पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

हड़ताल का पांचवां दिन:नर्साें ने किया हवन, बाेलीं- शासन के लिए सद्बुधि मांगी

रायसेन25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
हड़ताल पर बैठी नर्सों ने सरकार की सद्बुद्धि के लिए किया हवन। - Dainik Bhaskar
हड़ताल पर बैठी नर्सों ने सरकार की सद्बुद्धि के लिए किया हवन।
  • 12 सूत्रीय मांगों को लेकर नर्सिंग स्टॉफ की चल रही है हड़ताल, किया प्रदर्शन

जिला अस्पताल में अपनी 12 सूत्रीय मांगों को लेकर स्थाई नर्सिंग स्टाफ ने पांचवें दिन बुधवार को भी काम बंद हड़ताल पर रहकर धरना दिया। धरना स्थल पर नर्सों ने पेवर ब्लॉक लगाकर वेदी तैयार की, उसके बाद शासन की सद्बुद्धि के लिए हवन किया।

अस्पताल परिसर में जिला अस्पताल का हड़ताली नर्सिंग स्टॉफ सुबह 8 बजे से लेकर 4 बजे तक धरना स्थल पर बैठ रही हैं। अध्यक्ष ममता मांझी के मुताबिक एसोसिएशन की प्रांत अध्यक्ष की उच्च स्तर पर मांगों को लेकर चर्चा चल रही है। निर्णय आने के बाद ही हड़ताल को लेकर आगे कुछ कहा जा सकेगा ।

डॉक्टरों को लगाई काली पट्टी : हड़ताली नर्सों ने बुधवार को जिला अस्पताल के डॉक्टरों को भी काली पट्टी लगाकर उनसे भी हड़ताल के लिए समर्थन मांगा। इसके बाद जिला अस्पताल के डॉक्टरों ने भी काली पट्टी लगाकर ही जिला अस्पताल में काम किया । इस तरह से उन्होंने भी नर्सों की मांगों को लेकर अपना समर्थन जताया ।

ये हैं नर्साें की प्रमुख मांगें

1. उच्च स्तरीय वेतनमान (सेकंड ग्रेड) अन्य राज्यों तरह मप्र में कार्यरत सभी नर्सेस को भी दिया जाए । 2. पुरानी पेंशन योजना लागू की जाए । 3. कोरोना काल में शहीद हुए नर्सिंग स्टाफ के परिजनों को अनुकंपा नियुक्ती देने के साथ 15अगस्त को राष्ट्रीय कोरोना योद्घा अवार्ड से सम्मानित किया जाए । 4. कोरोना काल में शासन स्तर पर जितनी भी घोषणाएं की गई हैं, उन पर अमल नहीं किया गया है । नर्सेस को सम्मानित कर दो वेतन बढ़ोतरी की जाएं । 5. 2018 के आदेश भर्ती नियमों में संसोधन करते हुए 70, 80प्रतिशत की जाए । प्रतिनियुक्ती समाप्त कर स्थानांतरण की प्रक्रिया शुरु की जाए । 6. कोरोना काल में भर्ती की गई अस्थाई नर्सों को स्थाई किया जाए । 7. समान कार्य के लिए सभी नर्सों को समान वेतन दिया जाए । 8. वर्षों से बंद पड़ी नर्सों की पदोन्नती की जाए ।

खबरें और भी हैं...