23 लाख का पैकेज पाने वाली छात्रा का इंटरव्यू:बोली- सेल्फ स्टडी और शॉर्ट नोट बनाएं, भोपाल में बिना कोचिंग पाई सफलता

भोपाल6 महीने पहले

भोपाल की एक छात्रा को पढ़ाई पूरी करने से पहले ही 23 लाख रुपए सालाना पैकेज का जॉब ऑफर हुआ है। वह अभी कंप्यूटर साइंस से इंजीनियरिंग कर रही है और फाइनल ईयर में है। छात्रा का कहना है कि उसने कभी कोचिंग नहीं की, बल्कि सेल्फ स्टडीज ही की। साथ ही अपने को हर पल अपडेट करते हुए खुद पर पूरा विश्वास रखा। छात्रा के मुताबिक सफलता के लिए विश्वास जरूरी है। यह कहना है मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से प्रशंसा पत्र लेनी वाली मोक्षा जैन का। तो जानते हैं मोक्षा ने यहां तक का सफर कैसे तय किया।

मूलत: छिंदवाड़ा की रहने वाली मोक्षा जैन के पिता प्रॉपर्टी डीलर हैं। उसे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने इस उपलब्धि पर एक प्रशंसा पत्र दिया है। मोक्षा का सिलेक्शन वॉल मार्ट कंपनी में हुआ है। जिसके बाद उसे चेन्नई या बेंगलुरू में से किसी एक जगह पोस्टिंग मिल सकती है। 23 लाख रुपए का पैकेज मिलने से खुश मोक्षा ने अपनी सफलता का क्रेडिट अपने माता-पिता को दिया। साथ ही कहा कि इसके लिए मैंने लगातार ट्रेनिंग की। कई जगह इंटर्नशिप की, और सेल्फ स्टडी पर पूरा जोर लगाया।

तीन बहनों में दूसरे नंबर की है मोक्षा
तीन बहनों में दूसरे नंबर की मोक्षा सेज ग्रुप के कॉलेज में कंप्यूटर साइंस की फाइनल ईयर की छात्रा है। उसने बताया कि उसने कभी कोचिंग नहीं की। वह खुद पर विश्वास रखती है और सेल्फ स्टडीज पर भरोसा करती है। उसने काफी सारी ट्रेनिंग की है। खुद पर ध्यान केंद्रित किया। अपनी फील्ड से जुड़ी छोटी से छोटी बात से खुद को अपडेट रखा। कभी भी कोई डाउट हुआ तो फौरन टीचर से पूछा। माता-पिता ने हमेशा सपोर्ट किया।

चयनित छात्र-छात्राओं का सम्मान हुआ
सेज यूनिवर्सिटी में शुक्रवार को एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था। जिसमें बीते एक साल में जॉब पाने वाले बच्चों को मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और उच्च शिक्षा मंत्री डॉक्टर मोहन यादव ने सम्मानित किया। इसमें करीब 2200 बच्चों को प्रशंसा पत्र दिए गए।