• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Trial With Dummy Transaction For 3 Days, So For The First Time The Property Tax Server Did Not Cheat

नेशनल लोक अदालत:3दिन डमी ट्रांजेक्शन से ट्रायल, इसलिए पहली बार प्रॉपर्टी टैक्स के सर्वर ने नहीं दिया धोखा

भोपाल2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
नेशनल लोक अदालत के पहले दिन में 15 हजार 187 लोगों ने अलग-अलग मदों में टैक्स व शुल्क चुकाए। - Dainik Bhaskar
नेशनल लोक अदालत के पहले दिन में 15 हजार 187 लोगों ने अलग-अलग मदों में टैक्स व शुल्क चुकाए।

नेशनल लोक अदालत के दिन पहली बार नगर निगम के सॉफ्टवेयर का सर्वर ठप या डाउन नहीं हुआ। यही वजह रही कि एक दिन में 15 हजार 187 लोगों ने अलग-अलग मदों में टैक्स व शुल्क चुकाए। ये आंकड़ा प्रदेश के 16 नगरीय निकायों में सबसे ज्यादा है। हालांकि, इस दौरान निगम सिर्फ 19.36 करोड़ ही जुटा पाया, जबकि टारगेट 21 करोड़ का रखा था। निगम कमिश्नर वीएस चौधरी कोलसानी ने बताया कि हर बार आने वाली सर्वर की परेशानी के लिए पहले से तैयारी की गई थी। इसके लिए सभी जोन-वार्ड दफ्तरों के करीब 200 ऑपरेटर्स की ट्रेनिंग करवाई गई थी।

करीब 17 दिन पहले इन सभी को शाम 6 बजे सर्वर पर एक मॉड्यूल खोलकर डमी ट्रांजेक्शन (1-2 रुपए के) करवाए गए। फर्जी चेक नंबर और पीओएस मशीनों से भी काम लिया गया था। पहली बार में पीओएस ने ठीक से काम नहीं किया। इसके हफ्तेभर बाद दूसरी बार ऐसा ही किया गया, फिर शुक्रवार शाम को भी एक कवायद की गई। नतीजा ये रहा कि शनिवार को नेशनल लोक अदालत में सर्वर डाउन या ठप होने की परेशानी नहीं आई।

रात 9 बजे तक कुल कलेक्शन
जल उपभोक्ता प्रभार - 3.60 करोड़ रुपए
इतने लोगों ने जमा किया - 3400
संपत्ति कर - 15.75 करोड़ रुपए
इतने लोगों ने जमा किया - 15187
कुल कलेक्शन - 19.36 करोड़ रुपए

खुद फोन कर किया जागरूक
नगर निगम ने इस बार संपत्ति कर और जलदर वसूली के लिए अलग-अलग तरीके अख्तियार किए थे। इनमें डबल खातों से जुड़ी परेशानियों को ठीक करना, एसएमएस भेजकर करदाताओं को कर जमा करने के लिए जागरूक करना भी शामिल है। जोन दफ्तरों में पहुंचकर खुद कमिश्नर ने करदाताओं को कॉल किया। यही वजह रही कि एक दिन में इतनी बड़ी संख्या में लोगों ने टैक्स जमा किया।

खबरें और भी हैं...