• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • The Governor Did Not Reach The Inauguration Of The Science Fair, Canceled The Fair; Record 246 Cases Found After 6 Months

भोपाल में कोरोना का असर, भोजपाल मेला कैंसिल:विज्ञान मेले के इनोग्रेशन में नहीं पहुंचे गर्वनर, कुछ घंटे बाद यह भी रद्द; कोरोना से 75 साल के बुजुर्ग की मौत

भोपाल5 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

राजधानी भोपाल के करीब 50% हिस्से में कोरोना की एंट्री हो गई है। मंत्रालय से लेकर एजुकेशन, हेल्थ और रिसर्च सेंटरों में संक्रमित मिल रहे हैं। वहीं, पॉश इलाकों में भी कोरोना फैल चुका है। जंबूरी मैदान में 7 जनवरी से शुरू होने वाले विज्ञान मेले पर भी कोरोना का असर पड़ा है। सुबह 11 बजे होने वाले इनोग्रेशन से पहले गर्वनर मंगूभाई पटेल का आना कैंसिल हो गया। कुछ घंटे बाद यह मेला रद्द कर दिया गया। वहीं, कलेक्टर अविनाश लवानिया ने भोजपाल मेला कैंसिल कर दिया है। मेले में उमड़ रही भीड़ को देखते हुए यह निर्णय लिया गया है।

भोजपाल मेले को लेकर 3 दिन पहले हुई डिस्ट्रिक क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी की मीटिंग में मुद्दा उठा था। प्रभारी मंत्री भूपेंद्र सिंह ने परीक्षण कराने के बाद निर्णय लिए जाने की बात कही थी। इधर, 6 जनवरी को कलेक्टर लवानिया ने नए मेलों पर रोक लगा दी थी। साथ ही पहले से चल रहे मेलों पर निर्णय लेने की बात कही थी। इसके चलते ही शुक्रवार को भोजपाल मेला कैंसिल कर दिया गया है।

शहर में 6 महीने के बाद रिकॉर्ड 246 नए केस मिले हैं। कोरोना के अधिकांश मामले कोलार, होशंगाबाद रोड, बैरागढ़ क्षेत्र में मिले हैं। कोविड का संक्रमण चार इमली, अरेरा कॉलोनी, श्यामला हिल्स जैसे पॉश इलाकों में भी फैल चुका है। कोरोना की वजह से 75 साल के एक बुजुर्ग की भी मौत हुई है।

दोपहर बाद कैंसिल हुआ विज्ञान मेला

जंबूरी मैदान में सुबह 11 बजे 9वां विज्ञान मेला शुरू होना था। इसका इनोग्रेशन गर्वनर मंगूभाई पटेल करने वाले थे, लेकिन उनका आना कैंसिल हो गया। दरअसल, भोपाल में कलेक्टर अविनाश लवानिया ने नए मेलों पर रोक लगा दी है। 5 जनवरी को धारा 144 के तहत आदेश भी जारी हो चुके हैं। दोपहर तक मेला रद्द करने की घोषणा कर दी गई। इससे पहले विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री ओमप्रकाश सकलेचा ने राज्यपाल पटेल से मुलाकात भी की।

विज्ञान मेला निरस्त करने से पहले राज्यपाल मंगूभाई पटेल से मंत्री ओमप्रकाश सकलेचा ने मुलाकात की।
विज्ञान मेला निरस्त करने से पहले राज्यपाल मंगूभाई पटेल से मंत्री ओमप्रकाश सकलेचा ने मुलाकात की।

भोपाल में एक संक्रमित की मौत, शुगर, किडनी और फेफड़ों में थी तकलीफ

भोपाल में कोरोना से एक 75 साल के बुजुर्ग की मौत भी रिकॉर्ड की गई है। मौत 5 जनवरी को हुई थी। बुजुर्ग हमीदिया हॉस्पिटल में भर्ती थे। बुजुर्ग को 27 दिसंबर को हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था। वे लकवा से पीड़ित थे। साथ ही उन्हें शुगर, किडनी और फेफड़ों में भी तकलीफ थी। मेडिसन आईसीयू में भर्ती कर उनका इलाज किया जा रहा था। इसी बीच उनकी कोरोना जांच की गई, जिसमें रिपोर्ट पॉजिटिव आई। इसके बाद उन्हें कोविड वार्ड में शिफ्ट किया गया था। करीब 4 दिन तक वे वार्ड में भर्ती थे। उन्हें वैक्सीन के दोनों डोज लग गए थे।

फैल चुका कोरोना

राजधानी में मंत्रालय से लेकर एज्युकेशन, हेल्थ और रिचर्ज सेंटरों तक में कोरोना पहुंच चुका है। पीएचक्यू, हज हाउस, इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एंड रिसर्च (आईआईएसईआर) में भी संक्रमित मिले हैं।

6 दिन में 672 संक्रमित मिले

भोपाल के संक्रमितों का आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है। 1 जनवरी को 42 नए केस मिले थे, जो 6 जनवरी को बढ़कर 246 पर पहुंच चुके हैं। पिछले 24 घंटे में कुल 5936 टेस्ट किए गए।

शहर में अब तक 1 लाख 24 हजार 637 कोरोना केस मिल चुके हैं। इनमें से 1 लाख 22 हजार 999 मरीज ठीक हो चुके हैं। वर्तमान में एक्टिव केस 632 है। इनमें से 607 होम आईसोलेट, 1 कोविड केयर सेंटर और 24 हॉस्पिटल में भर्ती है।