पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

जिम्मेदारों की अनदेखी:200 साल पुराने चौक बाजार में अतिक्रमण से सिकुड़ी सड़कें, पैदल चलना भी मुश्किल

भोपाल24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
चौक बाजार भोपाल
  • प्रयोग तो खूब हुए, लेकिन नहीं सुधरे हालात
  • पार्किंग के इंतजाम न होने से और ज्यादा बिगड़े हालात

शहर का 200 साल पुराना चौक बाजार। जिम्मेदारों की अनदेखी के कारण हमेशा अव्यवस्थाओं से घिरा रहता है। अतिक्रमण के कारण सड़कें सिकुड़ गई हैं। हाथ ठेलों की भीड़ से यहां पैदल चलना भी मुश्किल है। यहां खरीदारी करने पहुंचने वालों लोगों का आधे से ज्यादा वक्त तो वाहन पार्किंग के लिए जगह तलाशने में ही निकल जाता है।

यहां की समस्याओं से प्रशासन और नगर निगम भी वाकिफ है, लेकिन दोनों ही कार्रवाई के नाम पर कुछ नहीं करते। हांलाकि पूर्व में यहां कई तरह के प्रयोग भी हुए लेकिन समस्याओं से बाजार को निजात नहीं मिली। फिलहाल तो वाहन पार्किंग और अतिक्रमण की समस्या सबसे बड़ी है।

खराब सड़कें व उड़ती धूल से भी लोग परेशान
जुमेराती, हनुमानगंज व घोड़ा नक्कास क्षेत्र में सड़कें जगह-जगह से खुदी हुई हैं। इससे बाजार में जाम लग रहा है। भोपाल किराना व्यापारी महासंघ के महासचिव अनुपम अग्रवाल ने बताया कि सीएम हेल्पलाइन में शिकायत के बाद भी कुछ नहीं हुआ।

पार्किंग के लिए स्थान...राजधानी वस्त्र व्यवसायी संघ अध्यक्ष श्याम बाबू अग्रवाल ने बताया कि यदि लोक निर्माण विभाग के खाली 3 बंगलों को तोड़ दें तो डेढ़ एकड़ जगह निकल आएगी। इसमें मल्टीलेवल पार्किंग को विकसित किया जा सकता है।

निगम उठाए कदम... पूर्व मंत्री एवं विधायक आरिफ अकील ने कहा कि चौक बाजार की समस्याएं हल करना नगर निगम की जिम्मेदारी हैं। जहां सरकारी बंगले तोड़कर मल्टी लेवल पार्किंग बनाने की बात है, तो मैं इससे सहमत हूं।

नगर निगम प्रस्ताव देगा तो निर्णय लेंगे
सरकारी बंगलों को तोड़कर पार्किंग स्थान बनाने का प्रस्ताव नगर निगम देगा तो जरूरी कार्रवाई करेंगे। अतिक्रमण हटवाने के लिए निगम प्रशासन से कहूंगा। -अविनाश लवानिया, कलेक्टर

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- दिन उन्नतिकारक है। आपकी प्रतिभा व योग्यता के अनुरूप आपको अपने कार्यों के उचित परिणाम प्राप्त होंगे। कामकाज व कैरियर को महत्व देंगे परंतु पहली प्राथमिकता आपकी परिवार ही रहेगी। संतान के विवाह क...

और पढ़ें