• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Will Return To The Panchayats, 70 Thousand Employees Will Also Participate In The Food Festival To Be Held Tomorrow, The Provincial President Said The Government Will Withdraw The Action

MP में पंचायतकर्मियों की हड़ताल खत्म:पंचायतों में लौटेंगे, कल होने वाले अन्न उत्सव में भी शामिल होंगे 70 हजार कर्मचारी, प्रांताध्यक्ष बोले- कार्रवाई वापस लेगी सरकार

भोपाल6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मंत्री महेंद्र सिंह सिसौदिया से मिलने और आश्ववासन  के बाद पंचायतकर्मियों ने हड़ताल वापस ले ली। - Dainik Bhaskar
मंत्री महेंद्र सिंह सिसौदिया से मिलने और आश्ववासन के बाद पंचायतकर्मियों ने हड़ताल वापस ले ली।

MP में बीते 15 दिन से आंदोलन कर रहे पंचायतकर्मियों की हड़ताल खत्म हो गई है। करीब 70 हजार कर्मचारी अब पंचायतों में काम पर लौटेंगे। साथ ही 7 अगस्त को होने वाले अन्न उत्सव में भी शामिल होंगे। मध्य प्रदेश पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग संयुक्त मोर्चा के प्रांताध्यक्ष दिनेश शर्मा ने कहा कि हड़ताल अवधि के दौरान प्रदेश में 1500 से अधिक कर्मचारियों पर एफआईआर, निलंबन एवं बर्खास्ती की कार्रवाई हुई थी। सरकार ने यह कार्रवाई वापस लेने का भरोसा दिलाया है। साथ ही मांगों के निराकरण करने की भी बात कही है। इसलिए हड़ताल समाप्त कर दी है।

दरअसल, गुरुवार को पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री डॉ. महेंद्र सिंह सिसौदिया से संयुक्त मोर्चे के विभिन्न संगठन के पदाधिकारियों ने मुलाकात की थी। इसके बाद वे बिना शर्त के हड़ताल समाप्त करने पर राजी हो गए। हालांकि, मंत्री डॉ. सिसौदिया ने संयुक्त मोर्चे के पदाधिकारियों को उनकी मांगों के संबंध में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को अवगत कराने का आश्वासन दिया है।

इन मांगों को लेकर की थी हड़ताल

  • खाली पदों को भरा जाए।
  • मृतक सचिवों के परिजनों को अनुकंपा नियुक्ति दी जाए।
  • सहायक यंत्री, उपयंत्रियों के पद भरे जाए।
  • कर्मचारियों को सुविधाएं दी जाए।
  • कामों में राजनीतिक दबाव समाप्त हो।
  • रोजगार सहायकों को स्थाई कर्मचारी घोषित किया जा। आदि

प्रदेश में डेढ़ हजार कर्मचारियों पर कार्रवाई, प्रांताध्यक्ष को जिलाबदर किया

पंचायतकर्मी भोपाल समेत प्रदेश के कई स्थानों पर अर्द्धनग्न होकर प्रदर्शन कर रहे थे। इसके अलावा मुंडन एवं मटके फोड़कर भी विरोध जता रहे थे। इस पर कैबिनेट मीटिंग में CM शिवराज सिंह चौहान ने नाराजगी जताई थी और अनुशात्मक कार्रवाई करने की बात कही थी। इसके बाद रतलाम, नीमच समेत कई जिलों में पंचायतकर्मियों पर एफआईआर, निलंबन व बर्खास्ती की कार्रवाई की जाने लगी। चार-पांच दिन में ही डेढ़ हजार से ज्यादा कर्मचारियों पर कार्रवाई हो चुकी है। प्रांताध्यक्ष शर्मा को भी मंदसौर कलेक्टर ने जिलाबदर भी कर दिया था।

समझा जा रहा है कि कार्रवाई के चलते कर्मचारी झूके और हड़ताल वापस ले ली। प्रांताध्यक्ष शर्मा ने बताया कि मंत्री ने अब तक हुई सभी कार्रवाई वापस लेने का आश्वासन दिया है। इस मसले पर 20 अगस्त को मीटिंग भी की जाएगी।

खबरें और भी हैं...