• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Madhya Pradesh’s Bhopal Corona Virus; NO Positive Patient Data Of COVID 19 Antigen Rapid Self Test Kit

सरकार! देखिए ये सुपर स्प्रेडर न बन जाएं:MP में हजारों लोग मेडिकल शॉप से किट लेकर खुद कर रहे कोविड टेस्ट, इनका रिकॉर्ड कहां है?

भोपाल4 महीने पहलेलेखक: संदीप राजवाड़े

मध्यप्रदेश में कोरोना के डेटा छिपाने के किस्से कम नहीं हैं। ताजा मामला घर पर खुद ही कोविड टेस्ट करने वालों का है। सरकार के पास न ऐसे संक्रमितों की कोई जानकारी है, न ही वह इसे अपने डेटा में जोड़ने के लिए अभी तैयार है। दरअसल, हजारों लोग कोविड होम एंटीजन किट सीधे मेडिकल शॉप से खरीद रहे हैं। 250 से 325 रुपए में मिलने वाली किट से लोग घर पर ही टेस्टिंग कर रहे हैं। यदि वे संक्रमित पाए जाते हैं, तो भी सरकार के पास इसकी जानकारी नहीं जाती है। इन्हें ट्रैक करने के लिए कोई सिस्टम ही नहीं बना है।

मेडिकल शॉप पर भी ऐसे खरीदारों का रिकॉर्ड नहीं रखा जाता। ऐसे गैर लिस्टेड संक्रमित यदि आइसोलेशन के बजाय बेरोकटोक बाहर घूमते रहे तो प्रदेश में संक्रमण खतरनाक स्तर पर जा सकता है। ICMR इसे राज्य सरकार का काम बता रहा है, तो लोकल एडमिनिस्ट्रेशन इसके विपरीत ICMR का। भास्कर की पड़ताल में चौंकाने वाले तथ्य सामने आए हैं। पढ़िए पूरी रिपोर्ट…

रियलिटी चेक के लिए भोपाल चुना, यहां रोजाना 500 टेस्ट
दैनिक भास्कर
ने आंकड़ों के इस घालमेल का रियलिटी चेक करने के लिए भोपाल काे चुना। यहां 20 से ज्यादा मेडिकल शॉप की पड़ताल की। इसमें खुलासा हुआ कि 250 रुपए से लेकर 325 रुपए तक के बीच तीन अलग-अलग कंपनियों के एंटीजन होम टेस्ट किट बेचे जा रहे हैं। इसकी डिमांड इतनी है कि कई मेडिकल स्टोर्स पर स्टॉक नहीं है। ऐसी किट से जांच करने वाले 90% से ज्यादा लोग पॉजिटिव आने के बावजूद सरकार को सूचना तक नहीं देते।

इन इलाकों की दुकानों पर पड़ताल
दवा बाजार, हमीदिया अस्पताल के सामने के मेडिकल बाजार, शाहपुरा, चार इमली, शिवाजी नगर, गोविंदपुरा, अरेरा हिल्स और इंदिरा मार्केट के 20 मेडिकल शॉप्स में पहुंचे। पता चला कि अधिकतर रेजिडेंशियल एरिया के मेडिकल स्टोर्स में 3 जनवरी से इस होम टेस्ट किट को लेकर हर दिन ग्राहक आ रहे हैं। कई जगह से इस किट के उपयोग व जानकारी की पूछताछ को लेकर आने वालों की संख्या ज्यादा है।

मेडिकल संचालकों ने माना- डिमांड है

  • शाहपुरा इलाके के मेडिकल स्टोर्स में जानकारी मिली कि यहां अभी हर दिन 4-5 ऐसे किट बिक रहे हैं। मेडिकल स्टोर्स के संचालक लकी छाबड़िया ने बताया कि पिछले हफ्ते से हर दिन 10 से ज्यादा लोग इस किट के बारे में पूछताछ कर रहे हैं, लेकिन अब तो यह किट है ही नहीं और स्टॉकिस्ट के पास भी कमी है। इसकी डिमांड बढ़ गई है।
  • इंदिरा मार्केट के अधिकतर दवा दुकानों में यह होम टेस्ट किट उपलब्ध है। मेडिकल दुकान के संचालक नितेश कुमार ने बताया कि रोजाना हर दुकान से 4-5 किट बिक रही हैं। जिन्हें नॉलेज है कि घर पर जांच हो सकती है, वे खरीद रहे हैं। उपयोग के तरीके को लेकर पूछताछ करने वाले भी आ रहे हैं। जानकारी मिली है कि भोपाल में 3 कंपनियों की ऐसी किट बिक रही है, जिनकी कीमत 250 से 325 रुपए तक है।
  • हमीदिया अस्पताल के आसपास दवा की अधिकतर दुकानों में इसकी डिमांड बहुत कम है, क्योंकि अस्पताल में फ्री में कोरोना टेस्ट होने की सुविधा से इसे खरीदने वाले न के बराबर ही हैं, लेकिन इस किट को लेकर पूछने वाले या कभी-कभार एक-दो किट लेने वाले आ रहे हैं।

अधिकतर खरीदार वही, जिन्हें लक्षण हैं
भोपाल केमिस्ट एसोसिएशन के सचिव दिनेश वालेचा ने बताया कि शहर में दवा की 400 के आसपास दुकानें हैं। अब डिमांड आई है। रोज 400-500 किट बिक रही हैं। अब 250-325 रुपए में लोगों को किट के जरिए यह जानकारी मिल जा रही है कि वे पॉजिटिव हैं कि नहीं। मेडिकल स्टोर्स में पूछताछ के दौरान यह बात भी सामने आई कि इस किट को ले जाने वाले अधिकतर वे लोग हैं जिनको कोरोना से जुड़े लक्षण दिखाई दिए हैं।

जो संक्रमित निकले होंगे, उनकी पहचान कैसे होगी
भोपाल में रोज 500 के करीब ये होम टेस्ट किट बिक रही हैं। यदि इस किट की जांच में औसतन 50 या 100 लोग पॉजिटिव आए होंगे तो यह लिस्ट कैसे होंगे। लोग पॉजिटिव आने पर अपनी रिपोर्ट की जानकारी शासन को नहीं दे रहे हैं। इस किट को उपयोग करने के साथ रिजल्ट के लिए पैक के अंदर दी गई गाइड बुक में एक ऐप डाउनलोड करने के निर्देश दिए गए हैं, लेकिन लोग इसे डाउनलोड ही नहीं कर रहे हैं।

होम किट सरकार ने प्रिफर नहीं की, सेंटर्स पर जांच फ्री: हेल्थ कमिश्नर
इस तरह की कोरोना टेस्ट होम किट को हेल्थ विभाग ने प्रिफर नहीं किया है। अब लोग अपनी सुविधा के अनुसार कर रहे हैं तो जो ICMR ने अनुमति देने के दौरान नियम बनाए हैं उनका पालन करें। हम किट टेस्ट के लिए नहीं कह रहे हैं। हेल्थ सेंटर्स पर एंटीजन व RT-PCR जांच मुफ्त में की जा रही है। होम किट को लेकर हमने कोई नियम नहीं बनाया है। उसकी जांच कितनी वैध है यह भी नहीं बता सकते।

डॉ. सुदाम पंढरीनाथ खाड़े, अपर सचिव, लोक स्वास्थ्य परिवार कल्याण एवं सह कमिश्नर स्वास्थ्य सेवाएं

खबरें और भी हैं...