• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Narcotics Volunteers Of Police Will Remove Children And Youth From Drugs; Will Stop Drug Dealers From Coming In Colonies And Localities, Will Get An FIR If They Do Not Agree

नशे के खिलाफ जंग:बच्चों और युवाओं को नशे से दूर करेंगे पुलिस के नारकोटिक्स वाॅलंटियर; कॉलोनियों और मोहल्ले में नशे के सौदागरों को आने से रोकेंगे, नहीं मानने पर कराएंगे FIR

भोपाल2 महीने पहलेलेखक: सुनीत सक्सेना
  • कॉपी लिंक
पुलिस की वेबसाइट पर होगी नारकोटिक्स वॉलंटियर बनने की लिंक, ज्यादा वॉलंटियर होने पर बनेगा ग्रुप। - Dainik Bhaskar
पुलिस की वेबसाइट पर होगी नारकोटिक्स वॉलंटियर बनने की लिंक, ज्यादा वॉलंटियर होने पर बनेगा ग्रुप।

बच्चों और युवाओं में बढ़ते नशे के चलन को रोकने के लिए पुलिस भी गंभीर है। पुलिस का मानना है कि बच्चों को नशे की लत से दूर करने में लोगों का एकजुट होना जरूरी है। लोगों के जागरुक और एकजुट होने से काॅलोनियों, मोहल्लों एवं अन्य स्थानों पर नशीले पदार्थों का कारोबार करने वाले मादक पदार्थ के तस्करों को रोका जा सकेगा।

पुलिस ने इसके लिए एक अच्छी पहल की है, वह जल्द ही अपनी वेबसाइट (मध्यप्रदेश पुलिस) के माध्यम से नारकोटिक्स वॉलंटियर तैयार करने जा रही है। इन वॉलंटियर के मुख्य नारकोटिक्स वॉलंटियर नजदीकी थाने के थाना प्रभारी होंगे। नारकोटिक्स वॉलंटियर द्वारा शिकायत करने पर पुलिस द्वारा तत्काल कार्रवाई की जाएगी।

गली-माेहल्ले में सक्रिय हैं सप्लायर

बच्चों को यह नशा घर के आसपास आसानी से उपलब्ध हो जाता है। इनके सप्लायर गली-मोहल्लों तक में सक्रिय हैं। वे गांजा, चरस, अफीम, एमडीएम जैसे खतरनाक नशीले पदार्थों के नशे की लत छात्रों को लगाते हैं। मादक पदार्थों के सप्लायर्स की जानकारी गली-मोहल्लों के लोगों को होती है, लेकिन वे पुलिस को बताने में कतराते हैं। इन सप्लायरों को स्थानीय लोग भी रोकने की कोशिश नहीं करते हैं।

नारकोटिक्स वाॅलंटियर को होना होगा रजिस्टर्ड

पुलिस मुख्यालय के अफसरों का कहना है कि मध्यप्रदेश पुलिस की वेबसाइट पर नारकोटिक्स वॉलंटियर का लिंक होगा। इस लिंक के माध्यम से लोग अपनी जानकारी अपलोड करके नारकोटिक्स वॉलंटियर बन सकेंगे। थाना प्रभारी द्वारा इसकी पड़ताल की जाएगी कि जानकारी सही भरी गई है या नहीं। इन वॉलंटियर की जानकारी संबंधित थाने को भी होगी।

मुख्य नारकोटिक्स वॉलंटियर थाना प्रभारी होगा। नारकोटिक्स वॉलंटियर मादक पदार्थ के सप्लायर को गली-मोहल्लों में आने से रोक सकेंगा। यदि एक कॉलोनी या मोहल्ले में वॉलंटियर की संख्या अधिक होगी तो उनका एक ग्रुप बना दिया जाएगा, जिससे वे मिलकर सप्लायरों को रोक सकेंगे। यदि उनके रोकने पर सप्लायर नहीं मानता है तो इसकी शिकायत थाना प्रभारी से की जाएगी।

इसके बाद थाना प्रभारी मादक पदार्थ के सप्लायर के खिलाफ एफआईआर दर्ज कर कार्रवाई करेंगे। नारकोटिक्स वॉलंटियर को पुलिस के द्वारा कोई आईडी कार्ड या उनकी पहचान का नंबर उपलब्ध नहीं कराया जाएगा, लेकिन पुलिस के रिकॉर्ड में वह वॉलंटियर होगा।

अफसरों को उम्मीद- वाॅलंटियर सक्रिय होंगे तो धीरे-धीरे आएंगे रिजल्ट

पुलिस मुख्यालय के वरिष्ठ अफसरों का मानना है कि नारकोटिक्स वॉलंटियर जब सक्रिय रूप से काम करने लगेंगे तो मादक पदार्थ की बिक्री पर असर पड़ेगा। सप्लायर्स में पकड़े जाने और पुलिस कार्रवाई का डर होगा। सरकार द्वारा महात्मा गांधी की जयंती पर 2 अक्टूबर से 8 अक्टूबर मद्य निषेध सप्ताह शुरू किया जा रहा है। इस दौरान इसका व्यापक प्रचार-प्रसार भी किया जाएगा।