पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रेमडेसिविर की कालाबाजारी:अस्पताल ने दो दिन बाद भी पुलिस को नहीं दी इंजेक्शन की जानकारी

भोपालएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आकाश दुबे। - Dainik Bhaskar
आकाश दुबे।
  • जेके अस्पताल व ड्रग इंस्पेक्टर से मांगा था रिकॉर्ड
  • तीन आरोपियों पर लगाया रासुका, आरोपी आकाश दुबे अब भी फरार

रेमडेसिविर की कालाबाजारी के आरोप में फरार चल रहे जेके अस्पताल के आईटी मैनेजर आकाश दुबे तीन दिन बाद भी पुलिस को नहीं मिला है। उसने तीन दिन पहले अपना मोबाइल फोन अस्पताल परिसर में ही स्विच ऑफ किया था। पुलिस ने इंजेक्शन के बैच नंबर समेत अन्य बिंदुओं पर संबंधित ड्रग इंस्पेक्टर और जेके अस्पताल प्रबंधन से जानकारी मांगी थी। दो दिन बाद भी पुलिस को ये जानकारी नहीं दी गई है।

इस मामले में गिरफ्तार अंकित सलूजा, दिलप्रीत सिंह और आकर्ष सक्सेना फिलहाल न्यायिक हिरासत में हैं। कोलार पुलिस ने गिरफ्तारी के बाद ही उनके खिलाफ एनएसए का प्रतिवेदन कलेक्टर भोपाल को भेज दिया था। रविवार दोपहर कलेक्टर अविनाश लवानिया ने तीनों आरोपियों के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) की कार्रवाई कर दी है। सीएसपी वीरेंद्र मिश्रा ने बताया कि आकाश की तलाश में उसके दोस्तों और रिश्तेदारों के घर दबिश जारी है।

अस्पताल प्रबंधन के और नाम भी आ सकते हैं सामने
पुलिस का मानना है कि आकाश के पकड़े जाने के बाद अस्पताल प्रबंधन के और भी कुछ नाम सामने आ सकते हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि, इससे पहले भी जेके अस्पताल का एक कर्मचारी अपनी महिला मित्र के साथ रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी कर चुका है। उसे भी कोलार पुलिस ने ही पकड़ा था। अंदाजा है कि लॉकडाउन के दौरान होटल बंद होने के कारण वह किसी परिचित या रिश्तेदार के घर ही फरारी काटेगा।

एएसपी करेंगे रिश्वत मामले की जांच
आकर्ष सक्सेना को बगैर कार्रवाई छोड़ने वाले क्राइम ब्रांच के दोनों सब इंस्पेक्टर्स की जांच एएसपी अंकित जायसवाल को सौंपी गई है। शनिवार को डीआईजी भोपाल ने क्राइम ब्रांच के एसआई एमडी अहिरवार और हरिशंकर वर्मा को निलंबित कर दिया था। अब तक हुए बयान में दोनों ने ढाई लाख की रिश्वत लेने से इनकार कर दिया है। जांच के दौरान दोनों की कॉल डीटेल खंगाली जाएगी, जिससे बिचौलिए का नाम भी सामने आएगा।

आकाश के साथ राजनीतिक चेहरे

आकाश दुबे के साथ कई राजनेताओं की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही हैं। पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के साथ आकाश की तस्वीर पोस्ट की है। वहीं, बीजेपी के एक कार्यकर्ता ने दिग्विजय सिंह के साथ आशीष ठाकुर की तस्वीर पोस्ट की है। आशीष को इंदौर में हुई रेमडेसिविर की कालाबाजारी के आरोप में पकड़ा गया है।

खबरें और भी हैं...