टीकाकरण:18+ वालों को अभी वैक्सीनेशन का करना होगा इंतजार, बाद में घोषित होगी तारीख

रायसेन6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
टीका लगवाने पहुंचे लोगों को वैक्सीन सेंटर बंद होने के कारण वापस जाना पड़ा। - Dainik Bhaskar
टीका लगवाने पहुंचे लोगों को वैक्सीन सेंटर बंद होने के कारण वापस जाना पड़ा।
  • 45 प्लस-60 प्लस वालों का पहले की तरह उन्हीं सेंटरों पर लगता रहेगा पहला और दूसरा टीका

18 प्लस के लोगों को कोरोना संक्रमण से सुरक्षा देने के लिए अब 1 मई से वैक्सीनेशन नहीं हो पाएगा। कारण पर्याप्त मात्रा में वैक्सीन के डोज वैक्सीन निर्माता कंपनियों से नहीं मिल पाए हैं। इसलिए सरकार ने वैक्सीनेशन को स्थगित करने का निर्णय लिया है जबकि 45 प्लस और 60 प‌लस वालों को पहला और दूसरा डोज पहले की तरह ही लगते रहेंगे।

वहीं जिले में 18 प्लस वालों को वैक्सीन लगाने के लिए सिर्फ चार सेंटर निश्चित कर लिए गए थे जिसमें जिला मुख्यालय पर उत्कृष्ट विद्यालय में टीकाकरण होगा, जबकि बरेली, बेगमगंज और मंडीदीप के कन्या हायर सेकंडरी स्कूलों में वैक्सीनेशन का सेंटर बनाया गया है।

यहां पर प्रतिदिन सिर्फ 100-100 लोगों को ही वैक्सीन लगाने का लक्ष्य तय किया गया है, लेकिन बाद में इनकी संख्या बढ़ाए जाने की बात कही जा रही है। जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. सोमन दास ने बताया कि 45 प्लस और 60 प्लस वाले लोगों ने जिस सेंटर पर पहला डोज लगवाया है, उन्हें दूसरा डोज भी उसी सेंटर पर लगाया जाएगा।

बिना वैक्सीन लगवाए ही वापस लौटे
शासन ने गुरुवार और शनिवार को वैक्सीनेशन स्थगित कर दिया, लेकिन उसका प्रचार-प्रसार नहीं हो पाया। इस कारण जिला क्षय केंद्र पर दूसरा डोज लगवाने के लिए गुरुवार की सुबह 5-6 लोग पहुंच गए थे, लेकिन यहां पर सेंटर बंद मिलने पर उन्हें निराश होकर लौटना पड़ा।

यहां पर दूसरा डोज लगवाने पहुंची ममता श्रीवास्तव ने बताया कि वे बड़ी उम्मीद से वैक्सीन का डोज लगवाने आई थी, लेकिन आज उन्हें दूसरा डोज नहीं लग सका। अब उन्हें सोमवार को आना पड़ेगा।

वैक्सीनेशन कार्य आगे बढ़ाया है
18 प्लस वालों को 1 मई से वैक्सीन लगाई जाना थी, लेकिन वैक्सीन की उपलब्धता नहीं होने के कारण प्रदेश सरकार ने 18 प्लस वालों का वैक्सीनेशन कार्य आगे बढ़ा दिया गया है। जिसकी तारीख बाद में घोषित की जाएगी। तब तक 18 प्लस वाले अपना पंजीयन कोविन पौर्टल पर करा सकते हैं।
-डॉ. सोमनदास, जिला टीकाकरण अधिकारी, रायसेन।

खबरें और भी हैं...