रोक हटी / प्रदेश में आज से हो सकेगा रेत खनन, एनजीटी ने रोक हटाई, मनरेगा के तहत मजदूरों को मिलेगा काम

Sand mining will be possible in the state from today, NGT lifted ban, laborers will get work under MNREGA
X
Sand mining will be possible in the state from today, NGT lifted ban, laborers will get work under MNREGA

  • 11 लाख प्रवासी मजदूरों को मनरेगा और विनिर्माण क्षेत्र में रोजगार मिलने का रास्ता साफ
  • एनजीटी ने स्पष्ट किया है कि जिन रेत खदानों की खनन क्षमता में वृद्धि की गई है, उन्हीं को नवीन पर्यावरणीय मंजूरी लेनी होगी

दैनिक भास्कर

Jun 02, 2020, 08:05 AM IST

भोपाल. लॉकडाउन के कारण प्रदेश में लौटकर आए 11 लाख प्रवासी मजदूरों को मनरेगा और विनिर्माण क्षेत्र में रोजगार मिलने का रास्ता साफ हो गया है। नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल ने मप्र में सभी रेत खदानों में खनन पर लगी रोक हटा दी है। एनजीटी ने सोमवार को अपने आदेश में स्पष्ट किया है कि जिन रेत खदानों की खनन क्षमता में वृद्धि की गई है, उन्हीं को नवीन पर्यावरणीय मंजूरी लेनी होगी। जबकि ऐसी खदानें जिनमें उत्खनन क्षमता नहीं बढ़ाई गई है, और पुरानी पर्यावरणीय मंजूरी की मियाद अभी बाकी है, उनमें मंगलवार से रेत खनन शुरू किया जा सकता है। माइनिंग कॉर्पोरेशन के वकील इनोस जॉर्ज कॉर्लो ने माइनिंग पोर्टल और ट्रांजिट पास सिस्टम के बारे में ट्रिब्यूनल को आश्वस्त किया कि ईसी में दर्ज खनन क्षमता से ज्यादा के ट्रांजिट पास जारी ही नहीं हो सकते हैं। 
इसलिए वैधानिक रूप से तय क्षमता से ज्यादा रेत खनन किया ही नहीं जा सकता है। इसलिए क्षमता से अधिक खनन की आशंका के आधार पर नवीन ईसी की जरूरत नहीं हैं। कानूनी रूप से ईसी ट्रांसफरेबल है, इसलिए ठेका बदलने के आधार पर ईसी को निरस्त नहीं माना जा सकता है। 
पर्यावरणीय कानून विशेषज्ञ ओमशंकर श्रीवास्तव के मुताबिक प्रदेशभर में 38 जिलों में 1400 खदानों के नए ठेके हुए थे। इनमें से सिर्फ 6 जिलों की खदानों के ऑपरेशन ही शुरू हो सका था। लेकिन अब लगभग 1000 ऐसी खदानों में रेत खनन शुरू हो जाएगा, जिनका संचालक पूर्व में पंचायतों के जिम्मे था, और उनकी ईसी की मियाद अभी बची हुई है। 

खनन के लिए सिर्फ 15 दिन का ही मौका  
रेत खनन के लिए अब 15 दिन का वक्त ही शेष बचा है। क्योंकि मानसून सीजन में 15 जून से 30 सितंबर तक रेत खनन प्रतिबंधित होता है। ऐसे में माइनिंग कॉर्पोरेशन और रेत ठेकेदारों के पास खनन और रेत का स्टॉक तैयार करने के लिए काफी कम वक्त बचा है। क्योंकि खनन पर प्रतिबंध उसी दिन से प्रभावी हो जाएगा, जिस दिन मौसम विभाग प्रदेश में मानसून आगमन की घोषणा करेगा।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना