• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • When The Children Became Orphans, Relatives Took Possession Of The Property; 14 Such Cases Reached The Children's Commission

कोरोना ने माता-पिता को छीना:बच्चे अनाथ हुए तो रिश्तेदारों ने संपत्ति पर कर लिया कब्जा; बाल आयोग में ऐसे 14 मामले पहुंचे

भोपाल10 महीने पहलेलेखक: वंदना श्रोती
  • कॉपी लिंक
महिला एवं बाल विकास विभाग कोरोना से मृत लोगों की प्रॉपर्टी उनके बच्चों के नाम कराएगा। - Dainik Bhaskar
महिला एवं बाल विकास विभाग कोरोना से मृत लोगों की प्रॉपर्टी उनके बच्चों के नाम कराएगा।

कोरोना की पहली लहर ने 13 साल की बच्ची के माता-पिता को छीन लिया। बच्ची अनाथ हुई तो उसके दो ताऊ ने पहले उसके पिता की भोपाल के बुधवारा स्थित दुकान पर, फिर घर पर कब्जा कर लिया। इसकी किशोरी ने बाल आयोग में शिकायत की। आयोग ने केस का निराकरण करने कलेक्टर भोपाल को लिखा।

अब यह केस एसडीएम जमील खान देख रहे हैं। यह अकेला मामला नहीं हैं। रिश्तेदारों द्वारा ऐसे बच्चों की प्रॉपर्टी हथियाने की अब तक 14 शिकायतें मप्र और राष्ट्रीय बाल आयोग में पहुंचीं। आयोग के आदेश पर अब महिला एवं बाल विकास विभाग ने प्रदेश के सभी कलेक्टर और विभाग के जिला कार्यक्रम अधिकारियों को ऐसे बच्चों को चिह्नित करने के निर्देश दिए हैं।

आयोग ने केस का निराकरण करने के लिए कलेक्टर भोपाल को लिखा है

1. दादी ने बेच दी थी प्रॉपर्टी

दूसरी लहर में अनाथ हुए 3 बच्चों का मकान दादी ने 40 लाख रुपए में बेच दिया। खरीदार जब घर खाली कराने पहुंचा, तब इसका खुलासा हुआ। इसके बाद 14 साल की बच्ची ने पूरी बात मामा को बताई। उन्होंने बाल आयोग, कलेक्टर से शिकायत की। मामले में स्थानीय प्रशासन ने कार्रवाई करते हुए बिका हुआ मकान बच्चों को वापस दिलाया। मामला इंदौर का है।

2.चाचा ने हस्ताक्षर करने को कहा

बाल आयोग में 3 बच्चों ने शिकायत की थी कि मां-बाप की मौत के बाद चाचा-चाची घर आकर रहने लगे, फिर मकान बेचने के लिए दबाव बनाने लगे। एक दिन उन्होंने कागज पर हस्ताक्षर करने को कहा। मना किया तो मारपीट शुरू कर दी। यह बात उन्होंने मामा-मामी को बताई तो मामा ने बाल आयोग में शिकायत की। फिर बच्चों का संरक्षण मामा को दिया गया। मामला जबलपुर का है।

हो रहा अमल- मप्र बाल अधिकार संरक्षण आयोग के सदस्य ब्रजेश चौहान ने बताया कि ऐसे बच्चों का फॉलोअप व उनके अधिकारों के संरक्षण के संबंध में मप्र शासन ने अमल करना शुरू किया है।

प्रॉपर्टी संरक्षण के लिए हो रहा सर्वे

  • कोरोनाकाल में माता-पिता को खोने वाले बच्चों की प्रॉपर्टी के संरक्षण के लिए महिला एवं बाल विकास विभाग एक सर्वे करा रहा है। ताकि, कानूनी प्रक्रिया के तहत बच्चों के नाम माता-पिता की संपत्ति ट्रांसफर हो सके। - डॉ. विशाल नाडकर्णी, संयुक्तसंचालक, महिला एवं बाल विकास