• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Repairing From October 6, Instructions To Municipal Corporation, PWD And CPA Officers; Roads Will Have To Be Cleaned In 15 Days

खुशखबरी... भोपाल की खराब सड़कें सुधरेगी:रिपेयरिंग 6 अक्टूबर से, नगर निगम, PWD और CPA अफसरों को निर्देश; 15 दिन में हर हाल में संवारना होगी सड़कें

भोपाल4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भोपाल की सड़कों की हालत ठीक नहीं है। बारिश होने पर कीचड़ फैल जाता है। जबकि बारिश थमने के बाद धूल के गुबार उड़ते हैं। - Dainik Bhaskar
भोपाल की सड़कों की हालत ठीक नहीं है। बारिश होने पर कीचड़ फैल जाता है। जबकि बारिश थमने के बाद धूल के गुबार उड़ते हैं।

राजधानी भोपाल की खुबसूरती पर दाग लगा रही सड़कें की तस्वीर बदलने वाली है। कमिश्नर कवींद्र कियावत ने 6 अक्टूबर से सड़कों की रिपेयरिंग कराने के निर्देश नगर निगम कमिश्नर, PWD और CPA अफसरों को दिए हैं। इन एजेंसियों को 15 दिन के भीतर हर हाल में सड़कों की हालत सुधारना होगी। 20 अक्टूबर तक रिपेयरिंग का काम चलेगा।

इस संबंध में कमिश्नर कियावत ने 30 सितंबर तक सड़कों के सुधार का प्लान एजेंसियों से मांगा है। ताकि शहर के हर हिस्से की जर्जर सड़क को सुधारने की डिटेल अफसरों के पास भी हो।

बारिश के चलते 6 दिन आगे बढ़ा काम

21 सितंबर को कमिश्नर कियावत ने अफसरों की मीटिंग लेकर 1 अक्टूबर से सड़कों की मरम्मत करने को कहा था और यह काम 15 अक्टूबर तक चलना था, लेकिन मानसून की विदाई नहीं होने और बारिश होने के चलते सड़कों की मरम्मत की शुरुआत 6 दिन आगे बढ़ा दी गई है।

अभी 70% तक सड़कें खराब

राजधानी की करीब 70% खराब सड़कों ने लोगों की मुश्किलें बढ़ा रखी है। बारिश थमने पर जहां धूल के गुबार उड़ते हैं तो वहीं बारिश होने पर गड्‌ढे उभर आते हैं और कीचड़ फैल जाता है। वर्तमान में रिमझिम बारिश का दौर जारी है। इस कारण कई हिस्सों में कीचड़ फैला हुआ है। हालांकि, मंगलवार को बारिश थमी रही। जिससे सड़कों पर धूल के गुबार उड़ रहे हैं।

निगम की 288 सड़कें खराब, पीडब्ल्यूडी-सीपीए की सड़कें भी बेहाल

नगर निगम की करीब 288 सड़कें खराब हैं। इनमें से 24 सड़कें गारंटी पीरियड में बताई जा रही है, जिनकी मरम्मत ठेकेदार ही करेंगे। वहीं, अन्य सड़कों की रिपेयरिंग में 70.30 करोड़ रुपये खर्च होंगे। निगम अधिकारियों ने सरकार ने करीब 44 करोड़ रुपये का अनुदान भी मांगा है। PWD और CPA (राजधानी परियोजना प्रशासन) की सड़कें भी खराब है। कोलार का करीब 10 किमी लंबी सड़क पूरी तरह से उखड़ चुकी है। कोलार रेस्ट हाउस, चूना भट्‌टी, नयापुरा, ललिता नगर, हनोती जोड़ और गेहूंखेड़ा में बुरे हाल है। पीडब्ल्यूडी अधिकारियों का कहना है कि नगर निगम द्वारा पानी और सीवेज लाइन की खुदाई करने के कारण सड़क की हालत बिगड़ी है। इन सड़कों की मरम्मत 6 अक्टूबर से की जाएगी।

भोपाल की खराब सड़कों से राहत नहीं:बारिश ने फिर बिगाड़े हाल, गड्‌ढे उभरे और कीचड़ फैला, कई इलाकों में सड़कें तालाब बनी; 70% खराब हालत में

पूरे शहर में खुदी सड़कें

वर्तमान में पूरे शहर की सड़कों की हालत ठीक नहीं है। चाहे उप नगर कोलार की बात करें या फिर पुराने भोपाल के हमीदिया रोड, सुल्तानिया रोड, भानपुर, हलालपुर, श्यामला हिल्स, नेहरू नगर, रायसेन रोड, अवधपुरी, करोंद, अल्पना तिराहा, होशंगाबाद रोड समेत अन्य कॉलोनियों की। सभी दूर एक जैसी स्थिति है। इसे लेकर लोग विरोध भी जता रहे हैं। दानिश नगर कॉलोनी में जर्जर सड़क पर महिलाओं ने 'रैम्प वॉक' भी किया था।

खबरें और भी हैं...