पुलिसवाले के रिश्तेदार हैं आदिवासी महिला को जिंदा जलाने वाले!:गुना की पीड़िता के पति का सनसनीखेज आरोप; राहुल गांधी ने भी उठाए सवाल

भोपाल3 महीने पहले

गुना जिले की बमोरी तहसील के धनोरिया गांव में दो दिन पहले डीजल डालकर जलाई गई आदिवासी महिला की हालत गंभीर है। उसे गुना से रेफर करने के बाद भोपाल के हमीदिया अस्पताल में भर्ती किया गया है। डॉक्टरों की मानें तो वह करीब 80% तक जल चुकी है। पीड़िता के पति ने इस वीभत्स घटना की कहानी बयां की है। उसने चौंकाने वाले खुलासे किए हैं। पुलिस पर आरोपियों से साठगांठ करने के आरोप लगाए हैं। पढ़िए, महिला पर बर्बरता की कहानी... उसके पति की जुबानी।

मेरा नाम अर्जुन है। मैं गुना के धनोरिया गांव का रहने वाला हूं, मेरी पत्नी खेत की मेढ़ बनाने के लिए रोज जाती थी। मेरे खेतों में दो औरतें सोयाबीन बोने लगीं, तो पत्नी ने उन्हें रोका, जिस पर वो कहने लगीं कि ये हमारा खेत है। पत्नी ने कहा कि ये मेरी जमीन है तो वे औरतें कहने लगीं कि हम तुझे डीजल डालकर मार देंगे। पहले तो उन महिलाओं ने धमकी दी, फिर उन औरतों ने मेरी पत्नी को खेत में पटक दिया और चार लोगों ने डीजल डालकर आग लगा दी। जब सुबह मेरी पत्नी के बयान हुए तब पता चला। हनुमत, प्रताप, श्याम और पंडित के साथ दो औरतों ने मिलकर आग लगाई है। जब राजा साहब (दिग्विजय सिंह) मुख्यमंत्री थे, तब हमें जमीन के पट्‌टे मिले थे। ये लोग सालभर से ज्यादा वक्त से परेशान कर रहे थे। एक बार मेरे साथ भी मारपीट की थी, तब मैंने पुलिस में रिपोर्ट की थी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। अब मैं चाहता हूं कि कड़ी कार्रवाई हो वरना मैं मर जाऊंगा। वे तो पहले भी मारने की धमकी देते थे, पुलिस में उनके रिश्तेदार हैं, मैं थाने जाता था पर कभी रिपोर्ट ही नहीं लिखी। मेरे पास FIR रखी है लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। मैं चाहता हूं कि मुझे इंसाफ मिले।

(जैसा कि पीड़िता के पति अर्जुन सहरिया ने बताया)

पीड़िता की हालत नाजुक

हमीदिया अस्पताल के बर्न एंड प्लास्टिक सर्जरी विभाग में भर्ती रामप्यारी सहरिया की हालत गंभीर है। डॉक्टरों की टीम उसकी निगरानी कर रही है। GMC के डीन डॉ अरविंद राय ने बताया कि वह करीब 80% तक जली हुई है। उसकी हालत अभी स्थिर है। उसकी लगातार निगरानी की जा रही है।

दिग्गी पहुंचे अस्पताल: 10 लाख मुआवजे की मांग

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने हमीदिया अस्पताल पहुंचकर डॉक्टरों से रामप्यारी बाई सहरिया की सेहत के बारे में पूछा। साथ ही पीडिता के पति अर्जुन से मिलकर उसे हरसंभव मदद का भरोसा दिया। दिग्विजय ने बताया कि गुना जिले की बमोरी तहसील के ग्राम धनोरिया में कांग्रेस शासनकाल में साढे़ 6 बीघा जमीन अर्जुन सहरिया को आवंटित हुई थी। जिस पर वह तब से खेती करता रहा। पिछले साल उसी गांव के कुछ दबंगों ने उसकी जमीन पर जबरन कब्जा कर लिया। कई बार शिकायत करने पर उसे मई के महीने में तहसीलदार द्वारा कब्जा दिया गया। लेकिन दबंग लोग उसे डराते धमकाते रहे। अर्जुन ने 23 जून को उसे जान से मारे जाने की धमकी की रिपोर्ट थाने में की। लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की। शनिवार को दबंग अर्जुन के खेत पर कब्जा कर उस पर ट्रैक्टर चला रहे थे। अर्जुन की पत्नी रामप्यारी बाई के मना करने पर उस पर डीजल डालकर जिंदा जला दिया। रामप्यारी मेरे निर्वाचन क्षेत्र राघौगढ़ के ग्राम भुलांय की हैं। शासन से मेरी मांग है कि रामप्यारी का पूरा इलाज मुफ्त में करवाया जाए। साथ ही 10 लाख रुपए का मुआवजा दिया जाए और दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए।

हमीदिया में डॉक्टरों से चर्चा करते दिग्विजय सिंह
हमीदिया में डॉक्टरों से चर्चा करते दिग्विजय सिंह

दिग्गी के भाई ने पुलिस की रिंगटोन पर उठाए सवाल

गुना में आदिवासी महिला को जलाए जाने के मामले पर दिग्विजय सिंह के छोटे भाई और चांचौडा से कांग्रेस विधायक लक्ष्मण सिंह ने पुलिस की रिंगटोन पर सवाल उठाए हैं। लक्ष्मण सिंह ने ट्वीट करते हुए लिखा- गुना जिले के ग्राम धनोरिया (बमोरी) में एक आदिवासी महिला को जलाकर फिर उसका वीडियो बनाने की घटना ने अमानवीयता की सभी हदें पार कर दी हैं। बहुत ही सख्त कार्रवाई इन "दुर्दांत" लोगों के विरुद्ध होना चाहिए। दूसरे ट्वीट में उन्होने लिखा कि, मध्यप्रदेश पुलिस ने एक गाना लॉन्च किया गया है जो अधिकतर उनके फोन की "कॉलर ट्यून" पर सुनाई देता है "निर्बल का है बल" गुना की वीभत्स घटना हुई तब पुलिस का "बल" कहां था?

मध्य प्रदेश पुलिस का एक गाना लॉन्च किया गया है जो अधिकतर उनके फोन की "कॉलर ट्यून" पर सुनाई देता है "निर्बल का है बल" गुना की वीभत्स घटना हुई तब पुलिस का "बल"कहां था? @INCMP @BJP4MP

राहुल गांधी ने भी दी प्रतिक्रिया।
राहुल गांधी ने भी दी प्रतिक्रिया।

आदिवासी महिला को डीजल डालकर जिंदा जलाया:गुना में 80% झुलसी; वो तड़पकर चीखती रही, आरोपी वीडियो बनाते रहे

खबरें और भी हैं...