालों पर फोकस कर 100 मार्क्स हासिल कर सकते हैं; इतना ही करना काफी

खबरें और भी हैं...