बीजेपी की राजनीति का नया सिलेबस:भाजपाइयों के लिए दूसरा पाठ, बागियों और निर्दलियों की अलग होगी ट्रेनिंग; बूथ मजबूत करने के लिए पार्टी में ट्रेनिंग के 3 मॉड्यूल तैयार

भोपाल5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

भाजपा मिशन 2023 के पहले नगरीय निकाय और पंचायत चुनाव में जीतकर आने वाले नेताओं को प्रदेश से लेकर मंडल स्तर तक ट्रेनिंग देगी। ये ट्रेनिंग पचमढ़ी से शुरू होकर शहर और गांवों तक जमीनी स्तर पर होगी। पहली बार ट्रेनिंग का नया पैटर्न लाया जाएगा। इसमें महापौर, पार्षद, सरपंच और पंचों को मैदानी काम करने और बूथ स्तर तक नए वोटर्स को जोड़ना सिखाया जाएगा। इसे तीन हिस्सों में बांटा गया है।

पहले वे हैं, जो पार्टी के अधिकृत प्रत्याशी के रूप में चुनाव जीते। दूसरे विचार-परिवार वाले यानी संघ पृष्ठभूमि या संगठन से जुड़े नेता हैं। तीसरे पार्टी से टिकट नहीं मिलने पर बागी होकर लड़कर जीतने वाले हैं जो बाद में समर्थन में आ गए। इन सबकी अलग-अलग ट्रेनिंग होगी। भाजपा पचमढ़ी में 24 और 25 अगस्त को दो दिन प्रदेश पदाधिकारी, मोर्चा अध्यक्ष, प्रकोष्ठ संयोजक, जिला अध्यक्ष, जिला प्रभारी को ट्रेनिंग देगी। बाद में निकाय और पंचायत स्तर पर ट्रेनिंग होगी।

विधायक-अध्यक्ष से जवाब-तलब

भाजपा ने नगरीय निकाय चुनाव में पार्टी के खिलाफ काम करने वाले नेताओं के खिलाफ सख्ती शुरू कर दी है। कटनी महापौर का चुनाव हारने पर विधायक संदीप जायसवाल व जिला अध्यक्ष रामरतन पायल को तलब किया गया था। मुरैना निगम हारने पर जिला अध्यक्ष योगेश पाल गुप्ता से कारण पूछा गया। इन्हें संगठन ने फटकार लगाई।

ऐसा होगा ट्रेनिंग का तरीका

  • पार्टी के अधिकृत विजयी प्रत्याशियों को बूथ स्तर पर मतदाताओं को जोड़ना सिखाया जाएगा।
  • विचार-परिवार वालों को भाजपा के काम करने का तरीका सिखाया जाएगा।
  • बागी होकर जीतने वालों को पार्टी हिदायत देगी। अनुशासन का पाठ पढ़ाएगी।

शिवप्रकाश-शिवराज के बीच बैठक

भाजपा में 22 अगस्त को केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के दौरे की तैयारी चल रही है। प्रदेश भाजपा कार्यालय में गुरुवार को राष्ट्रीय सह संगठन महामंत्री शिवप्रकाश, मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान, प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा और संगठन महामंत्री हितानंद शर्मा के बीच लंबी बैठक हुई।

शाह के दिनभर के कार्यक्रमों को केंद्र के निर्देशों के हिसाब से री-शेड्यूल किया गया। इसके बाद लगभग 15 मिनट तक शिवप्रकाश और शिवराज के बीच वन-टू-वन चर्चा हुई। शर्मा कक्ष से बाहर चले गए थे। बताया जा रहा है कि सरकार और संगठन से जुड़े अहम विषयों पर बात हुई है। शिवप्रकाश से गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने भी मुलाकात की। इसके बाद शिवप्रकाश हैदराबाद लौट गए। प्रदेश अध्यक्ष शर्मा अपने बंगले पर ही सारा दिन रहे।

खबरें और भी हैं...