हिजाब का बवाल MP तक पहुंचा:शिवराज के शिक्षा मंत्री बोले- अपने घर में पहनें, ये यूनिफॉर्म कोड का हिस्सा नहीं

भोपाल10 महीने पहले

लड़कियों के स्कूल में हिजाब पहनकर आने को लेकर रोक का मामला अब कर्नाटक से मध्यप्रदेश तक आ पहुंचा है। इसको लेकर प्रदेश के शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा है कि हिजाब यूनिफॉर्म कोड का हिस्सा नहीं है। अगर कहीं कोई हिजाब पहनकर स्कूल में आता है, तो प्रतिबंध लगेगा। उन्होंने कहा कि भारत की मान्यता है कि जो जिस परंपरा में लोग निवास करते हैं, उसका वह अपने घरों तक पालन करें। स्कूलों में जो यूनिफॉर्म कोड लागू किया गया, उसका पालन करना चाहिए।

मंत्री ने कहा कि भारत की मान्यता है, जिस परंपरा में लोग निवास करते हैं, उसका वह अपने घरों तक पालन करें। स्कूलों में जो यूनिफॉर्म कोड लागू किया गया है, उसका पालन करना चाहिए। सभी स्टूडेंट्स में समानता का भाव रहे, अनुशासन रहे और स्कूल की एक अलग पहचान बने, इसके लिए हम यूनिफॉर्म कोड पर हम काम कर रहे हैं। मध्यप्रदेश में अगले सत्र से ही यूनिफॉर्म की सारी सूचनाएं पहले से दी जाएंगी। समय पर इसे लागू करेंगे। हम ड्रेस कोड पर चर्चा करेंगे।

जिस स्कूल का यूनिफॉर्म तय किया गया है, वही यूनिफॉर्म पहन कर आएं, तो ही अच्छा होगा। अनुशासन तभी पालन होगा। हिजाब यूनिफॉर्म का हिस्सा नहीं है। उन्होंने कर्नाटक में उपजे विवाद पर कहा कि यूनिफॉर्म को लेकर जानबूझकर देश का माहौल खराब करने की कोशिश कर रहे हैं।

कर्नाटक में हिजाब पहनकर क्लास अटेंड करने की मांग को लेकर छात्राओं ने कॉलेज गेट पर धरना तक दिया था।
कर्नाटक में हिजाब पहनकर क्लास अटेंड करने की मांग को लेकर छात्राओं ने कॉलेज गेट पर धरना तक दिया था।

कर्नाटक में हिजाब को लेकर छात्राओं ने दिया था धरना
कर्नाटक के कुंडापुरा कॉलेज की 28 मुस्लिम छात्राओं को हिजाब पहनकर क्लास अटेंड करने से रोका गया था। मामले को लेकर छात्राओं ने हाईकोर्ट में याचिका लगाते हुए कहा था कि इस्लाम में हिजाब अनिवार्य है, इसलिए उन्हें इसकी अनुमति दी जाए। इन छात्राओं ने कॉलेज गेट के सामने बैठकर धरना देना भी शुरू कर दिया था।