पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

नाम बदलने की सियासत गरमाई:प्रोटेम स्पीकर शर्मा बोले- ईदगाह हिल्स को गुरुनानक टेकरी पुकारें, लुटेरों के नाम से नहीं

भोपाल5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा (फाइल फोटो)
  • उप्र के बाद मप्र में भी शहरों के नाम बदलने की मांग, सियासत गरमाई
  • होशंगाबाद का नाम बदलकर नर्मदापुर करने की भी मांग

उत्तरप्रदेश के बाद अब मध्यप्रदेश में भी शहरों और स्थानों के नाम बदलने पर सियासत शुरू हो गई है। विधानसभा के प्रोटेम स्पीकर रामेश्वर शर्मा ने सोमवार को भोपाल के ईदगाह हिल्स का नाम बदलकर गुरुनानक टेकरी रखने की मांग की। उन्होंने कहा कि भारतभूमि की पृष्ठभूमि से जुड़े नाम से हमें कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन औरंगजेब और होशंग शाह तो कलंक हैं। लुटेरों के नाम से शहरों को क्यों पुकारा जाए।

शर्मा ने विधायक विश्राम गृह में कर्मचारियों के लिए नए आवासों के भूमिपूजन के दौरान कहा कि होशंगाबाद का नाम बदलकर नर्मदापुर बुलाया जाए, क्योंकि होशंग शाह तो लुटेरा था। उल्लेखनीय है कि उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने चुनावी रोड शो में हैदराबाद का नाम बदलकर भाग्य नगर करने वाली बात कही थी। वैसे प्रदेश में नाम बदलने की राजनीति पहले से चल रही है। इंदौर की पूर्व सांसद सुमित्रा महाजन मुद्दा उठा चुकी है।

सीधी बात : रामेश्वर शर्मा, प्रोटेम स्पीकर- कबीर, रहीम, रसखान ये सब वंदनीय

सवाल : ईदगाह हिल्स का नाम क्यों बदलना चाहते हैं?
हम संत कबीर, रहीम, रसखान नाम ले सकते हैं। ये सब वंदनीय हैं।
इन्होंने कभी जाति-धर्म नहीं देखे। अशफाक उल्लाह और डॉ. अब्दुल कलाम के नाम से कोई स्थान हो तो हमें कोई आपत्ति नहीं है। उन्होंने भारतीय परंपरा काे आगे बढ़ाया है।

ऐसे बदले जा सकते हैं नाम
किसी जिले या स्थान का नाम बदलने के लिए जनप्रतिनिधि अपील करते हैं। नगर निगम प्रस्ताव पारित करती है। इसे शासन कैबिनेट में मंजूरी देता है। फिर यह राज्यपाल को भेजा जाता है। राज्यपाल नाम बदलने की अधिसूचना गृह मंत्रालय को भेजते है।

गृह मंत्रालय इसे मंजूरी देता या फिर नामंजूर कर सकता है। इसकी मंजूरी आने पर सरकार गजट नोटिफिकेशन जारी करती है। इसकी सूचना के बाद बाद जिले में कलेक्टर सरकारी दस्तावेजों से लेकर साइन बोर्ड तक सभी जगह नए नामों को अंकित करवाते हैं।

इंदौर से इंदूर के लिए प्रस्ताव पारित हो चुका
भाजपा शासित नगर निगम परिषद ने पुरातन काल के आधार पर इंदौर का नाम इंदूर करने का प्रस्ताव पारित किया था। इस पर शायर राहत इंदौरी ने तंज कसा था कि इंदौर नाम बदलने से कोई स्मार्ट सिटी नहीं बन जाएगा। हालांकि बाद में प्रस्ताव अधर में ही रह गया।

ये नाम बदल गए
महू से डॉ. अंबेडकर नगर
भाभरा (झाबुआ) से चंद्रशेखर आजाद नगर

कुछ पुराने चर्चित शहरों के नाम
वर्तमान नाम- पुराना नाम
भोपाल-भोजपाल, भूपाल
होशंगाबाद- नर्मदापुर
शाजापुर- शाहजहांपुर
विदिशा- भेलसा, विदावती
खजुराहो-खजुरपूरा, खजूर वाहिका
उज्जैन- अवंतिका, अवंती, उज्जियनी
सीहोर-सीधापुर
दमोह- तुंडीखेत
सोहागपुर-विराट पुरी
दतिया- दिलीप नगर
इंदौर- इंदूर, इंद्रपुर
ओम्कारेश्वर- मांदाता
महेश्वर- माहिष्मति
बुधनी- बुद्ध निवासिनी
जबलपुर-त्रिपुरी
मंदसौर-दसपुर
ग्वालियर-गोपांचल
अमरकंटक-रिक्शा पर्वत

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव - आज की स्थिति कुछ अनुकूल रहेगी। संतान से संबंधित कोई शुभ सूचना मिलने से मन प्रसन्न रहेगा। धार्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करने से मानसिक शांति भी बनी रहेगी। नेगेटिव- धन संबंधी किसी भी प्रक...

    और पढ़ें