• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • The girl returned from abroad called the team home for a sample, come back to the hospital, the sample was taken after sitting there for 7:30 hours.Bhopal Indore Coronavirus Lockdown Live | Corona Virus Cases in MP Bhopal Indore Ujjain Gwalior Khajuraho (COVID 19) Cases Death Toll Latest News and Updates

लापरवाही / विदेश से लौटी युवती ने सैंपल के लिए टीम को घर बुलाया, जवाब मिला अस्पताल आ जाओ, वहां भी 7:30 घंटे तक बैठाने के बाद लिया सैंपल

फाइल फोटो फाइल फोटो
X
फाइल फोटोफाइल फोटो

  • जानकारी साझा करने के बाद भी स्वास्थ्य अमला संदिग्ध लाेगाें की स्क्रीनिंग करने पहुंच ही नहीं रहा है
  • डाॅक्टराें काे अपनी जिम्मेदारी समझनी हाेगी कि जाे लाेग सैंपल देने आ रहे उन्हें इंतजार न कराएं

दैनिक भास्कर

Mar 27, 2020, 01:34 AM IST

भाेपाल. सिडनी(आस्ट्रेलिया) की यात्रा से लाैटी एक युवती ने खुद काे 10 दिन तक हाेम क्वाइरेंटाइन में रखा। दाे दिन पहले सर्दी हुई ताे मंगलवार काे उन्हाेंने 104 काॅल सेंटर पर इसकी सूचना दी। वहां से उसे कहा गया कि जेपी अस्पताल जाकर सैंपल दे दें। युवती ने हाेम क्वारेंटाइन में हाेने की बात कही और घर से सैंपल कराने का आग्रह किया। इस पर सहमति नहीं मिली ताे युवती शाम 5 बजे जेपी अस्पताल पहुंची। यहां युवती ने ट्रेवल हिस्ट्री के साथ ही सर्दी हाेने के बारे में भी बताया। इसके बावजूद जिम्मेदाराें ने  गंभीरता नहीं दिखाई।

पुलिस बुलाने की चेतावनी दी तो डॉक्टरों ने लिया सैंपल

युवती को आइसाेलेशन वार्ड प्रभारी नहीं हाेने का कहकर रात 9.30 बजे तक इमरजेंसी में ही बैठाकर रखा। जब युवती ने सुबह आकर सैंपल देने की बात कही ताे पुलिस काे सूचना देने की धमकी दी गई। ऐसे में रात 12.30 बजे डाॅक्टर आए तब युवती का सैंपल हुआ। युवती का कहना है कि मैंने अपनी जिम्मेदारी समझी। खुद क्वाइरेंटाइन में हूं, लेकिन अब डाॅक्टराें काे भी अपनी जिम्मेदारी समझनी हाेगी कि जाे लाेग सैंपल देने आ रहे हैं उन्हें इस तरह इंतजार न कराएं।

कई मामले सामने आए जिसमें डॉक्टरों की लापरवाही देखी गई

यह ताे एक मामला है, इसके अलावा कई मामले ऐसे भी सामने आ रहे हैं कि लाेग खुद के और पड़ोस के लाेगाें के विदेश यात्रा से लाैटने की सूचना जिम्मेदाराें काे दे रहे हैं, लेकिन बार-बार काॅल करने और जानकारी साझा करने के बाद भी स्वास्थ्य अमला संदिग्ध लाेगाें की स्क्रीनिंग करने पहुंच ही नहीं रहा है। अगर जिम्मेदार अभी नहीं चेते ताे इस तरह की लापरवाही पूरे समाज के लिए मुश्किल खड़ी कर सकती है।


बार-बार सूचना देने के बाद भी विदेश से लौटे लाेगाें की स्क्रीनिंग करने नहीं पहुंच रही टीम

  1. छठवें दिन पहुंची टीम ने लिया सैंपल
    ईदगाह हिल्स निवासी दिव्य काेटवानी इंग्लैंड की लब्राे स्पाेर्ट यूनिवर्सिटी में पढ़ते हैं। वे 19 मार्च काे भाेपाल पहुंचे थे। उन्हाेंने शाहजहांनाबाद थाने में इसकी सूचना दी थी, लेकिन मंगलवार तक टीम ने उनसे संपर्क ही नहीं किया। मंगलवार काे दिन में बुखार आने पर परिजनाें नेे सीएमएचओ से बात की ताे रात करीब 10.30 बजे पहुंची टीम ने सैंपल लिया। रिपाेर्ट गुरुवार तक आने की उम्मीद है। हालांकि, स्वास्थ्य विभाग की टीम ने कहा है कि किसी तरह के लक्षण नहीं मिले हैं।
  2. जानकारी देने के 24 घंटे बाद भी नहीं पहुंचे
    बेंगलुरु में नाैकरी करने वाला एक व्यक्ति एयरपाेर्ट राेड स्थित द ब्लेयर काॅलाेनी में आकर रह रहा है। एयरपाेर्ट पर हुई स्क्रीनिंग के दाैरान उनकाे हाेम क्वाइरेंटाइन में रहने काे कहा गया था, लेकिन उक्त युवक घर से बाहर आना-जाना कर रहा है। उसकेे ऐसा करने से दूसरे लाेगाें के संक्रमित हाेने की आशंका काे देखते हुए रहवासियाें ने मंगलवार रात 104 काॅल सेंटर पर शिकायत दर्ज कराई। यहां से जिले की एपियाेडेमाेलाॅजिस्ट डाॅ. रश्मि जैन का नंबर दिया। उनसे बात की गई ताे उन्हाेंने उल्टा 104 पर काॅल करने की सलाह दे दी। तब से रहवासी 10 बार से ज्यादा काॅल कर चुके हैं, लेकिन स्वास्थ्य विभाग की टीम यहां तक नहीं पहुंची है। जबकि रहवासियों की ओर से इस मामले की शिकायत एनएचएम की संचालक स्वाति मीणा से भी कर चुके हैं। उन्होंने कार्रवाई का आश्वासन भी दिया था, बावजूद इसके अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना