पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • The Paramedical Staff Posted At The Station Said Have Been Sitting For 6 Days, But Not A Single Passenger From Maharashtra Conducted RTPCR Investigation

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

रोज करीब 3000 यात्री महाराष्ट्र से आते हैं भोपाल:स्टेशन पर तैनात पैरामेडिकल स्टाफ ने कहा - 6 दिनों से बैठे हैं, पर महाराष्ट्र से आए एक भी यात्री ने नहीं कराई आरटीपीसीआर जांच

भोपाल8 दिन पहलेलेखक: विकास वर्मा
  • कॉपी लिंक
यात्री कोई न कोई बहाना बनाकर निकल जाते हैं। - Dainik Bhaskar
यात्री कोई न कोई बहाना बनाकर निकल जाते हैं।

रोज करीब 3000 यात्री महाराष्ट्र से आते हैं, लेकिन भोपाल स्टेशन पर तैनात पैरामेडिकल स्टॉफ का कहना है कि 6 दिनों से बैठे हैं पर महाराष्ट्र से आए एक भी यात्री ने नहीं कराई आरटीपीसीआर जांच।

शाम 6:45 : भोपाल स्टेशन

प्लेटफॉर्म नंबर-1 से 5 यात्री निकलने ही वाले थे कि यहां पैरामेडिकल स्टाफ ने उन्हें रोका और पूछा कि कहां से आए हैं। उन्होंने बताया कि वो जीटी एक्सप्रेस से नागपुर से आए हैं। स्टाफ ने उनसे आरटीपीसीआर जांच कराने को कहा, लेकिन जैसे ही उन्हें जांच की फीस प्रति व्यक्ति 900 रु. बताई तो उन्होंने कहा-इतने पैसे नहीं हैं।

यह बताया कि स्लीपर क्लास में हम सभी का नागपुर से भोपाल तक का टिकट 1,275 रुपए था, ऐसे में वो प्रति व्यक्ति 900 रुपए देकर यहां जांच कैसे कराएं। स्टाफ ने यात्रियों से उनका टिकट लेकर प्लेटफॉर्म पर ही रुकने को कहा, 15 मिनट बाद ये यात्री 6 नंबर प्लेटफॉर्म की ओर से बिना जांच कराए स्टेशन से बाहर निकल गए।

और रात 9:20 बजे

पुष्पक एक्सप्रेस से उतरे एक यात्री से जब पैरामेडिकल स्टाफ ने पूछा तो उसने बताया कि वो मुंबई से आ रहा है। स्टाफ ने उससे आरटीपीआर रिपोर्ट मांगी, व्यक्ति ने जांच रिपोर्ट होने से इंकार कर दिया। स्टाफ ने उससे ऑन स्पॉट ही जांच कराने को कहा, लेेकिन जांच की फीस सुनकर व्यक्ति आनाकानी करने लगा। थोड़ी देर बाद व्यक्ति ने कान पर मोबाइल लगाते हुए कहा कि उसके बॉस भी आ रहे हैं, यह कहकर वो प्लेटफॉर्म की ओर गया और प्लेटफॉर्म नंबर-6 की ओर से निकल गया।

शासन ने तय किए 700 रुपए, यहां ले रहे 900

प्लेटफाॅर्म-1 पर तैनात पैथोलॉजिस्ट सुजीत चौहान ने बताया कि उनकी कंपनी को भोपाल स्टेशन पर आरटीपीसीआर जांच के अधिकृत किया है। वो पिछले 6 दिनों से स्टेशन पर शाम 3 बजे से रात 10 बजे तक रहते हैं। लेेकिन जयात्रियों को रोकते हैं, तो वो इतने पैसे (पहले 1200 रु., अब 900 रुपए) न होने का बहाना बनाकर जांच नहीं कराते हैं।

शासन ने आरटीपीसीआर जांच के 700 रुपए तय किए हैं। लेकिन यहां का 900 रुपए लिए जा रहे हैं। भोपाल रेल मंडल की ओर एसआरएल डायग्नोस्टिक्स को जांच के लिए अधिकृत किया है। कंपनी ने भोपाल में लोटस डायग्नोस्टिक्स को जांच की जिम्मेदारी दी है।

रेट में कटौती के बाद ...आरटीपीसीआर जांच कहीं बंद तो कहीं पुरानी दरों पर ही

शासन की ओर से निजी अस्पताल और लैब में कोराना की जांच दरों में कटौती की है। रेपिड एंटीजन जांच 300 और आरटीपीसीआर के लिए 700 रुपए तय किए हैं। हालांकि मंगलवार को कहीं आरटीपीसीआर जांच बंद थी तो कहीं पुरानी दरों पर ही की जा रही है। जेके अस्पताल में जांच नहीं की जा रही है।

प्रबंधन का तर्क है कि जो डॉक्टर लैब का काम देखते हैं, वे ही पॉजिटिव आ गए हैं। चिरायु के फोन नंबर 0755-2709100 पर कॉल करके पूछने पर बताया गया कि आरटीपीसीआर जांच 1200 रुपए में ही होगी। सीएमएचओ डॉ. प्रभाकर तिवारी ने बताया कि कोई तय दरों से ज्यादा पैसा लेगा तो कार्रवाई करेंगे।

डीआरएम बोले-एजेंसी कितने पैसे लेगी यह हम तय नहीं करते हैंं

  • भोपाल, हबीबगंज और संत हिरदाराम नगर स्टेशनों पर रेलवे की ओर से आने-जाने वाले यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग की जा रही है। महाराष्ट्र या अन्य राज्यों से आने वाले यात्रियों की आरटीपीसीआर कराना सरकार की जिम्मेदारी है। उन्होंने स्टेशन पर एजेंसी को नियुक्त किया है, वो कितने पैसे ले रही है, यह हम तय नहीं कर सकते। इस बारे में प्रशासन से ही बात कीजिए। - उदय बोरवणकर, डीआरएम, भोपाल
खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- व्यक्तिगत तथा पारिवारिक गतिविधियों में आपकी व्यस्तता बनी रहेगी। किसी प्रिय व्यक्ति की मदद से आपका कोई रुका हुआ काम भी बन सकता है। बच्चों की शिक्षा व कैरियर से संबंधित महत्वपूर्ण कार्य भी संपन...

    और पढ़ें