• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Samples Will Not Disappear Or Leak From The Laboratory; Because Now It Will Be Kept In The Rack.. For The First Time Tagging Will Also Happen.

अब व्यवस्था में बदलाव:लेबोरेटरी से सैंपल न गायब होंगे, न लीक; क्योंकि अब रैक में रखे जाएंगे.. पहली बार टैगिंग भी होगी

भोपाल11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
लैब में अब यह व्यवस्था। - Dainik Bhaskar
लैब में अब यह व्यवस्था।

राजधानी की राज्य स्तरीय फूड लेबोरेटरी से साढे आठ सौ सैंपल गायब होने के बाद अब व्यवस्था में बदलाव किया है। इसके तहत लेबोरेटरी में आने वाले सैंपलों को रैक में रखा जाएगा। इन सैंपलों की टैगिंग भी की जाएगी, ताकि इन्हें सुरक्षित रखा जा सके।

प्रदेश की स्टेट फूड लैब में जुलाई 2019 से अब तक यानी तीन साल में मावा, पनीर, मिठाई, टोमेटो कैचअप, ऑयल, मावा, मसाले, मूंगफली दाने सहित अन्य खाद्य पदार्थों के करीब 30 हजार 200 लीगल सैंपल लिए गए थे। इसमें से 850 से ज्यादा सैंपल गुम हो गए थे। अब तक प्रदेश में करीब 7 हजार सैंपल की जांच रिपोर्ट आना बाकी है। गुम हुए सैंपलों को लेकर जिलों से सैंपलों का दूसरा पार्ट मंगवाया गया है, ताकि उनकी जांच हो सके।

सैंपलों की संख्या अधिक होने की वजह से उनको रखने का इंतजाम नहीं था, जिसको देखते हुए रैक लगाए गए हैं। जिससे सैंपलों की टैगिंग कर उन्हें सुरक्षित रखा जा सकेगा।
अभिषेक दुबे, संयुक्त संचालक, खाद्य सुरक्षा

खाद्य पदार्थ का सैंपल चार पार्ट में होता है

खाद्य पदार्थ का सैंपल चार पार्ट में होता है। पहला पार्ट लैब में जांच के लिए भेजा जाता है। वहीं, अन्य तीन पार्ट को संभालकर जिले के विभागीय कार्यालय में रखा जाता है। इसमें दूसरा पार्ट खाद्य प्रयोगशाला के लिए तथा तीसरा पार्ट सैंपल की जांच रिपोर्ट चैलेंज होने पर सेंट्रल लेबोरेट्री में भेजने के लिए होता है। वहीं सैंपल का चौथा पार्ट जिस दुकानदार से लिया गया है, उसका होता है। पहली बार इन सैंपलों की टैगिंग की गई है, जिससे इन्हें आसानी से रखा जा सके।