• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Showed The Demands Of The Victims In The Dance, Said We Are Surrounded By Questions, We Need Answers

भोपाल गैस त्रासदी की 37वीं बरसी:श्रद्धांजलि सभाएं हुईं, गैस पीड़ितों का हेल्थ चेकअप भी किया; छुट्‌टी के बाद भी खुले निगम के दफ्तर

भोपालएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
फैक्टरी गेट के सामने बने स्मारक पर बड़ी संख्या में लोग पहुंचे और श्रद्धांजलि दी। - Dainik Bhaskar
फैक्टरी गेट के सामने बने स्मारक पर बड़ी संख्या में लोग पहुंचे और श्रद्धांजलि दी।
  • निगम के कर्मचारियों में नाराजगी

भोपाल गैस त्रासदी की 37वीं बरसी पर 'यंगशाला' ग्रुप के युवाओं ने अनूठे तरीके से गैस पीड़ितों की आवाज उठाई। उन्होंने पीड़ितों की मांगों को डांस करके दिखाया। वहीं, गैस कांड में मृत हुए लोगों को गैस फैक्टरी के गेट के बाहर श्रद्धाजंलि दी गई। कहा कि- घिरे हैं हम सवाल से हमें जवाब चाहिए। कई संगठनों ने आयोजन किए। गैस पीड़ितों की सेहत की जांच भी की गई। इधर, छुट्‌टी के बाद भी निगम के ऑफिस खुले रहे। जिसका कर्मचारियों ने विरोध जताया है।

ग्रुप में 19 युवा शामिल थे। वे अलग-अलग तरीके से गैस कांड, उसके बाद के संघर्ष और गैस पीड़ितों की मांगों को बता रहे थे। ग्रुप की रोली शिवहरे ने कहा, पिछले एक सप्ताह से तैयारी की जा रही थी। डांस के पीछे मकसद यह था कि युवा पीढ़ी इसके इतिहास और दर्द को समझ सके। इस प्रस्तुति के लिए इतिहास पढ़ा। तथ्य खंगाले और सभी युवाओं को गैस पीड़ित स्मारक की विजिट भी कराई। ताकि हम सभी तथ्यों को सटीक ढंग से प्रस्तुत कर सकें। प्रस्तुति में शिवानी बाथम, अलका त्रिपाठी, इशिका, अग्निता, जागृति सक्सेना, राहुल धुर्वे, ज्योति, रितिका जैन, निश्चल, रोशनी, रुचि सिंह, दीपक, अंशु, यश, हर्षिता, दीपाली जावरे, प्रीति, मीनाक्षी सेन, सुभाष गर्ग, अस्मा खान और गौरव म्हसे शामिल रहे।

गैस पीड़ित परिवार के युवाओं को रोजगार देने की मांग

गैस त्रासदी बरसी पर कई संगठनों ने कार्यक्रम किए। भोपाल एवं छग मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव यूनियन ने दवा वितरित की। वहीं, आरंभ संस्था ने गैस पीड़ितों की जांच कर 150 को चश्मे वितरित किए। बाल सुरक्षा अभियान के तहत नुक्कड़ नाटक भी प्रस्तुत किया गया। सेंटर ऑफ इंडियन ट्रेड यूनियन व आईएसआरडी संस्था ने गैस पीड़ितों के मजदूर कार्ड के लिए ई-श्रमिक पंजीयन की जानकारी प्रदान दी। वहीं, गैस पीड़ित परिवार के युवाओं को रोजगार देने की मांग की।

यंगशाला के युवाओं ने डांस की प्रस्तुति दी।
यंगशाला के युवाओं ने डांस की प्रस्तुति दी।

मजदूर संगठन सीटू, एलआईसी कर्मचारी यूनियन, एसएफआई, बीएसएस कॉलेज आदि ने भी कार्यक्रम किए। भोपाल गैस पीड़ित संघर्ष सहयोग समिति की साधना प्रधान, गैस पीड़ित शहजाद, उर्मिला, सीटू जिला अध्यक्ष पीएन वर्मा, मेडिकल यूनियन के अनुराग सक्सेना, पीवी रामचंद्रन व प्रमोद प्रधान ने संबोधित किया।

निगम के ऑफिस खुलने से नाराज कर्मचारी

भोपाल गैस त्रासदी के चलते 3 दिसंबर को सरकारी अवकाश था। इसके चलते ऑफिस बंद रहे, लेकिन निगम के जोन और वार्ड कार्यालय खुले रहे। जिसका कर्मचारियों ने विरोध जताया। बताया जाता है कि मामले में मानव अधिकार आयोग को भी शिकायत की गई है।

खबरें और भी हैं...