पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कोरोना से विकास पर ब्रेक:सिर्फ 10% स्टाफ होने और स्टील की कमी से पिछड़े मेट्रो समेत अन्य प्रोजेक्ट

भोपाल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अलकापुरी गेट-2 से हबीबगंज क्रॉसिंग तक नहीं बिछे गर्डर - Dainik Bhaskar
अलकापुरी गेट-2 से हबीबगंज क्रॉसिंग तक नहीं बिछे गर्डर
  • ऑक्सीजन की मांग पूरी करने स्टील का उत्पादन घटाया
  • न्यू मार्केट में भी शॉपिंग कॉम्प्लेक्स का काम ठप

कोरोना के बढ़ते मामलों का असर शहर के विकास कार्यों पर पड़ने लगा है। कोरोना मरीजों के लिए ऑक्सीजन की बढ़ती मांग पूरी करने के लिए भिलाई और राउरकेला जैसे स्टील प्लांट सहित अन्य ने अपना स्टील का उत्पादन कम करके ऑक्सीजन सप्लाई शुरू कर दी है।

मप्र में कोई भी बड़ा स्टील प्लांट नहीं होने से मप्र जैसे राज्य ऑक्सीजन के लिए इन्हीं प्लांट पर निर्भर हैं, लेकिन इसका नतीजा यह हुआ कि निर्माण कार्यों के लिए स्टील की कमी पड़ने लगी। केवल 10 फीसदी स्टाफ को काम पर लगाने और ऑक्सीजन सप्लाई के कारण स्टील के घटते उत्पादन का असर यह है कि निर्माण कार्य रूक से गए हैं।

मेट्रो का काम कर रही दिलीप बिल्डकॉन लिमिटेड ने अलकापुरी गेट-2 से हबीबगंज क्रॉसिंग तक गर्डर बिछाने के लिए 16 अप्रैल से 21 अप्रैल तक ट्रैफिक डायवर्जन की अनुमति ली थी। यह अवधि बीते 15 दिन हो चुके, लेकिन काम शुरू नहीं हुआ।

मेट्रो के निर्माणाधीन पिलर का काम भी बंद

हबीबगंज रेलवे क्रॉसिंग से डीबी सिटी मॉल के बीच निर्माणाधीन पिलर का काम भी बंद हो गया है। मेट्रो रेल कंपनी के अफसरों के अनुसार जरूरत का 10 प्रतिशत स्टील भी उपलब्ध नहीं हो पा रहा है और कोरोना गाइडलाइन का पालन करने के लिए स्टाफ और लैबर में कमी करना पड़ी है।

पिछले साल टोटल लॉकडाउन के दौरान बंद हुआ मेट्रो का काम बमुश्किल कुछ गति पकड़ा था, लेकिन अब फिर उस पर रोक सी लग गई है। इसी तरह न्यू मार्केट में निर्माणाधीन नगर निगम के शॉपिंग कॉम्प्लेक्स का काम ठप हो गया है। इन कॉम्प्लेक्स के स्ट्रक्चर के लिए जरूरी स्टील ही उपलब्ध नहीं होने से यह स्थिति बनी है।

खबरें और भी हैं...