• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Resigned After Husband's Major Accident, Again Became A Teacher After Doing M.Ed And Won Award

एक शिक्षिका के संघर्ष की कहानी:पति के मेजर एक्सीडेंट के बाद इस्तीफा दिया, दोबारा एमएड कर टीचर बनीं और जीते अवॉर्ड

भोपाल2 महीने पहलेलेखक: अनूप दुबोलिया
  • कॉपी लिंक

चूना भट्टी हायर सेकेंडरी स्कूल में पदस्थ उच्च माध्यमिक शिक्षक वंदना पांडे को शिक्षक दिवस पर राज्य स्तरीय पुरस्कार शिक्षक पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। रविवार को मंत्रालय में उन्हें सम्मानित किया गया। इस साल यह पुरस्कार पाने वाली वे भोपाल की इकलौती शिक्षक हैं।

इस मुकाम तक पहुंचने के लिए वंदना ने बहुत संघर्ष किया। उनके पति एचके पांडे 17 साल पहले वीआईपी रोड पर हुए सड़क हादसे में गंभीर घायल हो गए थे। तब वंदना रीवा में संविदा शिक्षक थी। वहां से उन्हें नौकरी छोड़कर भोपाल आना पड़ा। कुछ महीनों बाद स्थिति सामान्य होने पर उन्होंने पीजीबीटी रीवा से एमएड टॉप किया। 2008 में परीक्षा देकर वे रीवा के दोसर स्कूल में दोबारा संविदा वर्ग 1 में शिक्षक बनी। 2012 में उनकी पोस्टिंग चूना भट्टी हायर सेकेंडरी स्कूल में हुई। इसके अगले साल 2013 से उनकी कामयाबी का सिलसिला शुरू हुआ, जो अभी तक जारी है।

साल दर साल यह है उनकी कामयाबी का सफर

  • 2013 में ही उन्हें पर्यावरण मित्र का पुरस्कार मिला। * एप्को के साथ काम करते हुए आईआईएफएम में हुए क्विज भी जीते।
  • कोरोना काल में पिछले साल सिंगल यूज प्लास्टिक और बायो डायवर्सिटी पर आयोजित ऑन लाइन प्रोग्राम में उनके स्कूल को देश के बेस्ट परफॉर्मिंग टॉप 20 इको क्लब में चुना गया।
  • 2014-15 में स्कूल के स्टूडेंट्स द्वारा मल्टीलेवल क्रॉपिंग विथ वाटर कंजर्वेशन पर बनाए मॉडल को इंस्पायर अवार्ड के लिए चुना गया।
  • विप्रो अर्थियन एजुकेशन प्रोग्राम के तहत राज्य स्तर पर द्वितीय पुरस्कार के लिए भी स्कूल का चयन
  • राष्ट्रीय वन महोत्सव कार्यक्रम के तहत स्कूल के 2 छात्र महक और ईशान वारसी को नेशनल लेवल के वेबिनार में ग्रीन कन्वर्सेशन में शामिल होने का मौका मिला।
खबरें और भी हैं...