पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Nautapa Impact On Bhopal Weather Cyclone Tauktae South East Monsoon On Madhya Pradesh Heat Wave

ताऊ-ते और यास का असर:10 साल में सबसे कम तपा नौतपा, भोपाल में 9 दिन में सिर्फ 1 बार 41 पार हुआ पारा; इंदौर में नहीं चली लू

भोपाल/इंदौर4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

राजधानी में नौतपा में अधिकतम औसत तापमान पिछले 10 सालों में दूसरी बार 40 डिग्री सेल्सियस के आसपास रहा। तापमान में बढ़ोतरी न होने का कारण ताऊ ते और यास तूफान का असर है। नौतपा के दौरान भोपाल का एवरेज तापमान 40.3 डिग्री सेल्सियस रहा। इससे पहले 2016 में 41.1 डिग्री दर्ज किया गया था। रोहिणी की तपिश देखें तो 2012 से 2021 के बीच केवल 2018 ही ऐसा साल रहा, जब सूरज ने कहर ढाया। 2018 के नौतपा में दिन का औसत तापमान 43.7 डिग्री तक रहा था।

मौसम वैज्ञानिक पीके शाह ने बताया बुधवार को केरल में मानसून आने की संभावना है। प्रदेश में मानसून के आने की सामान्य तारीख 20 जून है। प्रदेश में इसके आसपास ही मानसून आ सकता है। अभी इसको लेकर कोई अनुमान नहीं बताया जा सकता। इस बार सामान्य बारिश होने की संभावना है।

भोपाल में मात्र एक दिन 41 पार हुआ तापमान

राजधानी में पिछले 9 दिनों में सबसे अधिक तापमान 28 मई को 41.1 डिग्री दर्ज किया गया है। 9 दिनों में पांच दिन ही 40 से ऊपर तापमान गया है। बता दें मौसम विभाग में नौतपा का कोई उल्लेख नहीं है।

नौतपा में भी इंदौर में एक भी दिन नहीं चली लू

इस बार गर्मी में एक भी दिन लू चलने जैसी स्थिति नहीं बनी। मौसम विशेषज्ञ एके शुक्ला का कहना है कि इंदौर की तरफ लगातार हवा की दिशा उत्तर, पश्चिम बनी रही। दूसरी वजह इंदौर को तपाने वाली राजस्थान की गर्म हवा भी नहीं आई। चूंकि इस बार वहां भी ज्यादा तेज गर्मी नहीं पड़ी। लगातार पश्चिमी विक्षोभ का आना भी गर्मी को प्रभावित करने का एक कारण रहा।

गृह नक्षत्र के हिसाब से बारिश पर रोहिणी का प्रभाव

आचार्य रत्नेश शास्त्री ने बताया कि नौतपा रोहिणी नक्षत्र में होता है। बाद में मघा नक्षत्र होते है। यदि नौतपा में बारिश होती है तो मघा नक्षत्र में कम बारिश होती है। लेकिन जुलाई-अगस्त में अच्छी बारिश होने की संभावना है।

चार बार 45 पार पहुंचा तापमान

वर्ष 2012 से वर्ष 2021 तक 10 सालों में नौतपा के दिनों में सिर्फ चार बार तापमान 45 बार पहुंचा है। तारीख के अनुसार 2015 में 31 मई अधिकतम तापमान 45.4, 2018 में 27 मई और 29 मई को तापमान 45.3 डिग्री, 2017 में 27 मई को तापमान 45.1 डिग्री दर्ज किया गया।

यह भी है बड़ा कारण

इस पर ताऊ ते और यास तूफान और सिस्टम बनने से नौतपा में तपन कम रही। राजधानी समेत प्रदेश में स्थानीय कारणों से भी बादल बनने से आंधी तूफान के साथ बारिश हुई। जिससे अधिकतम तापमान में गिरावट दर्ज की गई। इसके साथ ही प्री-मानसून की गतिविधियां शुरू होने से आसमान में बादल छाए रहे। यहीं कारण है कि तापमान में बढ़ोतरी दर्ज नहीं हुई।

भोपाल में 33.8 और शहर में 67.1 एमएम बारिश

भोपाल में 30 मई और 31 मई को दो दिन मौसम विभाग ने बारिश दर्ज की। हालांकि कुछ दिनों में बूंदाबांदी भी हुई। मौसम विभाग के अनुसार 30 मई को भोपाल में 3.4 एमएम और भोपाल शहर में 12.3 एमएम बारिश दर्ज की गई। इसके अलावा 31 मई को भोपाल में 30.4 एमएम और भोपाल शहर में 55.1 एमएम बारिश दर्ज की गई।

खबरें और भी हैं...