पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

भोपाल में नोट उड़ाने का वीडियो बनाता था फर्जी TC:100-200 के नोट का लगाता था ढेर, यूनिफॉर्म से लेकर वायरलेस सेट तक रखता था; पूछने पर कहता था- साहब हूं, अपना काम करो

भोपाल6 दिन पहलेलेखक: अनूप दुबे

भोपाल में चार दिन पहले रेलवे के यूनिफॉर्म में पकड़ा गया 26 साल के फर्जी टिकट कलेक्टर (TC) के कारनामों से रेलवे भी हैरान है। वह बीते छह महीने से वर्दी पहनकर इटारसी से लेकर भोपाल तक उगाही कर रहा था। वायरलेस सेट लेकर स्टेशन और ट्रेन में सफर करता था। किसी के पूछने पर कहता था कि साहब हूं, चलो अपना काम करो। भोपाल रेलवे स्टेशन पर पकड़े जाने के बाद वह कान पकड़कर रोता नजर आया। आरोपी के सोशल मीडिया पर लाखों रुपए के नोट उड़ाने के कई वीडियो मिले हैं। उसने घर पर भी सभी को बताया था कि रेलवे में उसकी नौकरी लग गई है, हालांकि उसके खिलाफ कड़ी कार्रवाई नहीं किए जाने से अब सवाल भी उठ रहे हैं।

बजरिया थाने के साई नगर में रहने वाले 26 साल के आरोपी की पहचान अभय पांडे के रूप में हुई। GRP TI भोपाल दिनेश सिंह चौहान ने बताया कि चार दिन पहले उसे रेलवे के अधिकारियों ने पकड़ा था। अभय रेलवे की यूनिफॉर्म और वायरलेस सेट लिया हुआ था। रेलवे अधिकारियों ने पूछताछ कर उसे RPF को सौंप दिया। RPF ने पूछताछ के बाद उसे GRP के हवाले किया था।

रुपए उड़ाता अभय।
रुपए उड़ाता अभय।

अभय ने बताया कि उसके पिता पहले कपड़ा मिल में काम करते थे, लेकिन नौकरी छूट जाने के कारण वे सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी करने लगे। उसकी मां भी प्राइवेट जॉब करती है। मां की भी नौकरी छूट गई थी। वह उनका इकलौता बेटा है। उसे इटारसी में एक ट्रेन के इंजन में एक वायरलेस सेट मिला था। उसे TC बनने का शौक था, इसलिए वह TC बनकर घूमने लगा, हालांकि रेलवे का कहना है कि वायरलेस सेट चोरी होने की जानकारी नहीं है। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ शासकीय संपत्ति काे अपने लिए उपयोग करने की धाराओं में मामला दर्ज किया। अपराध में तीन साल तक की सजा होने के कारण GRP ने प्रारंभिक कार्रवाई के बाद उसे छोड़ दिया।

सवाल- वायरलेस सेट कहां से आया?
आरोपी के पास एक वायरलेस सेट मिला है, जिसे उसने इटारसी से चुराया है। आरपीएफ भोपाल के टीआई निहाल सिंह ने बताया कि इसके बारे में इटारसी से जानकारी प्राप्त की, लेकिन इस तरह के किसी भी वायरसेल सेट के चोरी होने की कोई रिपोर्ट नहीं है।

वायरलेस सेट पर दूर संचार लिखा हुआ है, लेकिन दूर संचार ने भी इस तरह के सेट के जारी किए जाने से इनकार कर दिया। GRP का कहना है कि आरोपी अभय ने ही इटारसी से वायरलेस सेट चोरी किए जाने के बारे में बताया। सवाल उठता है कि आरोपी ने वायरलेस सेट कहां से हासिल किया। यह सुरक्षा व्यवस्था पर भी बड़ा सवाल खड़ा करता है।

नोट उड़ाते हुए वीडियो सामने आया
आरोपी के मोबाइल फोन में काफी वीडियो मिले हैं। यह वीडियो उसके ही बताए जाते हैं। इसमें वह हिंदी गानों पर नोट उड़ाते नजर आता है। यह नोट 100 और 200 रुपए के नोट हैं। चारों तरफ नोट ही नोट बिखरे नजर आते हैं। GRP इस बात की जांच कर रही है कि यही अभय हैं या फिर कोई और, हालांकि पुलिस ने उससे इस संबंध में ज्यादा पूछताछ नहीं की। वीडियो की पुष्टि दैनिक भास्कर भी नहीं करता है।

घर वालों से बोला TC का जॉब करता हूं
आरोपी अभय की शादी हो चुकी है। TI दिनेश चौहान ने बताया कि आरोपी के दो बच्चे हैं। उसने नौकरी छूटने के बाद घर पर बताया कि वह TC बन गया है। पकड़े जाने के दौरान आरोपी के पास पैसे नहीं मिले। उसने बताया कि वह पहली बार ही स्टेशन पर आया था।

कॉलोनी में किसी से बात नहीं करता था
लोगों ने बताया कि वह जहां रहता है वहां पर रेलवे और GRP के लोग भी रहते हैं। वह चुपचाप रहता था और किसी से कोई बात नहीं करता था। चुपचाप घर आना और फिर वहां से चुपचाप निकल जाता था।

खबरें और भी हैं...