सार्थक एजुविजन-2021:कम से कम 50 साल आगे की सोचें, शिक्षा का इंडस्ट्री से तालमेल जरूरी

भोपाल9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रशासन अकादमी में केंद्रीय मंत्री ने किया लोकार्पण। - Dainik Bhaskar
प्रशासन अकादमी में केंद्रीय मंत्री ने किया लोकार्पण।
  • केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री गडकरी बोले

मैं शिक्षा के क्षेत्र का एक्सपर्ट नहीं हूं, लेकिन एक बात कहना चाहता हूं कि कम से कम 50 साल की प्लानिंग करें। किसी भी प्रोजेक्ट पर काम करने पहले यह जरूर मंथन करें कि आज से 50 साल बाद की क्या स्थिति होगी। शॉर्टकट मत मारिए, यह उस व्यक्ति को शार्ट कर देता है। आज भारत में जिस तरह से बदलाव हो रहे हैं, उसके लिए शिक्षण संस्थानों की महत्वपूर्ण भूमिका होगी।

उनके रिसर्च, बड़े प्रोजेक्ट्स के खर्चे कम कर सकते हैं। यह बात केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने प्रशासन अकादमी में सार्थक एजुविजन-2021 के लोकार्पण अवसर पर कही। उन्होंने कहा कि राजनीति में 5 साल के लिए विचार करना पड़ता है, लेकिन राष्ट्र के पुनर्निर्माण का विचार सेंचुरी टू सेंचुरी होता है। आंखें दान की जा सकती हैं, लेकिन दृष्टि नहीं। कई बार विजन की कमी बड़ी समस्या खड़ी देती है। वर्तमान दौर में जो विजन रखेंगे वे महत्वपूर्ण हैं।

देश की सड़कों को अमेरिकन, यूरोपियन रोड जैसा बना दिया जाएगा

पैसे की कमी नहीं आएगी...
गडकरी ने कहा कि यह मत सोचिए कि पैसा कहां से आएगा। पैसे की कमी नहीं है। हमने 17 लाख करोड़ के काम किए हैं। काम शुरू कीजिए। एमपी-गुजरात सीमा पर 24 घंटे में ढाई किमी की फोरलेन कांक्रीट रोड तैयार की गई। देश की सड़कों को अमेरिकन, यूरोपियन रोड जैसा बना देंगे।
...तो ऐसे में गौ हत्या भी रुकेगी
गडकरी ने बताया कि गोबर से इनेमल पेंट से आधी कीमत पर पेंट तैयार होने लगा है। यह एंटी फंगल है। अगर किसान से गांव-गांव में 5 रुपए किलो गोबर खरीदकर इसे तैयार करें और वहीं प्लांट लगाएं तो किसान समृद्ध होगा। ऐसे में गौ हत्या भी रुकेगी।

रिसर्च को बढ़ावा दें : शिवराज

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि शिक्षण संस्थान रिसर्च को बढ़ावा दें। सेवाभाव का गुण भी पैदा करें। उन्होंने कहा कि कोरोना वैक्सीनेशन के बाद लोगों में लापरवाही और बढ़ गई है, लेकिन जब कोरोनाकाल था तब लोगों ने दूसरों की बहुत सेवा की। इससे उन्हें बड़ा सुख मिला।

खबरें और भी हैं...