पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सफाई व्यवस्था में सहयोग करने वालों को करेंगे प्रमोट:अब स्वच्छता में इनोवेशन, तकनीक और स्टार्टअप के लिए भी मिलेंगे 100 नंबर

भोपाल20 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
शाहपुरा में पहले यहां गंदगी ही गंदगी रहती थी, जिसे आसपास के रहवासियों ने कुछ इस तरह से करके खूबसूरत बना दिया। - Dainik Bhaskar
शाहपुरा में पहले यहां गंदगी ही गंदगी रहती थी, जिसे आसपास के रहवासियों ने कुछ इस तरह से करके खूबसूरत बना दिया।
  • कुछ लोग... गंदगी के स्पॉट को अपने खर्चे पर बना रहे खूबसूरत
  • अभी 2021 के स्वच्छ सर्वे का रिजल्ट बाकी, 2022 के सर्वे की तैयारियां शुरू...

टेक्नॉलाजी और इनोवेटिव आइडिया का प्रयोग कर शहर की सफाई व्यवस्था में सहयोग करने वालों को अब एक स्टार्ट अप के रूप में प्रमोट करेंगे। इसमें लोगों की सफाई से संबंधित शिकायतें दूर करने के लिए एप डेवलप करना या कचरे का उपयोग कर कोई प्रोडक्ट तैयार करना आदि शामिल हैं।

स्टार्ट अप के साथ स्वच्छ इनोवेटिव टेक्नॉलाजी चैलेंज को स्वच्छ सर्वे में जोड़ा जा रहा है। इसके लिए सर्वे में नंबर मिलेंगे, जो शहरों की रैंकिंग तय करेंगे। अभी 2021 के स्वच्छ सर्वे का परिणाम आना है, लेकिन उसके पहले अगले वर्ष यानी 2022 के स्वच्छ सर्वे की तैयारियां शुरू हो गई हैं। केंद्र सरकार की ओर से अगले सर्वे की तैयारियों को लेकर देश भर के नगर निगमों को भेजे डॉक्यूमेंट में कई नई बातें शामिल हैं।

भोपाल में 3 साल पहले पूजा में इस्तेमाल किए गए फूलों से अगरबत्ती बनाने का प्रयोग हुआ था। लेकिन, प्रोत्साहन और सहयोग नहीं मिलने से यह सफल नहीं हो सका। इसी तरह पिछले साल गोबर से गमले बनाए गए थे, लेकिन यह भी केवल एक उदाहरण से आगे नहीं बढ़ सका। भोपाल ने दो साल पहले कचरे में मिलने वाले कपड़े से रस्सी आदि बनाने का भी प्रयोग किया। हालांकि घर का कबाड़ा बेचने के लिए बनाए गए स्टार्ट अप का प्रयोग काफी सफल हुआ है और देश भर में उसकी तारीफ हो रही है।

लोगों की बना रहे हैं सूची
भोपाल समेत पूरे प्रदेश में इस समय स्वच्छता में सहयोग करने वाले लोगों की सूची तैयार की जा रही है। इसमें ऐसे लोगों को शामिल किया जा रहा है, जो अपना समय, ऊर्जा और संसाधन का उपयोग कर शहर की सफाई में योगदान देते हैं। भोपाल में कुछ स्वच्छ एंबेसडर हैं, जो कॉलोनियों और सड़कों के किनारे बने गंदगी के स्पॉट को अपने खर्चे पर और अपनी प्लानिंग से खूबसूरत और उपयोगी बनाने का काम करते हैं। एक समूह ऐसे स्थानों पर पेंटिंग बनाने का काम करता है। कुछ लोग बर्तन बैंक और कुछ लोग पॉलिथीन का विकल्प देने के लिए कपड़े के लिए थैले आदि बनाकर बांट रहे हैं। अगले चरण में निगम ऐसे लोगों को प्रोत्साहित करेगा।

सिटीजन इंगेजमेंट बढ़ा रहे
स्वच्छ सर्वे में सिटीजन इंगेजमेंट बढ़ाने के लिए गंदगी की शिकायत के लिए बने केंद्र सरकार के एमओएचयूए एप में भी कुछ नए फीचर जोड़े गए हैं। अब इस एप के जरिए आप यूरिनेशन इन ओपन की भी शिकायत दर्ज करा सकते हैं। इसके अलावा पब्लिक टॉयलेट में पानी सप्लाई नहीं होने, बिजली नहीं होने से लेकर सीवेज से जुड़ी शिकायतें भी इस एप पर दर्ज की जा सकती हैं।

तैयारियां कर रहे हैं
अगले स्वच्छ सर्वे की तैयारियां शुरू हो गई है। केंद्र सरकार ने एक ड्राफ्ट भेजा है। उसका अध्ययन कर रहे हैं। टेक्नॉलाजी, इनोवेटिव आइडिया और स्टार्ट अप आदि नई बातें सर्वे में शामिल की जा रहीं हैं। -एमपी सिंह, अपर आयुक्त, नगर निगम भोपाल

खबरें और भी हैं...