पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Trash Not Getting Up In Colonies For Three Days; Rickshaw Era Returns For Door to door Garbage Collection

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सफाई व्यवस्था फेल:कॉलोनियों में तीन-तीन दिन नहीं उठ रहा कचरा; डोर-टू-डोर कचरा कलेक्शन के लिए फिर रिक्शा युग की वापसी

भोपालएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मैजिक नहीं आ रहे, इसलिए निगम ने करीब 70 रिक्शे फिर लगाए
  • ड्राइवर बोले– डीजल का कोटा घटाया, अफसरों का तर्क- चोरी रोकने के लिए की है सख्ती
  • मैजिक नहीं आ रहे, इसलिए निगम ने करीब 70 रिक्शे फिर लगाए

राजधानी में डोर टू डोर कचरा कलेक्शन में साइकिल रिक्शा युग की वापसी हो गई है। त्रिलंगा, बावड़ियाकलां और कोलार रोड की कुछ काॅलोनियों में इन दिनों मैजिक गाड़ियों के बजाय रिक्शा से कचरा कलेक्शन हो रहा है। इनकी संख्या करीब 70 है। अब ऐसे में शहर में सफाई को लेकर नगर निगम की कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े हो रहे हैं। क्योंकि ये रिक्शे भी दो से तीन दिन में कचरा कलेक्शन के लिए जा पा रहे हैं। एक साइकिल रिक्शा दिनभर में 350 से 400 घरों से कचरा कलेक्शन कर पाता है, जबकि मैजिक इससे दोगुने घरों का कचरा ले जा सकता है। इसके अलावा रिक्शे में सेग्रीगेशन के लिए तीसरा कंटेनर नहीं है। स्वच्छ सर्वे के नए मापदण्डों के अनुसार तो चार कंटेनर की जरूरत है।

दरअसल, 2011 में भेल के कुछ वार्डों से डोर टू डोर कचरा कलेक्शन की शुरुआत हुई थी। उस समय 950 साइकिल रिक्शा थे। 2016 में नगर निगम ने साइकिल रिक्शा के स्थान पर मैजिक वाहनों से कचरा कलेक्शन शुरू किया। अब फिर निगम पुराने ढर्रे की ओर चल पड़ा है। त्रिलंगा कॉलोनी वेलफेयर सोसायटी के अध्यक्ष एमके विशंभर बताते हैं कि कॉलोनी में सप्ताह में तीन-तीन दिन तक कचरा नहीं उठता। जगह-जगह कचरे के ढेर लगे हुए हैं।

मॉनिटरिंग भी नहीं निगम कचरा कलेक्शन की गाड़ियों को तीन दिन में 20-24 लीटर डीजल देता है। मॉनिटरिंग में कमी होने और जीपीएस पर जोर नहीं देने का नतीजा है कि निगम अफसरों के पास इस बात का रिकाॅर्ड नहीं रहता कि किस गाड़ी ने आज कितने घरों से कचरा उठाया।

सेग्रीगेशन की व्यवस्था नहीं कोलार रोड की दानिशकुंज कॉलोनी में रहने वाले आरके चतुर्वेदी ने बताया कि साइकिल रिक्शा में न तो सेग्रीगेशन की व्यवस्था है और न यह पूरी कॉलोनी का कचरा ले जाने में सक्षम है। जब उन्होंने मैजिक ड्राइवर से इस बारे में पूछा तो उसका कहना था कि डीजल में कटौती हो गई है।

इन क्षेत्रों में अधिक समस्या है..
बावड़ियाकलां, त्रिलंगा, गुलमोहर कॉलोनी, शिवाजी नगर, अरेरा कॉलोनी, शिवाजी नगर, नेहरू नगर, कोटरा सुल्तानाबाद, सुभाष नगर, एमपी नगर, अशोका गार्डन, मंगलवारा, करोंद, गांधी नगर।

सीधी बात- वीएस चौधरी कोलसानी, निगम कमिश्नर

इमरजेंसी में कर रहे हैं उपयोग

  • कॉलोनियों में फिर से साइकिल रिक्शा से कचरा कलेक्शन शुरू हुआ है क्या वजह है? कॉलोनियों में इमरजेंसी में ही रिक्शा का उपयोग कचरा कलेक्शन में किया जा रहा है।
  • क्या डीजल का कोटा कम किया गया है, जिससे गाड़ी फेरे पूरे नहीं कर पा रही? डीजल के कोटे में कोई कटौती नहीं हुई है।
  • कचरा वाहन बड़ी संख्या में खराब हैं, इससे भी रोजाना कलेक्शन प्रभावित हो रहा है। कचरा कलेक्शन की यह समस्या कई चीजों से जुड़ी हुई है। कभी वाहन खराब तो कभी ट्रांसफर स्टेशन में समस्या है, कभी कुछ और समस्या है। सभी को दुरुस्त कर रहे हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- पिछले रुके हुए और अटके हुए काम पूरा करने का उत्तम समय है। चतुराई और विवेक से काम लेना स्थितियों को आपके पक्ष में करेगा। साथ ही संतान के करियर और शिक्षा से संबंधित किसी चिंता का भी निवारण होगा...

और पढ़ें