पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सरकारी स्कूल में 30 तक चलेगा गृह संपर्क अभियान:शिक्षकों को नया टारगेट, 15-15 बच्चों के कराने होंगे एडमिशन

भोपालएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शिक्षकों को मेंटर के रूप में घर-घर जाकर बच्चों को सरकारी स्कूल में एडमिशन के लिए मोटिवेट करना होगा। - Dainik Bhaskar
शिक्षकों को मेंटर के रूप में घर-घर जाकर बच्चों को सरकारी स्कूल में एडमिशन के लिए मोटिवेट करना होगा।

प्राइवेट स्कूलों की तर्ज पर अब सरकारी स्कूलों में भी इनरोलमेंट बढ़ाने के लिए नए-नए प्रयोग किए जा रहे हैं। सरकारी स्कूलों के शिक्षकों को 15-15 बच्चों के एडमिशन कराने होंगे। इन शिक्षकों को मेंटर के रूप में घर-घर जाकर बच्चों को सरकारी स्कूल में एडमिशन के लिए मोटिवेट करना होगा।

इसके लिए विभाग ने गृह संपर्क अभियान शुरू किया है। राज्य शिक्षा केंद्र ने इस बारे में निर्देश जारी कर दिए हैं। निर्देश में कहा गया है कि बच्चों की ग्राम और वार्ड वार सूची पोर्टल पर उपलब्ध है। स्कूल शिक्षा राज्य मंत्री इंदर सिंह परमार का कहना है कि कोरोना काल में स्कूलों में नामांकन पर भी असर हुआ है। गृह संपर्क अभियान से नामांकन बढ़ाने में काफी मदद मिलेगी। शिक्षकों की इसमें महत्वपूर्ण भूमिका है। इधर, विभाग की इस मुहिम का शिक्षकों के कुछ संगठनों ने विरोध किया है। शिक्षक कांग्रेस के प्रवक्ता सुभाष सक्सेना का कहना है कि इससे संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है। यह काम मोबाइल एप के माध्यम से ही कराया जाना चाहिए।

प्रोफेसर कॉलोनी स्थित सरकारी विद्या विहार स्कूल ने एडमिशन के लिए नया प्रयोग किया है। स्कूल के शिक्षक घर-घर जाकर पंपलेट बांटकर बच्चों को मोटिवेट कर रहे हैं। प्राचार्य निशा कामरानी ने बताया कि इस दौरान बच्चों व अभिभावकों को शिक्षा के अलावा अन्य कल्याणकारी योजनाओं के बारे में भी बताया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...