पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

799वां उर्स:30 किलो फूलों से सजाई दरगाह, आज होगा उर्स का समापन

रायसेन2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • भोपाल और रतलाम से मंगाए गए थे फूल, सात घंटे में सजकर तैयार हो पाई हजरत पीर फतेह की दरगाह

हजरत पीर फतेह उल्लाह शाह साहब की दरगाह पर 799वां उर्स चल रहा है। उर्स के अवसर पर गुरुवार को 30 किलो फूलों से दरगाह शरीफ को सजाया गया। गेंदा, सेवंती और गुलाब के यह फूल रतलाम और भोपाल से मंगवाया गया था। दरगाह को सजाने का काम बुधवार की रात में ही प्रारंभ हो गया था। दरगाह शरीफ को सजाने में करीब सात घंटे से अधिक का समय लगा। दरगाह शरीफ की देखरेख करने वाली खुददाम कमेटी ने दरगाह को फूलों से सजवाने के लिए राकेश माली को जिम्मेदारी सौंपी थी। राकेश माली ने अपने साथियों मिलकर दरगाह शरीफ को रात भर में सजाकर तैयार कर दिया। कोरोना संक्रमण के कारण ऐसा पहली बार हुआ है जब उर्स के मौके पर किसी प्रकार का कोई कार्यक्रम नहीं हो रहा है। नहीं तो यहां पर उर्स के मौके पर हर साल देशभर के नामचीन कव्वाल आकर अपने फन और हुनर की प्रस्तुति देते थे। जबकि बड़ी संख्या में लोग रात भर दरगाह शरीफ पर मौजूद रहकर कव्वालियों का आनंद उठाते थे। लेकिन इस बार कोरोना संक्रमण के कारण उर्स के सभी कार्यक्रम निरस्त कर दिए है। सिर्फ औपचारिक रूप से ही उर्स की गतिविधियों को अंजाम दिया जा रहा है। उर्स को लेकर लोग बाबा साहब की दरगाह पर पहुंचकर अकीदत के फूल और चादर चढ़ाकर दुआ मांग रहे है। हर साल दरगाह पर उर्स के मौके पर जो चहल पहल दिखाई देती थी, इस बार वह कोरोना संक्रमण के कारण नदारद है। कम संख्या में ही लोग यहां पर आ रहे हैं।

आज कुल की दुआ के साथ उर्स का होगा समापन
दरगाह शरीफ पर 799 वां उर्स 24 नवंबर को प्रारंभ हुआ था, जिसका समापन 27 नवंबर को कुल की दुआ के साथ होगा। इस दिन जायरीनों द्वारा लोगों की खुशहाली और अमन-चैन के लिए दुआ की जाएगी। उर्स के समापन अवसर पर कलेक्टर उमाशंकर भार्गव द्वारा शुक्रवार को स्थानीय अवकाश घोषित किया गया है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज ऊर्जा तथा आत्मविश्वास से भरपूर दिन व्यतीत होगा। आप किसी मुश्किल काम को अपने परिश्रम द्वारा हल करने में सक्षम रहेंगे। अगर गाड़ी वगैरह खरीदने का विचार है, तो इस कार्य के लिए प्रबल योग बने हुए...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser