पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Padmashri Rangaskar Bansi Kaul, Director Of Bhopal ColorwriBansi Kaul Passes Away | Bhopal Rang Vidushak Founder And Theatre Director Padma Shri Bansi Kaul Passes Away At Age 71 In Delhter, Dies In Delhi's Dwarka

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पद्मश्री बंसी दा नहीं रहे:भोपाल रंगविदूषक के निदेशक पद्मश्री रंगकर्मी बंसी कौल का निधन, दिल्ली के द्वारका में ली अंतिम सांस

भोपाल2 महीने पहलेलेखक: राजेश गाबा
  • कॉपी लिंक
  • 72 साल के बंसी कौल काफी समय से अस्वस्थ चल रहे थे
  • अंतिम यात्रा 7 फरवरी को उनके निवास स्थल से निकलेगी

प्रख्यात रंगकर्मी पद्मश्री बंसी कौल का आज सुबह निधन हो गया। वह 72 साल के थे। वह पिछले काफी समय से अस्वस्थ चल रहे थे। हाल के दिनों में उनका कैंसर की वजह से ऑपरेशन भी किया गया था। नवंबर माह के बाद से उनकी सेहत लगातार बिगड़ती चली गई। शनिवार सुबह 8 बजकर 46 मिनट पर दिल्ली के द्वारका में उन्होंने अंतिम सांस ली।

23 अगस्त 1949 को श्रीनगर (जम्मू एवं कश्मीर) में जन्मे कौल संघर्षशील, अनुशासित, मिलनसार, लेखक, चित्रकार, नाट्य लेखक, सेट डिजाइनर और रंग निर्देशक थे। उनकी सांसों में रंगकर्म धड़कता और संवादों में साहित्य। वह महज एक नाम नहीं, समकालीन हिंदुस्तानी रंगकर्म की जीती जागती परिभाषा थे। रंगमंच में अनुभवों का विराट संसार समेटे, रंग-आंदोलन की अलख जगाते बंसी कौल आज (शनिवार) सुबह 8 बजकर 46 मिनट पर वे पर्दा गिरा गए। इस दुनिया को अलविदा कह गए। दिल्ली के द्वारका स्थित अपने निवास पर उन्होंने अंतिम सांस ली।

वे अपने पीछे पत्नी अंजना, रंगविदूषक संस्था और हजारों रंगकर्मी शिष्यों की जमात छोड़ गए। उनके जाने से कला जगत में शोक की लहर दौड़ गई है। उनके रंगकर्म में योगदान के लिए उन्हें पद्मश्री समेत देश विदेश के कई प्रतिष्ठित सम्मान से नवाजा जा चुका था। बंसी दादा की अंतिम यात्रा कल 7 फरवरी 2021 को उनके निवास स्थल सतीसर अपार्टमेंट प्लाट नंबर 6, सेक्टर 7, विश्व भारती स्कूल के सामने से 1: 30 बजे प्रस्थान करेगी तथा दोपहर 3 बजे लोधी रोड शमशान घाट पर अंतिम संस्कार किया जाएगा।

बंसी कौल राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय के स्नातक रहे। उन्होंने भोपाल में रंग विदूषक के नाम से अपनी संस्था बनाई। 1984 से रंग विदूषक ने देश और दुनिया में अपनी नाट्य शैली की वजह से अलग पहचान बनाई। बंसी कौल देश के प्रख्यात डिजाइनर रहे हैं। उन्होंने कई बड़े इवेंट की डिजाइनिंग की। कॉमनवेल्थ गेम्स की ओपनिंग सेरेमनी हो या आईपीएल की ओपनिंग सेरेमनी हो अपनी रचनाधर्मिता से उसे नया रंग दिया। आखिरी दिनों तक बंसी कौल रंगकर्म और नाटकों की दुनिया को लेकर ही चिंतित रहे। थिएटर ऑफ लाफ्टर, सामूहिकता, उत्सव धर्मिता को लेकर एक नया मुहावरा रच गए बंसी कौल।

बंसी दा के उल्लेखनीय नाटक
हिंदी, पंजाबी, संस्कृत, तमिल, सिंहली, उर्दू, बुदेलखंडी एवं बघेलखंडी भाषाओं 100 से अधिक नाटकों के निर्देशन। आला अफसर, मृच्छकटिकम, राजा अग्निवर्ण का पैर, अग्निलीक, वेणीसंहार, दशकुमार चरित्तम, शर्विलक, पंचरात्रम, अंधा युग, खेल गुरू का, जो राम रचि राखा, अरण्याधिपति टण्टयामामा, जिन्दगी और जोंक, तुक्के पर तुक्का, वतन का राग, कहन कबीर और सौदागर आदि उल्लेखनीय हैं।

इन समारोहों में भरे कल्पनाशीलता के नए रंग
आपने अपना उत्सव (1986-87), खजुराहो नृत्य महोत्सव (1988), इंटरनेशनल कठपुतली महोत्सव (1990), नेशनल गेम्स (2001), युवा महोत्सव, हरियाणा (2001) का संकल्पना की। इसके साथ ही गणतंत्र दिवस समारोह, दिल्ली (2002), प्रशांत एशियाई पर्यटक एसोसिएशन (2002), महाभारत उत्सव, हरियाणा (2002) आदि के मुख्य आकल्पक रहे। फ्रांस (1984) और स्विट्जरलैंड (1985), रूस (1988, 2012), चीन (1994), थाईलैण्ड (1996), एडिनबर्ग मेला (2000, 2001) में आयोजित भारत महोत्सव एवं पुस्तक मेला जर्मनी (2008) में भी बतौर आकल्पक आपकी सृजनात्मकता ने कुछ विशिष्ट बनाया।

'जिंदगी और जोंक' नाटक के मंचन से श्रद्धांजलि देंगे

13 फरवरी को भारत भवन का स्थापना दिवस समारोह है। समारोह में 15 फरवरी को बंसी कौल के निर्देशन में 'जिंदगी और जोंक' नाटक का मंचन किया जाना है। गौरतलब है कि बंसी कौल के निर्देशन का यह आखिरी नाटक है। रंग विदूषक के कलाकार शो मस्ट गो ऑन की तर्ज पर अपने गुरु को इस नाटक के माध्यम से श्रद्धांजलि देंगे और याद करेंगे।

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- इस समय निवेश जैसे किसी आर्थिक गतिविधि में व्यस्तता रहेगी। लंबे समय से चली आ रही किसी चिंता से भी राहत मिलेगी। घर के बड़े बुजुर्गों का मार्गदर्शन आपके लिए बहुत ही फायदेमंद तथा सकून दायक रहेगा। ...

और पढ़ें