पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Only 8000 People Are Traveling In The Low Floor Throughout The Day, The Lane Made For It Is Empty, But 5 Lakh People Are Stuck In The Jam Everyday In The City

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

बीआरटी कॉरिडोर को लेकर फिर उठे सवाल:दिनभर में 8000 लोग ही कर रहे लो फ्लोर में सफर, इसके लिए बनी लेन खाली, पर शहर में रोज 5 लाख लोग जाम में फंस रहे

भोपाल3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ये नजारा रोजाना: आर्च ब्रिज के कारण  किलोल पार्क राेड पर रोजाना ऐसे ही वाहन फंसते हैं। - Dainik Bhaskar
ये नजारा रोजाना: आर्च ब्रिज के कारण किलोल पार्क राेड पर रोजाना ऐसे ही वाहन फंसते हैं।

बीआरटी कॉरीडोर, दावा था- सफर सुरक्षित होगा और लोग ज्यादा से ज्यादा पब्लिक ट्रांसपोर्ट का उपयोग करेंगे, जिससे ट्रैफिक जाम के हालात नहीं बनेंगे।

लेकिन हकीकत कुछ ऐसी है- अनलॉक के बाद पब्लिक ट्रांसपोर्ट तो शुरू हुआ लेकिन कोरोना के कारण लोगों ने अपने-अपने वाहनों का ही उपयोग करना बेहतर समझा। अभी 210 में से सिर्फ 107 लो फ्लोर चल रही हैं। इनमें भी बमुश्किल रोेजाना 8 हजार लोग ही सफर कर रहे हैं। पहले यह संख्या 1 लाख से अधिक थी। यानी सड़कों पर निजी वाहनों की संख्या बढ़ी है।

दूसरी ओर शहर में चल रहे मेट्रो प्राेजेक्ट के कारण भी कॉरिडोर में मिक्स ट्रैफिक चल रहा है, ऐसे में हादसे की आशंका भी बनी रहती है। इन हालातों में शहर में रोजाना पांच लाख लोग ट्रैफिक जाम का सामना कर रहे हैं।

24 किमी का कॉरिडोर, परेशानी जगह-जगह

  • लालघाटी चौराहा ग्रेड सेपरेटर पर कॉरिडोर के कारण एक्सीडेंट जोन बन गया है। {आर्च ब्रिज का ट्रैफिक शुरू हो जाने के बाद से किलोल पार्क तिराहे पर हो रहे ट्रैफिक जाम में कॉरिडोर भी एक बड़ा कारण है।
  • हबीबगंज रेलवे क्राॅसिंग से सुभाष नगर तक मेट्रो और फ्लाईओवर के कंस्ट्रक्शन के कारण हो रहे ट्रैफिक जाम में एक बड़ी वजह कॉरिडोर भी है।
  • दीनदयाल परिसर से हबीबगंज रेलवे क्राॅसिंग तक तो कोरिडोर को मिक्सलेन की तरह उपयोग करना पड़ रहा है। ऐसे में इसकी उपयोगिता पर सवाल उठ रहे हैं।

पहले भी उठ चुकी है कॉरिडोर हटाने की मांग

कॉरिडोर के कारण सबसे ज्यादा समस्या बैरागढ़ में

राजधानी में बीआरटी कॉरिडोर हटाने की मांग उठती रही है। बैरागढ़ के व्यापारी शुरू से ही कॉरीडोर के खिलाफ हैं। यहां कॉरीडोर का उल्लंघन भी सबसे ज्यादा होता है।

कोरोना संक्रमण से पहले भी खाली ही रहता था कॉरिडोर

कोरोना से पहले कॉरिडोर ज्यादातर समय खाली ही रहता था। आज भी शाम को पीक आवर में खास तौर से होशंगाबाद रोड पर मिक्स लेन में निजी वाहन ट्रैफिक में फंसे रहते हैं और कॉरिडोर खाली रहता है।

  • राजधानी में चल रहे मेट्रो प्राेजेक्ट के कारण भी कई स्थानों में बीआरटी कॉरिडोर में मिक्स ट्रैफिक चल रहा है, ऐसे में हादसे की आशंका भी बनी रहती है।

एक्सपर्ट व्यू: बदली परिस्थितियों में ट्रैफिक सर्वे के बाद इंजीनियरिंग साल्यूशन हो

लालघाटी चौराहा और आर्च ब्रिज ही नहीं बल्कि बावड़ियाकलां आरओबी और हबीबगंज आरओबी के कारण बदली परिस्थितियों में ट्रैफिक सर्वे किया जाना चाहिए। इसमें सभी तरह के वाहनों के मूवमेंट के साथ पैदल यात्रियों के आंकड़े जुट कर इन समस्याओं का इंजीनियरिंग साॅल्यूशन तलाशा जाना चाहिए। टेंपरेरी साॅल्यूशन से समस्या का स्थायी निराकरण नहीं होता।

- डॉ. सिद्धार्थ रोकड़े, एक्सपर्ट ट्रैफिक एंड ट्रांसपोर्ट (एसोसिएट प्रोफेसर, मैनिट)

इन आंकड़ों पर एक नजर

  • 120 से अधिक एक्सीडेंट 24 किमी के कॉरिडोर में
  • 329 करोड़ की लागत से बना है कॉरिडोर
  • 82 बस स्टॉप, कॉरिडोर के खराब हो चुके हैं, मेंटेनेंस नहीं हुआ​​​​​​​
खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आपकी मेहनत और परिश्रम से कोई महत्वपूर्ण कार्य संपन्न होने वाला है। कोई शुभ समाचार मिलने से घर-परिवार में खुशी का माहौल रहेगा। धार्मिक कार्यों के प्रति भी रुझान बढ़ेगा। नेगेटिव- परंतु सफलता पा...

    और पढ़ें