• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • The Accused Had Befriended The Youth Of Bhopal By Posing As A Foreign Woman; 11.1.25 Lakh Were Cheated In The Name Of Gift, Three Accused Have Already Been Caught

नाइजीरियन ठग गिरोह का सरगना दबोचा:नोएडा में बैठकर विदेशी महिला बनकर भोपाल के युवक से दोस्ती की; गिफ्ट के नाम पर 11.25 लाख रुपए ठगे; 6 माह से फरार था

भोपाल3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आरोपी से  लैपटॉप, मोबाइल, बैंक पासबुक, एटीएम व सिम कार्ड जब्त किए गए। - Dainik Bhaskar
आरोपी से लैपटॉप, मोबाइल, बैंक पासबुक, एटीएम व सिम कार्ड जब्त किए गए।

नोएडा से देशभर में ऑनलाइन ठगी कर रहे नाइजीरियन ठग गिरोह के सरगना को क्राइम भोपाल ने पकड़ा है। गिरोह के तीन सदस्य के जनवरी में पकड़े जा चुके हैँ। पिछले 6 माह से आरोपी की पुलिस को तलाश थी। वह सोशल मीडिया पर विदेशी महिला के नाम से दोस्ती कर ठगी का गिरोह चला रहा था। उसने भोपाल के एक युवक से 11.22 लाख रुपए की ठगी की थी। उसने दोस्ती कर महंगा गिफ्ट भेजने का झांसा देकर फंसाया था।

एएसपी अंकित जायसवाल ने बताया, भोपाल में रहने वाले पवन अग्रवाल ने 1 जनवरी को शिकायत की थी। उन्होंने बताया, उनकी फेसबुक पर विदेशी महिला से दोस्ती हुई थी। आरोपी महिला ने कहा कि वह उसे क्रिसमस गिफ्ट भेज रही है। उसे वह एयरपोर्ट पर कस्टम से छुड़ा लें। उसके बाद उसने बताया कि कस्टम में वह फंस गया है।

इसे छुड़ाने के लिए रुपए देना होगा। ऐसे करके उसने 11 लाख 22 हजार 844 रुपए उससे ऐंठ लिए। आरोपी का फोन बंद होने के बाद पवन ने शिकायती आवेदन साइबर क्राइम ब्रांच को दिया था। साइबर क्राइम ने तीन आरोपियों को पकड़ लिया था, लेकिन सरगना मुईट उर्फ अजीज मुईउद्दीन फरार हो गया था।

इस तरह पकड़ा गया

साइबर क्राइम भोपाल की टीम लगातार आरोपी के बारे में जानकारी जुटा रही थी। पकड़े गए उसके तीन साथियों से पूछताछ और अन्य कोशिशों के बाद शनिवार को टीम ने मुईट उर्फ अजीज को ग्रेटर नोएडा से गिरफ्तार किया गया है। मुईट उर्फ अजीज विजनेस बीजा पर भारत आया था। अन्य नाइजीरियन सहयोगियों के साथ मिलकर ग्रेटर नोएडा व दिल्ली में गिरोह बनाकर साइबर ठगी कर रहा था। अरोपी मुईट के कब्जे से प्रकरण में प्रयुक्त लैपटॉप, मोबाइल, बैंक पासबुक, एटीएम व सिमकार्ड जब्त कर लिया है।

इस तरह फंसाते थे

पहले पकड़े जो चुके आरोपी सोलोमोन वाजीरी महिलाओं के नाम से फेसबुक पर आईडी बनाकर दोस्ती करता था। फरियादी से रोमांटिक बातें करता था। कुछ दिन बाद फरियादी को क्रिसमस गिफ्ट भेजता था, जो एयरपोर्ट पर कस्टम अधिकारी के द्वारा पकड़ लिया जाना बताता था। इसके बाद आरोपी सोलोमेन कस्टम अधिकारी बनकर फरियादी को गिफ्ट छुड़ाने के लिए आरोपी मुईट उर्फ अजीज के द्वारा दिए गए बैंक खातों में पैसे जमा कराता था। पैसे जमा नहीं करने पर फरियादी को पुलिस केस करने की धमकी देता था। खातों में पैसा आने पर आरोपी मुईट उर्फ अजीज एटीएम से नकद निकाल लेता था।

खबरें और भी हैं...