पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Repeating Mistakes Due To No Concrete Action Taken By Bhopal Police; If The Anger Of The Common People Increased, Then The Behavior Started

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

गलती का एक कदम, फिर वापसी...:भोपाल पुलिस पुख्ता कार्यवाही नहीं होने से दोहराती जा रही गलतियां; आमजन का आक्रोश बढ़ा तो व्यवहार होने लगा ठीक

भोपाल10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कोलार में मां की मिन्नतों के बाद भी बेटे को पुलिसकर्मी ले गए थाने। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
कोलार में मां की मिन्नतों के बाद भी बेटे को पुलिसकर्मी ले गए थाने। (फाइल फोटो)

लॉकडाउन और कर्फ्यू के बीच के सैद्धांतिक अंतर को न समझ पाने का नतीजा है पुलिस का क्रूर और दमनपूर्ण व्यवहार। नियमों का पालन कराने की जा रही ज्यादतियों पर पुलिस को बार-बार बैक फुट पर आना पड़ रहा है, लेकिन गलती करने वालों को सजा न मिलने का असर ये है कि गलतियां नए रूप लेकर दोबारा सामने आ रही हैं।

मामला एक : काजी कैंप में महिलाओं के साथ की गई मारपीट
रात्रिकालीन कर्फ्यू के दौरान देर रात चल रही चाय दुकान को बंद कराने पहुंचे पुलिसकर्मियों ने दुकान संचालक के परिवार की महिलाओं की बेरहमी से पिटाई कर दी। इस दौरान दुकान और घर के अंदर भारी तोड़फोड़ भी की गई। कर्फ्यू के दौरान दुकान खोले रखने वाले दुकानदार पर कार्यवाही तक मामला मुनासिब था, लेकिन इस दौरान महिलाओं के साथ मारपीट का मामला तूल पकड़ गया। विधायक आरिफ अकील से लेकर विभिन्न आयोगों तक ने इस मामले पर तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की। नतीजा यह हुआ कि पुलिस जहां पहले पीड़ित महिलाओं के खिलाफ भी मामला बनाने की तैयारी में थी, वहीं उसे कदम पीछे कर अपनी करनी पर अफसोस जाहिर करना पड़ गया। मामले के दोषी पुलिसकर्मियों पर किसी तरह की कार्यवाही करने की बजाए पुलिस प्रशासन ने इस कहानी को आगे बढ़ाया कि दुकान बंद कराने गए पुलिसकर्मियों पर महिलाओं ने हमला किया था, जिससे वे घायल हो गए। इसी बात को लेकर पुलिस ने यह कार्यवाही की है। लेकिन इस बीच इस बात को दरकिनार कर दिया गया कि महिलाओं पर कार्यवाही करने और उनसे मारपीट करने का अधिकार पुरुष पुलिसकर्मियों को किसने दिया। इस कार्यवाही के लिए महिला पुलिस को क्यों नहीं बुलाया गया? हालांकि बाद में मामले की जांच एक महिला पुलिस अधिकारी को सौंपकर मामले को रफादफा कर दिया गया है।

मामला दो : कोलार में मां की मिन्नतों का नहीं हुआ असर
अपनी मां का कोविड टेस्ट कराने जा रहे एक युवक को पुलिस ने चेकिंग के दौरान कोलार थाना क्षेत्र के अनुपम तिराहे पर रोक लिया। इस दौरान युवक के साथ आतंकियों तरह व्यवहार करते हुए उसके साथ मारपीट की गई और जबरिया डायल 100 में बैठाकर उसे थाने ले जाया गया, उसके खिलाफ धारा 188 की कार्यवाही करने की तैयारी भी की गई। इस पूरी कार्यवाही के दौरान युवक की बीमार मां पुलिस के हाथ-पैर जोड़ती रही, मिन्नतें करती रही और अपने बेटे को छोड़ देने की गुहार पुलिस से लगाती रही। सोशल मीडिया पर मामले का वीडियो वायरल हो जाने के बाद पुलिस को अपनी गलती का अहसास हुआ। उसने शाम होने से पहले अपने अधिकृत प्रेसनोट में इस बात को स्वीकार किया कि बैरिकेटिंग के दौरान युवक को रोका गया था। लेकिन उसके द्वारा पुलिस से बदसुलूकी करने पर उसे थाने ले जाया गया था। पुलिस ने किसी भी कार्यवाही के किए जाने से भी इंकार करने की घोषणा अपने प्रेसनोट में कर दी।

मामला तीन : भानपुर ब्रिज से ले गए थाने और फिर जारी कर दिया पास
अपनी बीवी के जेवर गिरवी रखकर बीमारों की सेवा करने के लिए निकले ऑटो चालक को छोला पुलिस ने भानपुर ब्रिज के पास रोका। इस दौरान ऑटो चालक जावेद अपने ऑटो में बनाए गए ऑक्सीजनयुक्त एम्बुलेंस से किसी मरीज को मदद पहुंचाने जा रहा था। पुलिस कार्यवाही में हुई देरी का नतीजा यह हुआ कि जावेद को मदद के लिए बुलाने वाले मरीज की जान चली गई। इस मामले को लेकर थाना प्रभारी द्वारा पहले यह दलील दी जा रही थी कि आटो चालक के पास इमरजेंसी सेवा के लिए कोई दस्तावेज नहीं था और उसके आटो पर भी इस तरह का कोई पास चस्पा नहीं था, जिसके चलते उसपर कार्यवाही की गई। पिछले कई दिनों से ऑटो एम्बुलेंस के जरिये लोगों को मदद पहुंचा रहे जावेद के साथ हुई इस पुलिस कार्यवाही की खबरें सोशल मीडिया पर लहराईं तो शाम को छोला थाना ने जावेद पर किसी तरह की कार्यवाही न किए जाने का ऐलान कर दिया। अपने अधिकृत प्रेसनोट में उसने स्पष्ट किया कि ऑटो चालक को थाने ले जाया गया था, लेकिन बाद में उसे बिना कार्यवाही के ही छोड़ दिया गया है। यह पूरा मामला होने के बाद डीआईजी इरशाद वली और कलेक्टर अविनाश लावनिया ने जावेद को विशेष के लिए अधिकार पत्र भी जारी कर दिया है।

इसलिए हो रही गलतियां
कोरोना काल की शुरुआत के दौर में पहली बार लॉकडाउन शब्द चर्चाओं में आया। इस दौरान लगाई जाने वाली पाबंदियां कमोबेश कर्फ्यू जैसी ही हैं। व्यवस्था संभालने के लिए पुलिस को जिम्मेदारी दी गई। इसी के चलते पुलिसकर्मियों ने कर्फ्यू और लॉकडाउन के अंतर को ठीक से अध्ययन नहीं किया। शुरुआती दौर में उन्होंने लोगों के साथ कर्फ्यू जैसा व्यवहार ही किया और उनके साथ बदसुलूकी के साथ मारपीट करने में भी कौताही नहीं की। लेकिन इस तरह के मामले लगातार बढ़ने लगे तो विरोध के स्वर उठे और मामले मानवाधिकार आयोग जैसी संस्थाओं तक जाने लगे। जिसके बाद पुलिस ने अपने व्यवहार को शिथिल करते हुए मारपीट के हालात से खुद को पीछे करना शुरू कर दिया है। इसके बाद भी कई मामले ऐसे होते जा रहे हैं, जिनसे न सिर्फ पुलिस की छवि खराब हुई है, बल्कि लोगों का पुलिस के प्रति रोष भी बढ़ने लगा है।
कार्यवाही से यू-टर्न, दोषियों पर कार्यवाही नहीं
इधर राजधानी भोपाल में हुए कुछ मामलों में पुलिस ने अपनी गलती स्वीकार करते हुए कार्यवाही से यू-टर्न ले लिया है लेकिन इन गलतियों के लिए दोषी पुलिसकर्मियों पर किसी तरह की विभागीय कार्यवाही नहीं की गई है। इंदौर में एक ऑटो चालक के साथ मारपीट के आरोपी पुलिसकर्मियों को जिस तरह लाइन अटैच कर दंडित किया गया था, वैसी कार्यवाही राजधानी में किसी पर न हो पाना भी यहां पुलिसकर्मियों द्वारा पहले गलती करने और बाद में सॉरी कह देने जैसे हालात बने हुए हैं।
पुलिस पर सतत काम का प्रेशर
इस मामले डीआईजी इरशाद वली का कहना है कि पुलिस पर सतत काम का प्रेशर है। कोरोना कर्फ्यू की पाबंदियों को लोग तोड़ रहे हैं, कार्यवाही किए जाने पर कहानी को अलग तरह से पेश कर अपना पक्ष रखने लगे हैं। इसके बाद भी जहां इस बात का अहसास हुआ कि पुलिस से गलती हुई है, उसके सुधार की कोशिश की गई है। कुछ गंभीर मामलों में गलती करने वाले पुलिसकर्मियों को दंडित भी किया गया है।

रिपोर्ट: खान आशु

खबरें और भी हैं...

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव - आज की स्थिति कुछ अनुकूल रहेगी। संतान से संबंधित कोई शुभ सूचना मिलने से मन प्रसन्न रहेगा। धार्मिक गतिविधियों में समय व्यतीत करने से मानसिक शांति भी बनी रहेगी। नेगेटिव- धन संबंधी किसी भी प्रक...

और पढ़ें