पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Sam Global University Is The First Choice Of Students In MP, The Director Said We Do Not Show Students Dreams Of A Bright Future, But Prepare Them To Make Dreams Come True

फीचर आर्टिकल:MP में सैम ग्लोबल यूनिवर्सिटी छात्रों की पहली पसंद, डायरेक्टर बोलीं- हम छात्रों को सुनहरे भविष्य के सपने नहीं दिखाते बल्कि सपनों को सच करने के लिए तैयार करते हैं

भोपाल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सैम ग्लोबल विश्वविद्यालय। - Dainik Bhaskar
सैम ग्लोबल विश्वविद्यालय।

मध्यप्रदेश में निजी विश्वविद्यालयों में सैम ग्लोबल विश्वविद्यालय की अलग पहचान है। अपने आरंभ से ही यह विश्वविद्यालय विद्यार्थियों की पहली पसंद बना हुआ है। कैंपस से लेकर कैंपस प्लेसमेंट तक विद्यार्थियों से जुड़े हर पहलुओं पर यहां विशेष ध्यान दिया जाता है। सैम ग्लोबल विश्वविद्यालय में विद्यार्थियों के वर्तमान और भविष्य से सम्बंधित पहलुओं पर हमें विस्तार से बता रही हैं, संस्थान की डायरेक्टर, इंजी. प्रीति सलूजा मैम।

1. सैम ग्लोबल विश्वविद्यालय स्थापित करने के पीछे आपका मुख्य उद्देश्य क्या रहा है?

उत्तर- सैम ग्लोबल विश्वविद्यालय की स्थापना भोपाल शहर में इंडस्ट्री-ओरिएंटेड कोर्सेज लाकर बच्चों को फ्यूचर बनाने के मुख्य उद्देश्य से की गई है। सैम ग्लोबल विश्वविद्यालय के माध्यम से हम भोपाल शहर में ही अंतरराष्ट्रीय स्तर की उत्कृष्ट शिक्षा उपलब्ध कराना चाहते हैं।

2. सैम ग्लोबल विश्वविद्यालय की विशेषताएं क्या हैं?

उत्तर- ग्लोबल स्तरीय शिक्षा को लोकल स्तर पर उपलब्ध कराने की दिशा में तत्पर सैम ग्लोबल विश्वविद्यालय में कोर्स करिकुलम, इंडस्ट्री के विशेषज्ञों के साथ मिलकर बनाया गया है। इसके साथ ही बेहतरीन इंफ्रास्ट्रक्चर, मॉडर्न क्लास रूम, एंटरप्रेन्योरशिप सेल, ट्रेनिंग एवं प्लेसमेंट सेल, स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स, हॉस्टल फैसिलिटी आदि सुविधाओं के साथ शिक्षा ग्रहण करने का अवसर मिलता है।

3. विश्वविद्यालय में कौन-कौन से कोर्सेज का अध्ययन कराया जाता है?
उत्तर- सैम में विद्यार्थी आयुर्वेद, प्रबंधन, फार्मेसी, शिक्षा, नर्सिंग, पैरामेडिकल, साइंस, आईटी, आर्ट्स, कॉमर्स, एग्रीकल्चर, जर्नलिज्म, इंजीनियरिंग, वोकेशनल स्टडीज, लाइब्रेरी साइंस, ए आई- मशीन लर्निंग, डेटा साइंस, पब्लिक हेल्थ, बैंकिंग एवं फाइनेंस, साइकोलॉजी आदि में उच्च शिक्षा प्राप्त कर सकते हैं।

4. आज के समय में छात्रों का सबसे अधिक रुझान कौन से कोर्सेज के प्रति दिख रहा है?
उत्तर- मौजूदा दौर में जब कोविड-19 महामारी में पूरी दुनिया ने मेडिकल प्रोफेशनल्स का महत्व जाना, तब से मेडिकल कोर्सेज के प्रति बच्चों का अलग ही रुझान दिखा है। बच्चों के मन में मेडिकल की पढ़ाई करने और इसी फील्ड में करियर बनाने का जोश दिख रहा है और इसी बात का नतीजा है कि इस क्षेत्र में नौकरी के भी बहुत अवसर दिख रहे हैं।

5. आपके हिसाब से कॉलेज/ संस्थान का चयन करते समय छात्रों को किन बातों का ध्यान रखना चाहिए?
उत्तर- देखिए, बच्चे किसी भी कॉलेज में सिर्फ़ दो वजह से आते हैं, पहला कॉलेज में पढ़ाई कैसी हो रही है और दूसरा ये कि कॉलेज के बाद जॉब कैसी मिल रही है। इन दोनों बातों का ध्यान सैम में हमेशा से रखा गया है। हमारी अनुभवी फैकल्टी और एक्टिव ट्रेनिंग एवं प्लेसमेंट सेल बच्चों के वर्तमान और भविष्य को
उज्जवल करने को हमेशा तत्पर रहती है।

फीचर आर्टिकल:करियर में अगर छात्रों को सही मार्गदर्शक मिल जाए तो जीवन की राह आसान हो जाती है, सैम ग्लोबल यूनिवर्सिटी के काउंसलर बोले- सही समय पर सही फैसला लें

6. भविष्य में और किस प्रकार के कोर्सेज सैम में देखने को मिलेंगे?
उत्तर- हम अपने रेगुलर और सेंटर ऑफ एक्सीलेंस कोर्सेज के साथ अपने सर्टिफिकेट कोर्सेज, जो कि डिजिटल मार्केटिंग, बेकरी, फोटोग्राफी, पर्सनल ग्रूमिंग, एंकरिंग आदि में है, उनको अधिक अवधि के लिए विद्यार्थियों के लिए लाने का प्रयास कर रहे हैं। इसके साथ ही हम मेडिकल क्षेत्र से जुड़े कुछ और कोर्सेज भी लाने जा रहे हैं। साथ ही कुछ नए कोर्सेज हैं, जिनके बारे में हम जल्दी ही बताएंगे।

7. आपके हिसाब से कौन-सी बात सैम ग्लोबल विश्वविद्यालय को सबसे अलग बनाती है?
उत्तर- सैम ग्लोबल विश्वविद्यालय की सबसे विशेष बात ये है कि यहां हर एक निर्णय का सेंट्रल पॉइंट विद्यार्थी होते हैं। एजुकेशन से एम्प्लॉयमेंट तक के सफ़र के हर कदम पर सैम विद्यार्थियों के साथ है।

8.विश्वविद्यालय से पास-आउट हो रहे छात्रों के प्लेसमेंट की क्या व्यवस्था है?
उत्तर- पास-आउट हो रहे छात्रों के लिए ट्रेनिंग एवं प्लेसमेंट सेल एजुकेशन फेयर और रिक्रूटर्स की मदद से जॉब के साथ उनके भविष्य को उज्जवल बनाने के लिए तत्पर हैं।

9. कोविड-19 को ध्यान में रखते हुए सैम में सुरक्षा के लिहाज से क्या कदम लिए गए हैं?

उत्तर- इस महामारी के शुरू होते ही हमने बच्चों के लिए ऑनलाइन क्लासेज का प्रबंध कर दिया था। इसके साथ ही हर एंट्रेंस पर सैनिटाइजर डिस्पेंसर लगवाया गया है और पूरे कैंपस का सैनिटाइज़ेशन किया गया है। हमारे यहां हर कदम पर सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखा जाता है और बिना मास्क के किसी का भी विश्वविद्यालय में प्रवेश वर्जित है।

10. इस महामारी के बाद जब बच्चे सैम में प्रवेश करेंगे तो उनकी मानसिक स्वास्थ्य के लिए आप क्या नीति अपनाएंगी?
उत्तर- हम भी उस पल का इंतज़ार कर रहे हैं, जब कैंपस बच्चों की हंसी से गूंजेगा। हम बच्चों के लिए कैंपस में योगा और मेडिटेशन क्लासेज़, मोटिवेशनल सेशन, आदि का आयोजन करवाएंगे, ताकि वो नई ऊर्जा से भविष्य के लिए सोच सकें। साथ ही हम बच्चों के सम्पूर्ण डेवेलपमेंट के लिए सिंगिंग, डांस, फोटोग्राफी आदि की शार्ट-टर्म क्लासेज़ का भी आयोजन करेंगे ताकि वे अन्य क्षेत्रों में भी करियर का सोच सकें।

11. उन छात्र - छात्राओं के लिए आप क्या संदेश देना चाहेंगी, जो सैम ग्लोबल विश्वविद्यालय में प्रवेश लेने वाले हैं?
उत्तर- सैम से जुड़ने वाले बच्चों से ये कहना चाहेंगे कि एक ऐसे संस्थान में आपका स्वागत है, जो आपको सुनहरे भविष्य के सपने नहीं दिखाता बल्कि आपके भविष्य को देखे हुए सपनों को सच करने के लिए तैयार करता है। सैम ग्लोबल विश्वविद्यालय में आपका स्वागत है।