• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Shailbala Of Indore And Rakesh Pathak Of Gwalior Will Get Married; Wrote On Social Media We Are Going To Be Life Partner

महिला IAS और जर्नलिस्ट की लव स्टोरी:टीवी पर डिबेट देख डॉ. राकेश पाठक से इंप्रेस हो गई थी IAS शैलबाला; अब दोनों ने किया शादी करने का फैसला

भोपाल8 महीने पहले

मध्यप्रदेश कैडर की 2009 बैच की IAS शैलबाला मार्टिन और वरिष्ठ पत्रकार डॉ राकेश पाठक जल्द ही शादी के बंधन में बंधेंगे। डॉ पाठक की ये दूसरी शादी होगी, उनकी पत्नी का 7 साल पहले निधन हो चुका है। वहीं, शैलबाला अविवाहित हैं। डॉ राकेश पाठक को टीवी डिबेट में देखकर IAS शैलबाला मार्टिन उनसे इंप्रेस हो गई थी। इसके बाद दोनों में बातचीत हुई। और फिर मुलाकातों का सिलसिला चल पड़ा। जब एक-दूसरे से विचार मिले तो दोनों ने आगे की जिंदगी साथ गुजारने का फैसला किया।

ग्वालियर के रहने वाले डॉ राकेश पाठक (57) और इंदौर की शैलबाला (56) ने सार्वजनिक तौर पर सोशल मीडिया पर अपने प्यार का इजहार करते हुए शादी करने की सूचना दी। डॉ राकेश पाठक के मुताबिक कुछ दिन पहले एक पारिवारिक समारोह में उनकी दोनों बेटियों सौम्या और शची ने शैलबाला मार्टिन का पूरे परिवार के साथ परिचय करवाया। बेटियों की नानी सहित पूरे कुटुम्ब ने शैल का पाठक परिवार में स्वागत किया। शैल के बड़े भाइयों विनय और विनोद सहित पूरे परिवार का आशीर्वाद भी हम दोनों के साथ है।

...अब सुख-दुख की साथी हैं शैलबाला
आत्मीय स्वजनों,
आज हम आपसे अपने सुख-दुख की साथी मिस शैलबाला मार्टिन का परिचय करवा रहे हैं। शैल जी इंदौर की निवासी हैं। मध्यप्रदेश कैडर की IAS हैं। कलेक्टर, निगम कमिश्नर रही हैं। मप्र सरकार में अनेक अहम पदों पर दायित्व निभा चुकी हैं। इन दिनों राज्य मंत्रालय, वल्लभ भवन भोपाल में एडिशनल सेक्रेटरी (सामान्य प्रशासन विभाग) के पद पर पदस्थ हैं। एक कर्मठ और संवेदनशील प्रशासक होने के साथ शैल यदा-कदा लिखती भी हैं। उनकी सीरीज 'अमी एक जाजाबोर' (मैं एक यायावर), उनकी फेसबुक वॉल पर पढ़ी जा सकती है। इसमें वे अपने आसपास की दुनिया को एक अलग नजर से देखती और दर्ज करती हैं। अगर ऐसे ही लिखती रहीं तो भविष्य में इसी शीर्षक से उनकी किताब आएगी। जाहिर है लिखेंगी ही। हम बीते लगभग दो बरस से मित्र हैं। इस संग साथ में हमने जाना कि शैल हमारी हमखयाल होने के साथ एक बेहतरीन इंसान हैं। अब हम जीवनसाथी होने जा रहे हैं। इसलिए हम दोनों अपना-अपना शीश उतारकर प्रेम के घर में बस रहे हैं। बाबा कबीर कह गए हैं...

ये तो घर है प्रेम का खाला का घर नाय सीस उतारे भूँय धरे तब बैठे घर माय।

...जैसा कि राकेश पाठक ने अपनी फेसबुक पोस्ट में लिखा।

पोस्ट में पाठक ने शैलबाला को अपने सुख-दुख का साथी बताया है।
पोस्ट में पाठक ने शैलबाला को अपने सुख-दुख का साथी बताया है।

सात साल पहले पत्नी का ब्लड कैंसर से निधन
राकेश पाठक की पत्नी प्रतिमा 2015 में कैंसर से लड़ते हुए जिंदगी की जंग हार गई थीं। पांच साल तक उनकी पत्नी ने ब्लड कैंसर से जंग लड़ीं। कई मीडिया संस्थानों में संपादक रह चुके पाठक ने दैनिक भास्कर को बताया कि शैलबाला से उनकी मुलाकात दो साल पहले एक कार्यक्रम में हुई थी। इसके बाद TV डिबेट्स में हमारी भेंट होती रहती थी। एक-दूसरे के विचार मिलते गए और अब हमारे विचारों का मेल जीवन भर के बंधन में आगे बढ़ने जा रहा है।

ईस्टर के बाद तय होगी शादी की तारीख
इंदौर की रहने वाली शैलबाला मार्टिन निवाड़ी में कलेक्टर और बुरहानपुर में नगर निगम कमिश्नर रह चुकी हैं। वर्तमान में वे सामान्य प्रशासन विभाग में एडिशनल सेक्रेटरी हैं। डॉ. राकेश पाठक से शादी के फैसले पर उनके दोनों भाइयों की भी सहमति है। शैलबाला ने बताया कि अभी ईस्टर के दौरान 40 दिन तक कोई शुभ कार्य नहीं होते हैं। ईस्टर के बाद शादी की तारीख तय होगी। दोनों परिवारों की सहमति से हम शादी करने वाले हैं।

दोनों बेटियों के साथ राकेश पाठक।
दोनों बेटियों के साथ राकेश पाठक।

पाठक की बेटी ने भी दी बधाई
राकेश पाठक की बेटी सौम्या ने शैलबाला मार्टिन को फेसबुक पर बधाई देते हुए लिखा- हमारे परिवार में आपका स्वागत है। इस नए खूबसूरत सफर के लिए आपको और पापा को ढेर सारा प्यार और शुभकामनाएं।

खबरें और भी हैं...