भोपाल में बच्चों के झगड़े में चलीं गोलियां:दो गुटों ने तलवारें लहराईं, लाठी-डंडे भी चले; गोली लगने से 5 साल के बच्चे समेत 5 घायल

भोपाल6 महीने पहले

भोपाल के ऐशबाग इलाके के खटीक मोहल्ले में दो दिन पहले बच्चों के बीच हुआ विवाद रविवार रात खूनी संघर्ष में बदल गया। एक पक्ष के तीन भाइयों ने दूसरे पक्ष पर फायरिंग कर दी। इस गोलीबारी में छर्रे लगने से दो महिलाएं और पांच साल के बच्चे समेत पांच लोग घायल हो गए। घायलों को प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया है। पुलिस ने हत्या के प्रयास का मामला दर्ज कर दो भाइयों को हिरासत में लिया है।

ऐशबाग पुलिस के मुताबिक खटीक मोहल्ले में 25 मार्च को अरविंद खटीक और अजय किरार के बीच बच्चों के विवाद को लेकर झगड़ा हुआ था। अजय की पत्नी के सिर में अरविंद के भाई ने बोतल मार दी। पुलिस ने दोनों पक्षों के खिलाफ मारपीट का केस दर्ज किया था। बाद में दोनों पक्षों में समझौता हो गया था।

रविवार को सुनीता के भाई राकेश चौधरी और विनोद चौधरी अपने-अपने परिवार के साथ ब्यावरा से सुनीता को देखने आए थे। इसी मोहल्ले में सुनीता की मौसी भी रहती है। राकेश और विनोद मोहल्ले में लोगों से बात कर रहे थे कि सुनीता की कोई गलती थी क्या। यह देख अरविंद और उसके भाई पवन और अर्जुन भड़क गए।

इसके बाद अरविंद ने लाइसेंसी बंदूक से घर की बालकनी से फायरिंग शुरू कर दी। मोहल्ले में भगदड़ मच गई। गोलियों के छर्रे राकेश, विनोद, दोनों की पत्नियों और सुनीता के पांच साल के बेटे को लगे। राकेश की गर्दन में छर्रे लगे हैं, जबकि एक महिला के सिर में भी छर्रा लगा है।

सुनीता के परिजन का कहना है कि अरविंद के साथ उसके भाई पवन, अर्जुन, पुरुषोत्तम और लक्ष्मण पांचों लोग फायरिंग कर रहे थे। एडिशनल डीसीपी श्रुतकीर्ति सोमवंशी का कहना है कि अरविंद खटीक ने लाइसेंसी बंदूक से गोली चलाई है। उसके भाई सहयोगी थे। अरविंद की तलाश की जा रही है।

आरोपियों ने छत से फायरिंग की।
आरोपियों ने छत से फायरिंग की।

चारों भाइयों ने गोलियां चलानी शुरू कर दीं
सुनीता के भांजे राहुल ने बताया कि सुनीता के भाई राकेश और विनोद शाम करीब साढ़े छह बजे मोहल्ले के लोगों से बात कर रहे थे। तभी अखिलेश, पवन, अर्जुन, पुरुषोत्तम बालकनी में आए। उन्होंने गाली-गलौज कर फायर करना शुरू कर दिया।

पांच साल के बेटे और भाई की गर्दन में लगी गोली
सुनीता ने बताया कि गोलियां चलते ही हम सब जान बचाकर भागे। गोली मुझे पैर में, पांच साल के बेटे किट्टू के पैर, पति अजय के हाथ, भाई राकेश की गर्दन, विनोद के हाथ, दोनों भाभी और मां इमरत को लगी। सुनीता का कहना है कि गोलियों से हमारे परिवार के आठ लोग घायल हो गए। आरोपियों ने पहले भी बोला था कि एक दिन बड़ी लड़ाई होगी। आज उन्होंने हमला कर दिया। आरोपी ठगेले परिवार करोंद मंडी में आड़तिया का काम करते हैं।

खबरें और भी हैं...