MP में पेट्रोल पंप 2 घंटे के लिए बंद:शाम 7 से रात 9 बजे तक नहीं मिला पेट्रोल-डीजल; कमीशन बढ़ाने की मांग

भोपालएक महीने पहले

मध्यप्रदेश के करीब 4900 पेट्रोल पंप बुधवार शाम 7 से रात 9 बजे तक बंद रहे। इस दौरान लोगों को पेट्रोल पंप से पेट्रोल-डीजल नहीं मिला। पेट्रोल पंप संचालनों ने 2 घंटे का शट डाउन कर कमीशन बढ़ाए जाने की मांग की। भोपाल में 152 पेट्रोल पंपों पर भी पेट्रोल-डीजल नहीं बेचा गया। इस दौरान पेट्रोल-डीजल भरवाने आए लोग परेशान होते नजर आए। उन्हें बिना ईंधन के ही लौटना पड़ रहा है।

राजधानी भोपाल में हर रोज साढ़े 9 लाख लीटर पेट्रोल और 12 लाख लीटर डीजल की खपत होती है। शाम के समय इन पंपों पर ज्यादा भीड़ रहती है। इसी दौरान गाड़ी मालिकों को परेशानी उठाना पड़ी। दो घंटे पंप बंद होने से वे गाड़ी में ईंधन नहीं भरवा सके।

जरूरी सेवा, इसलिए दो घंटे ही बंद
पेट्रोल पंप बंद रखे जाने के संबंध में मध्यप्रदेश पेट्रोलियम डीलर्स एसोसिएशन ने इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन लिमिटेड के कार्यकारी निदेशक को अल्टीमेटम भी दिया गया था। वहीं, कलेक्टरों को पत्र लिखे थे। एसोसिएशन के अध्यक्ष अजय सिंह ने बताया, इंडियन ऑयल, भारत पेट्रोलियम और हिंदुस्तान पेट्रोलियम के पेट्रोल पंप डीलर्स ने स्टेट लेवल को-आर्डिनेटर के सामने मांगें रखी गई हैं। जरूरी सेवा है। इसलिए सिर्फ दो घंटे ही पंप बंद रखे जा रहे हैं। यदि मांग पूरी नहीं होती है तो आगे अनिश्चितकालीन हड़ताल की जाएगी।

ये हैं मांगें

  • एडवांस जमा एक्साइज ड्यूटी की राशि रिफंड की जाए। वर्तमान में प्रत्येक डीलर को 12 से 15 लाख रुपए का नुकसान उठाना पड़ रहा है।
  • कमीशन बिक्री मूल्य 5% तय हो। नई दरें वर्ष 2017 से लागू हो।

तो आम लोगों पर फिर बढ़ सकता है बोझ

केंद्र सरकार ने हाल ही में एक्साइज ड्यूटी घटाई है। ऐसे में मध्यप्रदेश में पेट्रोल साढ़े 9 रुपए और डीजल 7 रुपए प्रति लीटर तक सस्ता हुआ है। ऐसे में लोगों को बड़ी राहत मिली है। दूसरी ओर पेट्रोल पंप डीलर्स ने कमीशन बढ़ाने की मांग रख दी है। यदि पेट्रोलियम कंपनियां यदि कमीशन बढ़ाती है तो ईंधन के रेट भी बढ़ सकते हैं। ऐसे में आम लोगों की जेब से ही ज्यादा राशि निकलेगी।

यह भी पढ़े:-

MP में पेट्रोल-डीजल दिल्ली-UP से महंगा:कई जिलों में पेट्रोल के रेट 111 पार, दूसरे राज्यों में 12 रुपए कम; जानिए वजह