• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Bhopal Breaking Shot In The Hand; A Year And A Half Ago, The Victim's Brother Was Murdered, Police Are Telling Mutual Enmity

भोपाल में लड़की को गोली मारी:हाथ में गोली लगी; सवा साल पहले पीड़िता के भाई हत्या हुई थी, पुलिस आपसी रंजिश बता रही

भोपाल7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस इस पूरे मामले को आपसी रंजिश बता रही है। घायल प्रीति। - Dainik Bhaskar
पुलिस इस पूरे मामले को आपसी रंजिश बता रही है। घायल प्रीति।

भोपाल के शाहजहांनाबाद इलाके में एक बदमाश ने लड़की को सरेराह गोली मार दी। गनीमत रही कि गोली लड़की के हाथ में लगी, जिसके बाद उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया। हालांकि अभी उसकी हालत खतरे से बाहर बताई जाती है। हमले के पीछे का कारण पुलिस दोनों पक्ष में आपसी रंजिश बता रही है। करीब एक साल पहले 14 अगस्त की रात लड़की के छोटे भाई की भी हमला करने वाले आरोपियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। उसी मामले में पीड़िता गवाह है।

शाहजहांनाबाद के बाजपेयी नगर मल्टी में रहने वाली 28 साल की प्रीति चौधरी किराने की दुकान चलाती है। उसने पुलिस को बताया कि सोमवार रात करीब 11:30 बजे वह पास ही अपनी बहन के यहां खाना खाने गई थी। वहां से लौटते वक्त घर से कुछ दूरी पर पप्पू नाम का बदमाश उसके सामने आकर खड़ा हो गया।

रास्ता रोकते हुए उसने कहा कि तुम लोग कुछ ज्यादा ही कर रहे हो। इतना कहते हुए उसने पिस्टल निकाल ली। वह जान बचाकर भागी तो आरोपी ने गोली चला दी। जिससे गोली उसके हाथ में लगी। लोगों की भीड़ जमा होने के कारण पप्पू मौके से भाग गया। पुलिस ने हत्या के प्रयास का मामला दर्ज कर आरोपी पप्पू की तलाश शुरू कर दी है।

14 अगस्त 2020 में भाई की हत्या हुई थी

प्रीति ने बताया कि अजय कनाडे उर्फ चोटी उसका छोटा भाई थी। इससे पहले उसका 11 अगस्त को झगड़ा हुआ था। उसके खिलाफ मारपीट का मामला भी दर्ज किया गया था। तीन दिन बाद 14 वर्ष 2020 में अजय की कुछ लोगों ने हत्या कर दी थी। उसे फोन करके घर से बुलाकर मारा गया था। वह उस मामले में गवाह है। आरोपी उसे कई दिनों से मामले में गवाह नहीं देने के लिए दबाव बना रहे थे। उनकी बात नहीं मानने के कारण ही उन्होंने उन पर हमला किया।

हत्या में 12 गवाह, अधिकतर पर दर्ज कराया मुकदमा

प्रीति के भाई की हत्या के मामले में पुलिस ने 12 लोगों को गवाह बनाया था। इसमें प्रीति उसकी बहन रेखा भी गवाह हैं। प्रीति के भाई अमित कनाडे ने बताया कि जमानत पर रिहा होने के बाद आरोपी पक्ष दबाव बनाने के लिए झूठे केस दर्ज करा रहा है। 4 गवाहों के खिलाफ आरोपी पक्ष कई केस दर्ज करा चुका है। प्रीति, रेखा पर भी पांच केस दर्ज कराए हैं। गवाहों को धमकी दी जा रही है। इसकी शिकायत कई बार हम लोगों ने पुलिस से की, लेकिन कोई मदद नहीं मिली।

10 दिन पहले प्रीति पर FIR हुई थी

प्रीति चौधरी के भाई अमित कनाडे ने बताया कि 10 दिन पहले गोली मारने वाले रुपेश उर्फ फुफ्फू ने अपने घर पर आग लगा ली थी। इसके बाद प्रीति के खिलाफ आग लगाने की एफआईआर दर्ज कराई थी। आरोपी पक्ष प्रीति पर केस में बयान बदलने के लिए दबाव बना रहा था।

खबरें और भी हैं...