पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अच्छी खबर:जून के पहले 5 दिन में संक्रमितों की संख्या में पांच गुना कमी, सभी पंचायतें रेड जोन से बाहर

रायसेन19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
रविवार को बंद रहा शहर का बाजार पसरा रहा सन्नाटा। - Dainik Bhaskar
रविवार को बंद रहा शहर का बाजार पसरा रहा सन्नाटा।
  • सभी ब्लॉकों में एक्टिव मरीज 1 से 10 के बीच
  • अब सभी पंचायतों में महज 37 एक्टिव केस

कोरोना संक्रमण को लेकर बीते महीने की तुलना में जून बड़ी राहत लेकर आया है। ऐसा इसलिए कि मई 2021 के पहले 5 दिनों की तुलना में यदि हम जून के 5 दिनों से करें तो परिणाम राहत भरा आ रहा है। मई के पहले 5 दिनों में जिले में कोरोना संक्रमण से 3 लोगों की मौतें हुई थीं, जबकि 825 कोरोना संक्रमित मरीज मिले थे। वहीं जून के पहले 5 दिनों में एक मौत हुई है और महज 44 संक्रमित मरीज मिले हैं।

इतना ही नहीं पहले जहां 12 पंचायतें रेड जोन में आ गई थीं, वहीं अब सभी पंचायतें रेड जोन से बाहर हैं यानि वहां अब 5 से भी कम संक्रमित मरीज बचे हैं । इस तरह से जून का पहला सप्ताह कोरोना संक्रमण को लेकर राहत भरा रहने वाला है। 5 जून की स्थिति में जिले में पॉजिटिव रेट 1.25, मृत्यु प्रतिशत 2.05, डिस्चार्ज मरीजों का प्रतिशत 96.68 पर आ गया। बीते दो महीने से चल रहा कोरोना संकट अब पूरी तरह से नियंत्रण में आ गया है। इससे अब फिर जिंदगी पहले की तरह पटरी पर लौटने से सभी को राहत मिलने लगी है ।
पांच ब्लॉकों में नहीं मिले एक भी मरीज
जिले में शनिवार को महज 7 मरीज मिले थे। इनमें से भी सांची में 4, सिलवानी में 1, बरेली मेंं 2 , जबकि बेगमगंज, औबेदुल्लागंज,गैरतगंज,उदयपुरा और रायसेन शहर में 1 भी कोरोना संक्रमित मरीज नहीं मिला, जबकि पहले इससे उलट स्थिति बनी हुई थी।

22 गांव ऑरेंज जोन में
4 से अधिक संक्रमित मरीज होने से गांव रेड जोन में माना जाता है। इससे कम मरीज होने पर औरेंज जोन, इस तरह से जिले में ऐसी एक भी पंचायत नहीं बची है, जहां 5 या 5 से अधिक मरीज हों। इस तरह से रेड जोन वाली पंचायतों की संख्या 0 पर आ गई है । वहीं ऑरेंज जोन में अभी भी 22 पंचायतें हैं। जबकि पहले 316 पंचायतों में संक्रमण पहुंच चुका था और 12 से अधिक पंचायतें रेड जोन में आ गईं थीं। सिलवानी की सांईखेड़ा पंचायत सबसे अधिक समय तक रेड जोन में रही । हालांकि रेड जोन से बाहर हो गई है।

जिला अस्पताल में महज 10 मरीज
जिला अस्पताल में कोविड के मरीजों के लिए 61 बेड हैं, लेकिन इनमें से महज 10 बेड ही भरे हुए हैं, जबकि 51 बेड खाली हैं। यह सुखद स्थिति अब जिले में बनने लगी हैं, जबकि पहले इसी जिला अस्पताल में एक भी बेड खाली नहीं मिलता था । कहीं गैलरी तो कहीं डॉक्टरों के कमरों में मरीजों को भर्ती करना होता था ।
पठारी जेल में 4 कैदी पॉजिटिव
जिले की पठारी जेल के चार बंदियों की रिपोर्ट रविवार को पॉजिटिव आई है । इनमें कैलाश (85), धनराज (35) , प्रदीप (35) और अरुण (22) शामिल हैं। जेल अधीक्षक हिमांगी मनवारे के मुताबिक बंदी स्वास्थ्य जांच के लिए जिला अस्पताल गए थे, हो सकता है वहां से संक्रमित हो गए हों । जेल के अंदर बंदी और कैदी संक्रमित नहीं हो सकते, उन्हें जेल में ही क्वारेंटाइन करा दिया गया है।
यह बेहतर टीम वर्क का परिणाम
शासन और स्वास्थ्य मंत्री के मार्गदर्शन में जिले की पूरी टीम ने बेहतर काम किया है। इसका परिणाम हम सब के सामने है, लेकिन अभी बहुत सावधान रहने की जरूरत है। कोरोना संक्रमण नियंत्रित तो हुआ है, लेकिन खत्म नहीं हुआ है, इसलिए सभी लोग वैक्सीन जरूर लगवाएं और दो गज की दूरी, मास्क है जरूरी पंच लाइन काे आत्मसात कर लें ।
-उमाशंकर भार्गव, कलेक्टर रायसेन

खबरें और भी हैं...