• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Rameshwar Sharma Said – The Cunning Was Describing The Split Policy Of The Mughals; There Is No Motive To Hurt Rajput Society; Controversial Statement Was Given In The Context Of Akbar And Jodha Bai In Sagar

जोधा-अकबर विवाद में घिरे BJP विधायक:रामेश्वर शर्मा बोले- सत्ता लोभियों ने बेटी दांव पर लगाई, ऐसे लुटेरों से बचकर रहें; विवाद बढ़ा तो कहा- क्षमा चाहता हूं

भोपाल4 महीने पहले

मध्य प्रदेश के सागर में 'हिंदुत्व धर्म संवाद' कार्यक्रम में अकबर और जोधा की कहानी पर बयान देकर बीजेपी विधायक रामेश्वर शर्मा फंस गए हैं। उनके बयान का भारी विरोध हो रहा है। विदिशा में क्षत्रिय समाज ने उनका पुतला फूंका है। विवाद बढ़ता देख विधायक माफी भी मांग चुके हैं। उन्होंने कहा है, 'मैं चालाक मुगलों की फूट नीति का वर्णन कर रहा था। राजपूत समाज को ठेस पहुंचाना मकसद नहीं था। मैं हिंदुत्व के रक्षक राजपूतों से क्षमा चाहता हूं।'

इससे पहले रविवार को सागर के रविन्द्र भवन में रामेश्वर शर्मा ने कहा था, 'जोधाबाई से रिश्ता किसने किया? कोई आई लव यू नहीं था। लव था, मोहब्बत थी? कॉलेज में साथ पढ़े थे? कहीं मिले थे? कॉफी हाउस में, जिम में? जब लोग सत्ता के लोभी हो जाएं और सत्ता चाहने के लिए बेटी को दांव पर लगा दें तो ऐसे लुटेरों से भी सावधान रहो। जो तुम्हारे हैं, लेकिन धर्म को धोखा दे सकते हैं।' विधायक के इस विवादित बयान का वीडियो भी सामने आया है।

भोपाल से बीजेपी विधायक रामेश्वर शर्मा ने सोमवार देर शाम सफाई देते हुए कहा कि राजपूत समाज शुरू से हिंदुत्व का रक्षक रहा है। आदिकाल से आज तक क्षत्रिय वीरों की गाथाएं देश को गौरवान्वित करती रही हैं। मैं सदैव हिंदुत्व के रक्षक महाराणा प्रताप और पृथ्वीराज चौहान की वीर गाथाओं का गौरव गान करता रहा हूं। इतिहास में भले ही अकबर को महान बताया गया हो, लेकिन मेरे लिए अकबर नहीं महाराणा प्रताप महान हैं।

विदिशा में क्षत्रिय समाज ने विधायक रामेश्वर शर्मा का पुतला फूंका।
विदिशा में क्षत्रिय समाज ने विधायक रामेश्वर शर्मा का पुतला फूंका।

रामेश्वर की सफाई- मैं राजपूत समाज पर उंगली उठा ही नहीं सकता
विधायक ने कहा है कि हिंदुत्व धर्म संवाद में अकबर और जोधा के प्रसंग के वर्णन का उद्देश्य मुगलों की चालाकी और फूट-नीति का उल्लेख करना था। महाराणा प्रताप, वीर शिवाजी और पृथ्वीराज चौहान से प्रेरणा पाकर हिंदुत्व के लिए लड़ने वाला रामेश्वर शर्मा कभी राजपूत समाज पर उंगली उठा ही नहीं सकता, लेकिन फिर भी मेरे किसी शब्द से मेरे किसी भी राजपूत या हिंदू भाई की भावनाओं को ठेस पहुंची हो तो आपका भाई रामेश्वर शर्मा 100 बार आपके सामने झुकने को तैयार है और आपसे इसके लिए क्षमा चाहता है।

खबरें और भी हैं...