पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • The Generator Of Bhaepal's Victory Will Generate Electricity For The Army In Siachen, The First Trial Is Successful, Will Work Even In The Temperature Of 50 Degrees.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

इनोवेशन:भाेपाल के विजय का जनरेटर सियाचिन में सेना के लिए बनाएगा बिजली, -50° में भी काम करेगा

भोपाल5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सियाचिन में जनरेटर का ट्रायल करते विजय और सेना के जवान। विजय को 500 वॉट का जनरेटर तैयार करने इंजीनियर इंडिया लिमिटेड से एक करोड़ की फंडिंग मिली है। - Dainik Bhaskar
सियाचिन में जनरेटर का ट्रायल करते विजय और सेना के जवान। विजय को 500 वॉट का जनरेटर तैयार करने इंजीनियर इंडिया लिमिटेड से एक करोड़ की फंडिंग मिली है।
  • अगले साल अप्रैल में सेना को मिलेगा, सामान्य जनरेटर से 40% तक सस्ता, वजन में भी आधा
  • टिकाऊ भी-25 साल तक चलेगा, आम जनरेटर से 15 साल ज्यादा

(रश्मि खरे) सियाचिन की -40 डिग्री तापमान वाली बर्फीली वादियाें में सेना के जवानाें तक बिजली पहुंचना आसान नहीं है। ऐसे में जवानाें काे जनरेटर से ही काम चलाना पड़ता है। लेकिन यहां जरूरत से ज्यादा ठंड पड़ने पर आम जनरेटर ज्यादा कारगर नहीं हाे पाते। इसे ध्यान में रखते हुए भाेपाल के विजय ममतानी ने ऐसा जनरेटर बनाया है जो अंतरिक्ष में भी काम करेगा। वे इस पर पांच साल से काम कर रहे हैं। विजय पहला जनरेटर सेना को देंगे।

इंडियन आर्मी ब्यूराे से उन्हें इसे बनाने का ऑर्डर मिला है। इसका पहला सफल ट्रायल सियाचिन आर्मी बेस कैंप पर 16 जनवरी से 1 फरवरी के बीच हो चुका है। विजय सेना को अगले साल अप्रैल में ये जनरेटर देंगे।

मै निट भोपाल से इंजीनियरिंग कर चुके टीटीनगर निवासी विजय अभी स्मार्ट सिटी स्टार्टअप इनक्यूबेशन सेंटर का हिस्सा हैं। उन्होंने दैनिक भास्कर काे बताया कि आर्मी डिजाइन ब्यूरो द्वारा पिछले साल दिसंबर में आरटेक-2019 एग्जीबिशन आयाेजित की गई थी। इसमें सेना के कई मेजर और कर्नल्स शामिल हुए। उन्हाेंने देशभर के युवाओं के ऐसे इनोवेशन देखे, जो मेड-इन-इंडिया थे और आर्मी के काम आ सकते हैं। इसी दाैरान उन्हें हमारा जनरेटर पसंद आया।

जनवरी में मेरे पास फोन आया कि क्या आप सियाचिन में अपना जनरेटर लेकर आ सकते हैं। यह फोन आर्मी बेसकैंप से मेजर रोहित शर्मा का था। उन्होंने बताया कि यहां 15000 फीट की ऊंचाई पर -40 डिग्री का तापमान है और -33 डिग्री पर फ्यूल जाम हो जाने के कारण वहां के वॉकी-टॉकी, लाइटिंग व हीटिंग सिस्टम और बैटरी चार्जिंग सिस्टम भी काम नहीं कर पा रहे हैं। हम जनरेटर लेकर चंडीगढ़ पहुंचे। वहां से हेलीकॉप्टर से हमें सियाचिन पहुंचाया गया।

यहां जवानाें काे 7 दिन तक जनरेटर काे ऑपरेट करने की ट्रेनिंग दी गई। यह जनरेटर नेचुरल गैस से चलता है और इसमें कोई मूवमेंट वाला हिस्सा नहीं है। नेचुरल गैस का फ्रीजिंग प्वाइंट -47 डिग्री है। इसलिए वहां यह प्रयोग सफल हुआ। मेजर ने हमें बताया कि मार्च से सितंबर तक यहां अच्छी धूप आती है, उस दौरान यदि यह जनरेटर सोलर तकनीक से काम करे तो किफायती भी होगा। यही वजह है कि अब हम सोलर और नेचुरल गैस से काम करने वाला हाइब्रिड जनरेटर तैयार कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज मार्केटिंग अथवा मीडिया से संबंधित कोई महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है, जो आपकी आर्थिक स्थिति के लिए बहुत उपयोगी साबित होगी। किसी भी फोन कॉल को नजरअंदाज ना करें। आपके अधिकतर काम सहज और आरामद...

    और पढ़ें