• Hindi News
  • Local
  • Mp
  • Bhopal
  • Raisen
  • The Caller To The Constable Said I Am Speaking ASP, Go To The Nearest Petrol Pump And Talk To The Pump Operator, Put 40 Thousand In The Account

कांस्टेबल की सूझबूझ से टली ठगी:कांस्टेबल को कॉल करने वाला बोला - ASP बोल रहा हूं, पास के पेट्रोल पंप पर जाकर पंप संचालक से बात कराओ, खाते में 40 हजार डलवा दो

रायसेन2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
रायसेन एडिशनल एसपी अमृत मीणा। - Dainik Bhaskar
रायसेन एडिशनल एसपी अमृत मीणा।

रायसेन के सलामतपुर में सोमवार को साइबर ठगी एक कांस्टेबल की सतर्कता से टल गई। रायसेन एडिशनल एसपी के नाम से एक व्यक्ति ने थाने पर कॉल किया और कहा कि पास के पेट्रोल पंप संचालक से बात करवाओ। उसने संचालक से 40 हजार रुपए एप के जरिए ट्रांसफर करवाने को कहा। कांस्टेबल को शक हुआ तो उसने सरकारी नंबर पर कॉल करने को कहा। जिसके बाद ठगी करने की कोशिश कर रहे व्यक्ति ने फोन काट दिया।

यह है मामला
सलामतपुर थाने के हेड कांस्टेबल प्रशांत सिंह परमार के पास सोमवार सुबह साढ़े 10 बजे मोबाइल नंबर 8503965183 से फोन आया। फोन करने वाले ने कहा - रायसेन एडिशनल एसपी अमृत मीणा बोल रहा हूं। तुम्हारे नजदीक में कौन सा पेट्रोल पंप है, वहां पहुंचो। प्रशांत ने कांस्टेबल शशांक दीक्षित को पेट्रोल पंप पर भेजते हुए कहा - इस नंबर पर बात करवा देना।

शशांक ने पेट्रोल पंप पहुंचकर उक्त नंबर पर कॉल किया तो उधर से कहा गया कि पेट्रोल पंप संचालक से बात कराओ और 40 हजार रुपए ऐप के जरिए ट्रांसफर करवा दो। इस पर कांस्टेबल को शक हुआ, उसने कहा कि आपकी आवाज हमारे एडिशनल एसपी से मैच नहीं हो रही है। मैं आपके सरकारी नंबर पर फोन करता हूं। तो सामने वाले ने मना करते हुए कहा कि इसी नंबर पर बात कर लो और फोन काट दिया।

एडिशनल एसपी ने जिले के पुलिसकर्मियों को किया सतर्क
फ्रॉड के मामले की जानकारी सामने आते ही रायसेन जिले के एडिशनल एसपी अमृत मीणा ने जिले के सभी थानों में मैसेज के माध्यम से पुलिसकर्मियों को सतर्क किया। ठगी करने वाले का मोबाइल नंबर 8503965183 भी मैसेज के माध्यम से थानों में उपलब्ध कराया है। इस नंबर पर किसी भी प्रकार की राशि ट्रांसफर नहीं करने की हिदायत दी है।

थाना प्रभारी सलामतपुर देवेंद्र पाल सिंह ने सोमवार सुबह थाने के हेड कांस्टेबल प्रशांत सिंह परमार के पास रायसेन एडिशनल एसपी अमृत मीणा के नाम से फर्जी फोन आया था। जिसमें नजदीकी पेट्रोल पंप पर जाकर ऐप के जरिए ट्रांसफर करवाने को कहा था। शशांक की सूझबूझ व समझदारी के चलते फ्रॉड होने से बच गया।

खबरें और भी हैं...